विज्ञापन
विज्ञापन
जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बांके बिहारी जी का अभिषेक एवं 56 भोग
Janamashtami Special

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बांके बिहारी जी का अभिषेक एवं 56 भोग

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

यूपी: अपहृत छात्र की हत्या कर फेंकी गई लाश, बदमाशों ने मांगी थी एक करोड़ की फिरौती

यूपी में अपराध बेकाबू होने के आरोपों का विपक्ष का स्वर अभी मंद भी नहीं पड़ा था कि रविवार रात बदमाशों ने ‘छोटी राजधानी’ में एक पान कारोबारी के 12 वर्षीय इकलौते पुत्र की अपहरण के बाद हत्या कर दी। अपहर्ताओं ने बच्चे की सकुशल वापसी के लिए एक करोड़ की फिरौती मांगी थी। 

बच्चे का शव सोमवार शाम घर से करीब सात किलोमीटर दूर नाले में फेंके गए एक बोरे में मिला। शुरूआती जांच में माना जा रहा है कि जहरीला इंजेक्शन देकर रविवार को ही बच्चे को मौत के घाट उतार दिया गया था। पुलिस ने अपहरण और हत्या के संदेह में एक महिला समेत चार लोगों को उठाया है। इन्हीं में से एक की निशानदेही पर ही पुलिस ने शव बरामद किया था। पुलिस का दावा है कि वह कातिलों के काफी करीब है।

पुलिस के मुताबिक, वारदात का शिकार किशोर बलराम गुप्ता (12) जंगल छत्रधारी के मिश्रौलिया टोला का रहने वाला था। उसके पिता महाजन गुप्ता घर में ही पान की दुकान चलाते हैं। जमीन का भी कारोबार करते हैं। चार बहनों का इकलौता भाई बलराम, रविवार दोपहर 12 बजे खाना खाने के बाद दोस्तों के साथ खेलने की बात कहकर घर से निकला था। 

उसके बाद नहीं लौटा। दोपहर में तीन बजे के करीब एक अंजान नंबर से महाजन गुप्ता के पास फोन आया। फोन करने वाले ने उनसे कहा कि तुम्हारे बेटे बलराम का अपहरण कर लिया गया है। साथ ही धमकाया कि एक करोड़ रुपये की फिरौती नहीं मिली तो बच्चे को कत्ल कर दिया जाएगा। महाजन ने जैसे-तैसे खुद को संभाला और रुपये का इंतजाम करने की बात कहकर फोन काट दिया। इसके बाद अपहर्ता का मोबाइल फोन स्विच ऑफ हो गया। हालांकि दस-दस मिनट के अंतराल पर उसका मोबाइल ऑन होता और धमकी भरा फोन आता था।




 
... और पढ़ें

मामूली बात से नाराज हुआ देवर, धारदार हथियार से भाभी की ले ली जान

महराजगंज जिले के कोतवाली ठूठीबारी क्षेत्र मेघौली कला गांव के टोला लमुहा में रविवार को दोपहर बाद देवर ने मामूली बात को लेकर अपने भाभी पर धारदार हथियार से हमला कर घायल कर दिया। उसके बाद मौके पर धारदार हथियार छोड़ फरार हो गया। 

वही देवर के हमले में घायल महिला की हालत बिगड़ते देख लोगों ने सामुदायिक स्वास्थ केंद्र निचलौल ले गए। जहां पर महिला की हालत नाजुक होते देख चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया। 

वहां हालत में सुधार नहीं होने पर चिकित्सकों ने मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया। इस दौरान महिला की रास्ते में मौत हो गई। महिला के मौत की सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया।
... और पढ़ें

गोरखपुर पुलिस की इस लिस्ट में चढ़ा बदमाश चंदन सिंह का नाम, अब ऐसे कसी जाएगी नकेल

सावधान! रेलवे में फर्जी नियुक्ति का निकला विज्ञापन, मांगा जा रहा था ऑनलाइन आवेदन

रेलवे में ग्रुप सी व डी के 5285 पदों पर आउटसोर्सिंग के माध्यम से फर्जी नियुक्ति प्रक्रिया शुरू होने का मामला प्रकाश में आया है। एक एजेंसी द्वारा बाकायदा विज्ञापन जारी कर अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। रेलवे ने इसे फर्जी और भ्रामक करार देते हुए मामले की जांच शुरू करा दी है। साथ ही अभ्यर्थियों से इस भ्रामक भर्ती के आवेदन से बचने की सलाह दी है।

