शिक्षक अवकाश पर, पठन-पाठन ठप

विज्ञापन
Gorakhpur Published by: Updated Tue, 29 Jan 2013 05:30 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
गोरखपुर। आवासीय विश्वविद्यालय महासंघ और गुआक्टा के संयुक्त आह्वभनान पर जिले की उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षक सोमवार को सामूहिक अवकाश पर रहे। उनके अवकाश पर रहने के चलते पठन-पाठन पूरी तरह से ठप रहा। शिक्षकों ने टाउनहाल स्थित गांधी प्रतिमा से जुलूस निकाला और यूनिवर्सिटी प्रशासनिक भवन पहुंचे। यहां पहले से चल रहे विश्वविद्यालय शिक्षकों के धरने में क ॉलेजों के शिक्षक भी शामिल हो गए। धरना स्थल पर पहुंचे कुलपति प्रो.पीसी त्रिवेदी ने शिक्षकों से मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन लिया और आश्वस्त किया कि इसे आज ही मुख्यमंत्री कार्यालय भेज दिया जाएगा।
विज्ञापन

सोमवार की सुबह टाउनहाल से निकला जुलूस टाउनहाल के गांधी प्रतिमा से मार्च निकलकर कचहरी चौराहा, गणेश चौराहा, चेतना तिराहा, इंदिरा बाल विहार, दिग्विजयनाथ पीजी कालेज, जिलाधिकारी आवास होते हुए यूनिवर्सिटी प्रशासनिक भवन पहुंचा। इसमें शामिल शिक्षक रास्ते भर सरकार विरोधी नारे लगाते रहे है। यूनिवर्सिटी के प्रशासनिक भवन के गेट पर चले धरने में शिक्षकों ने प्रदेश सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप भी लगाया। डॉ. मुकुंद शरण त्रिपाठी, प्रो.आरडी राय, प्रो. संजय बैजल, प्रो.ओपी पांडेय आदि का कहना था कि जुलाई 2012 और अगस्त 2013 में शिक्षकों की समस्या पर वार्ता के लिए मुख्यमंत्री को मांग पत्र दिया गया था। मुख्यमंत्री स्तर से वार्ता का आश्वासन भी मिला था लेकिन अब तक वार्ता की तिथि मुकर्रर नहीं हो सकी। उन्होंने कहा कि जनवरी 2006 से लागू नई वेतन योजना की शर्तों को अभी तक प्रभावी नहीं बनाया गया, न एरियर का भुगतान हुआ। इसके उलट सभी सरकारी कर्मचारियों के एरियर का भुगतान हो चुका है। यूनिवर्सिटी और कॉलेज शिक्षकों के वेतन की 80 फीसदी राशि का वहन केंद्र सरकार द्वारा किए जाने की बचन बद्धता के बावजूद एरियर का भुगतान नहीं हुआ। इसके अलावा जनवरी 2006 से लागू नई वेतन योजना एवं सेवा शर्तों को लागू न किए जाने से शिक्षकों की प्रोन्नति एवं नियुक्ति प्रक्रिया बाधित है। उन्होंने सरकार से शिक्षकों की सभी लंबित मांगों को अविलंब पूरा करने की मांग की। साथ ही चेताया कि मांग पूरी न होने की सूरत में शिक्षक परीक्षा कार्यों का बहिष्कार कर सकते हैं, इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी। इस बीच शिक्षक आज भी परीक्षा कार्यों से विरत रहे।

धरना और जुलूस में गुआक्टा के अध्यक्ष डॉ. श्रीशमणि त्रिपाठी और महामंत्री डॉ. भगवान सिंह, प्रो. जीएस तिवारी, प्रो.एपी शुक्ल, प्रो. राम प्रकाश, प्रो. विनोद श्रीवास्तव, प्रो. केएन सिंह, प्रो. आरपी सिंह, डॉ.सुधीर श्रीवास्तव, डॉ. विनोद कुमार सिंह,डॉ. शोभा गौड़ आदि शामिल थे। अध्यक्षता यूनिवर्सिटी शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ.उमेश नाथ त्रिपाठी ने की और उपाध्यक्ष डॉ. ध्यानेंद्र नारायण दुबे ने संचालन किया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X