अवेस्ट्रान इन्फोटेक की ओर से भारतीय रेलवे में 11 साल के अनुबंध पर भर्ती के लिए विज्ञापन भी प्रकाशित कराया गया है। जिसमें साक्षात्कार के आधार पर नियुक्ति की बात कही गई है। कनिष्ठ सहायक के लिए 600 पद, नियंत्रक पद के लिए 35, बुकिंग क्लर्क के लिए 430, गेटमैन पद पर 1200 कैन्टीन सुपरवाइजर पर 350, चपरासी के लिए 1460, केबिन मैन के लिए 780 तथा वेल्डर के लिए 430 पद पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए हैं।

उधर, जानकारी होने के बाद रेलवे ने ऐसी किसी भी भर्ती होने से इनकार किया है। रेल प्रशासन का कहना है कि रेलवे में भर्ती के लिए सिर्फ भारतीय रेल की ओर से विज्ञापन प्रकाशित होता है। ग्रुप सी एवं ग्रुप डी की विभिन्न श्रेणियों में भर्ती के लिए 21 रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) एवं 16 रेलवे रिक्रूटमेंट सेल (आरआरसी) कार्यरत हैं। किसी अन्य एजेंसी को नहीं लगाया गया है।

एनईआर के सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने कहा कि रेलवे में भर्ती को लेकर प्रकाशित विज्ञापन पूरी तरह से फर्जी है। रेलवे ने इस मामले में जांच शुरू करा दी है। इस मामले में सख्त कार्रवाई की जाएगी। युवाओं से अपील है कि वे इस तरह के झांसे में न आएं।
... और पढ़ें
रेलवे रेलवे

पिटाई से मौत की अफवाह पर ग्रामीणों ने पुलिस को दौड़ाया, तीन दिन पूर्व युवक को पकड़ी थी पुलिस

संतकबीरनगर जिले के कोतवाली क्षेत्र के गिरधरपुर गांव में पुलिस की पिटाई से युवक की मौत की अफवाह पर रविवार की देर शाम ग्रामीण उग्र हो गए। ग्रामीणों ने पुलिस को दौड़ा दिया और जीप पर पत्थर भी फेंके। पुलिस जीप लेकर भाग निकली। इधर सूचना पर रात में ही डीएम, एसपी, एएसपी, सीओ समेत कई थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सात जुलाई को गिरधरपुर गांव में एक शख्स के घर में छेड़खानी की नीयत से घुसने की सूचना पर 112 नंबर पुलिस ने काशीराम को पकड़ कर कोतवाली ले गई थी। पुलिस ने काशीराम का शांतिभंग की आशंका में चालान कर दिया था। एसडीएम कोर्ट से जमानत पर काशीराम छूटा और घर गया।

छेड़खानी के मामले में ही रविवार की देर शाम दोनों पक्षों में विवाद हो गया। विपक्षियों की पिटाई से काशीराम घायल हो गया। सूचना पर मगहर चौकी इंचार्ज आनंद सिंह सहयोगी पुलिस कर्मियों के साथ मौके पर पहुंच गए। चौकी इंचार्ज ने दोनों पक्षों को समझाया। उसी दौरान घायल काशीराम बेहोश हो गया।

किसी ने पुलिस की पिटाई से काशीराम की मौत होने की अफवाह फैला दी। जिसकी सूचना पर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और पुलिस को दौड़ा लिया। पुलिस जीप लेकर भागने लगी तो ग्रामीणों ने जीप पर ईंट-पत्थर फेंका। इधर सूचना पर डीएम, एसपी, एएसपी, सीओ, कोतवाल मौके पर पहुंच गए।
... और पढ़ें

एडीओ कृषि के बेटे ने खुद का किया ‘अपहरण’, मां से बोला- पैसे दो नहीं तो..

उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां कर्ज चुकाने के लिए एडीओ कृषि (सहायक विकास अधिकारी कृषि) के पुत्र और बीएससी नर्सिंग के छात्र ने खुद के अपहरण की कहानी रच दी। मां के मोबाइल पर संदेश भेजकर दो लाख रुपये की फिरौती मांगी।

तीन घंटे में रकम खाते में ट्रांसफर न होने पर हत्या की बात भी लिखी दी। घटना गुरुवार रात की है। सूचना पर सक्रिय हुई पुलिस ने आरोपी को बस्ती जिले के हर्रैया के पास से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
 
एसपी ब्रजेश सिंह ने बताया कि खलीलाबाद ब्लॉक में तैनात एडीओ कृषि हरिश्चंद त्रिपाठी ने गुरुवार की रात आठ बजे सूचना दी कि बेटा आशुतोष त्रिपाठी उर्फ लक्की अपहृत हो गया। वह ग्वालियर (मध्यप्रदेश) में बीएससी नर्सिंग का तृतीय वर्ष का छात्र है। हाल में बेटा घर पर आया था।
... और पढ़ें

मोबाइल पर गेम खेलना पड़ा भारी, मामूली बात से नाराज छात्र ने फंदे से लटककर दे दी जान

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के सहजनवां इलाके के लुचुई में गुरुवार को नौवीं के छात्र निखिल भट्ट (15) ने घर में ही फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। वह दो अन्य भाइयों के साथ मोबाइल फोन पर गेम खेल रहा था। इस दौरान उसकी किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

सहजनवां प्रतिनिधि के अनुसार कुंडा गांव के मूल निवासी विकास भट्ट लुचुई में मकान बनवाकर रहते हैं। वह रसद एवं खाद्य विभाग आजमगढ़ में सीनियर क्लर्क पद पर तैनात हैं और वहीं रहते हैं। लुचुई में उनकी पत्नी तीन बेटों आसू भट्ट, निखिल भट्ट व आर्यन भट्ट के साथ रहती हैं। आसू बीए द्वितीय वर्ष का और आर्यन कक्षा आठ का छात्र है। निखिल नौवीं में पढ़ता था।

इसे भी पढ़ें-
घर से पेन खरीदने निकला दसवीं का छात्र लापता

सुबह तीनों बच्चे मोबाइल फोन पर गेम खेल रहे थे। किसी बात को लेकर उनकी आपस में कहासुनी हो गई। जिसके बाद निखिल घर के दूसरी मंजिल पर चला गया। काफी देर तक नीचे न आने पर भाई आसू उसे ढूंढते दूसरी मंजिल पर गया तो उसने उसका शव फंदे से लटका पाया। परिजन उसे सीएचसी ले गए जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।
... और पढ़ें

पंचायत में मुलाकात के बाद प्रेमी युगल ने की थी शादी, नहीं पता था मिलेगी ऐसी 'दर्दनाक' मौत

सांकेतिक तस्वीर।

यहां प्रेमी युगल ने मंदिर में की थी शादी, अब पति पत्नी की फावड़े से काट कर हुई हत्या

मां की साथ बरामदे में सोई थी 11 माह की बच्ची, सुबह इस हाल में मिला शव

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां मां के साथ रात में सोई 11 माह की बच्ची का शव मंगलवार सुबह गांव के मंदिर के पास धान के खेत में पाया गया। बच्ची की मौत किन परिस्थितियों में हुई और शव कैसे खेत में पहुंचा। इससे लोग हैरान हैं।

मामला खेसरहा थाना क्षेत्र के कलनाखोर गांव है। जहां मायके में रह रही महिला की बच्ची की लाश मिली है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। क्षेत्र के कलनाखोर गांव के रामजी साहनी की पुत्री पारो (36) की शादी संतकबीर नगर जिले के  मेहदावल कस्बे में 6 वर्ष पूर्व रिंकू साहनी के साथ हुई है। पारो कुछ दिन पूर्व ही अपने दो बच्चों निखिल (4) और निध्या (11) माह के साथ अपने मायके कलनाखोर आई थी।

पिता के मुताबिक सोमवार की रात पारो अपने दोनों बच्चों के साथ घर के बरामदे में सोई थी। सुबह जब सोकर उठी तो उसकी बच्ची बिस्तर पर नहीं थी। परिजनों से उसे ढूढना शुरू कर दिया। इसी बीच ग्रामीणों ने परिजनों को दामोदर दास महंथ के धान के खेत में बच्ची की लाश होने ही सूचना दी। परिजन बच्ची की लाश को घर लेकर आए और घटना की सूचना पुलिस को दी।
... और पढ़ें

दंपती हत्याकांड में आया नया मोड़, पुलिस के हत्थे चढ़े ये दो लोग

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के गुलरिया इलाके के ठाकुरपुर नंबर एक के शंकरपुर टोला में अनरजीत और रीमा की हत्या मामले में पुलिस ने गांव के दो लोगों को संदेह के आधार पर उठाया है। पुलिस की जांच परिवार के इर्द-गिर्द ही घूम रही है। पुलिस को संदेह है कि इस प्रकरण में जरूर कोई करीबी शामिल है जिस वजह से वारदात हुई है। पुलिस का दावा है, जांच जारी है जल्द ही घटना का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, मंगलवार की देर रात दंपति के घर में सोते समय फावड़े से काटकर हत्या कर दी गई थी। बुधवार की सुबह रीमा का पिता बुलाने गया तो कोई आवाज नहीं आई जिसके बाद उसने बेटे और अन्य लोगों को सूचना दी थी। सूचना पर अनरजीत का भाई भी मौके पर पहुंच गया था और सभी लोग जब अंदर गए तो दोनों का शव अंदर पड़ा हुआ था।

डबल मर्डर की सूचना पाते ही डीआईजी राजेश डी मोदक, एसएसपी डॉ सुनील गुप्ता एसपी नार्थ अरविंद पांडे सीओ चौरी चौरा रचना मिश्रा फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए थे। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात पर हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है गांव के दो लोगों को संदेह के आधार पर उठाया गया है पुलिस का दावा है जल्दी असल आरोपी तक पुलिस पहुंच जाएगी।
... और पढ़ें

आत्महत्या करने से पहले से युवक ने बनाया लाइव वीडियो, कहा- जान, अब अगले जन्म में मुलाकात होगी

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक युवक ने आत्महत्या से पहले पेड़ पर चढ़कर फेसबुक लाइव किया और फंदे लटकर जान दे दी। मृतक का वीडियो वायरल होते ही जिले में हड़कंप मच गया।

कपिलवस्तु कोतवाली क्षेत्र पुनिहवा गांव निवासी विजय चौधरी (23) पुत्र शिवप्रकाश चौधरी रविवार सुबह घर से निकला और दोपहर बाद गांव से दो किलोमीटर दूर मोहाना थाना क्षेत्र के हरैया स्थित जंगल में उसका शव फंदे से लटकटा मिला।

विजय ने आत्महत्या करने से पहले फेसबुक लाइव किया। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि वह एक पेड़ पर चढ़ा हुआ है। रस्सी बांधने के बाद वह किसी मैसेज की बात कर अपनी बहन से माफी मांगता है। इसके बाद किसी प्रदीप का नाम लेता है।
 
... और पढ़ें

शाम को बकरीद का दिया दावत, सुबह घर में ही लटकी मिली लाश

पुरानी बस्ती थाना क्षेत्र के सिहारी गांव के 26 वर्षीय युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसका शव फंदे से लटका पाया गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी प्रकार की कानूनी कार्यवाही न करने के लिखित आश्वासन पर पंचनामा भरकर शव को अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौप दिया।

26 वर्षीय इमरान पुत्र महोम्मद रजा शनिवार को बकरीद के त्योहार के चलते दिन भर काफी व्यस्त रहा। शाम को उसने कुछ लोगों को घर बुलाकर दावत भी दिया। रात को नौ बजे तक भोजन आदि करने के बाद  मध्यरात्रि तक फ़िल्म आदि देखते रहे, फिर सब लोग अपने अपने कमरों में सोने चले गए। 

रविवार सुबह सभी लोग बाहर आए लेकिन इमरान अपने कमरे से बाहर नहीं आया। इस पर मां फातिमा खातून ने उसे बाहर आ कर चाय पीने के लिए आवाज लगाई लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।  

अनहोनी की आशंका में अन्य परिजनों के माध्यम से उस कमरे में जाने के लिए बाहर से लगे दूसरे शटर को उठाया गया तो सभी आवाक रह गए। इमरान रस्सी का फंदा लगाकर छत में लगी कुंदे के सहारे लटक रहा है। आनन-फानन में फंदा काटकर इमरान को नीचे उतारा गया। लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन