डकैतों ने हत्या कर लूटपाट की

Gorakhpur Updated Sun, 23 Dec 2012 05:30 AM IST
गोरखपुर। मानबेला में एकाउंटेंट के घर डकैती के बाद लुटेरों ने इसी इलाके में रिटायर्ड टेक्नीशियन परमात्मा उपाध्याय के घर को निशाना बनाया। राप्ती नगर, मिलेनियम सिटी में दरवाजा तोड़कर घुसे डकैतों ने बेटे अभिषेक की हत्या कर दी और लाखों के गहने लूट लिये। शुक्रवार की रात करीब 45 मिनट तक डकैत कालोनी में तांडव मचाते रहे। शोर सुनकर जगे तीन घरों के लोगों को भी डकैतों ने बाहर से ही बंधक बना लिया। पड़ोसियों की सूचना पर पुलिस पहुंची, लेकिन पांच मिनट पहले ही डकैत घने कोहरे में फरार हो गए। आईजी समेत सभी पुलिस अधिकारियों और नगर विधायक ने घर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। एसएसपी ने गश्त पर तैनात सिपाही को निलंबित कर दिया जबकि थानाध्यक्ष को तीन दिन के भीतर खुलासा न होने पर कार्रवाई की चेतावनी दी है।
परमात्मा उपाध्याय (60) अपनी पत्नी शारदा देवी और बेटे अभिषेक (30) के साथ चिलुआताल के मिलेनियम सिटी में रहते हैं। शुक्रवार की रात सवा 11 बजे कुतिया लूसी अचानक भौंकने लगी। आहट होने पर परमात्मा ने दरवाजा खोला तो गेट के अंदर तीन-चार लोग खड़े थे। उन्होंने तुरंत दरवाजा बंद कर लिया। डकैतों ने टांगी से दरवाजा फाड़ डाला और सिटकनी खोलकर घुस गए। परमात्मा को डंडे से मारकर जख्मी कर दिया। पत्नी शारदा आगे आईं तो उन्हें भी घायल कर दिया। शोर सुनकर दूसरे कमरे में सो रहा अभिषेक पहुंचा और एक डकैत से भिड़ गया। अभिषेक ने एक डकैत को उठाकर पटक दिया। दूसरे पर वह झपटा था कि तीसरे डकैत ने डंडे से सिर पर मारने के बाद तमंचे से गोली मार दी। सीने में बाएं तरफ गोली लगते ही अभिषेक गिर गया। डकैतों ने शारदा देवी की सोने की चेन, चूड़ी और टॉप्स निकलवा लिया। एक डकैत ने बुजुर्ग दंपति को बंधक बना लिया और बाकी दूसरे कमरों में लूटपाट करने लगे। तीन कमरों की आलमारी, बेड, ब्रीफकेस तोड़कर बदमाशों ने पांच हजार कैश और तीन लाख से अधिक के गहने और सामान समेट लिया।
शोर सुनकर आसपास के लोग जग गए। पड़ोसी दो युवक बाहर निकले तो बाहर खड़े पांच-छह डकैतों ने उन्हें दौड़ा लिया। पड़ोसियों के घर में घुसकर डकैत दरवाजा पीटने लगे। उन्होंने बाहर निकलने या पुलिस को फोन करने पर जान से मारने की धमकी दी। डकैतों का दुस्साहस देखकर पड़ोसी भयभीत होकर घरों में छिप गए। एक पड़ोसी ने कंट्रोल रूम को सूचना दी जिसके बाद पुलिस पहुंची। हालांकि पुलिस के आने से पांच मिनट पहले ही बदमाश कालोनी के पीछे से फरार हो गए। एसएसपी समेत पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची, लेकिन घने कोहरे में डकैतों का पता नहीं चला। सुबह आईजी, डीआईजी, एसएसपी, नगर विधायक समेत तमाम लोगों ने मौके पर पहुंचकर पूछताछ की।


मां बाप के सामने ही तड़पकर मर गया बेटा
गोरखपुर। डकैतों के हमले में घायल बुजुर्ग पिता को देखकर अभिषेक आगबबूला हो गया। कमरे में घुसते ही वह डकैतों से भिड़ गया। मजबूत कद काठी का अभिषेक कम उम्र वाले (22-25 वर्ष) डकैतों पर भारी पड़ने लगा तो डकैतों ने उसे गोली मार दी। मां बाप बेटे को अस्पताल ले जाने के लिए गुहार लगाते रहे, लेकिन डकैतों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और अभिषेक की मौत हो गई।
चिलुआताल प्रतिनिधि के अनुसार मूल रूप से सिद्धार्थनगर, शोहरतगढ़, खरगवार के परमात्मा उपाध्याय ने सात साल पहले मिलेनियम सिटी में घर बनवाया था। वह 2004 में सेवानिवृत्त हुए थे। उनका बड़ा बेटा आशीष उपाध्याय साइंटिस्ट है जो परिवार के साथ बाहर रहता है। एक बेटी गुड़िया की शादी हो गई है जो बंगलुरु में इंजीनियर है। छोटे बेटे अभिषेक ने एसीसी सीमेंट की एजेंसी ली थी और करीमनगर चौराहे पर अभिषेक बिल्डिंग मैटेरियल नाम से उसकी दुकान थी। अभिषेक की शादी साल 2010 में हुमायूंपुर गोरखनाथ की सुप्रिया से हुई थी। सुप्रिया ऊधम नगर, जम्मू में नौकरी करती है वहीं रहती है। पत्नी के जम्मू में नौकरी करने को लेकर ही उसका अभिषेक से कुछ विवाद भी चल रहा था।
घर में डकैतों के हमले के बाद जमीन पर गिरने के बाद भी डकैत उससे डंडे से मारते रहे। बेटे को जमीन पर गिरा देखकर मां शारदा और पिता परमात्मा पर जैसे कहर टूट पड़ा। घर में घुसे डकैतों से वह बेटे को अस्पताल ले जाने देने की गुहार लगाने लगे। बुजुर्ग दंपति ने डकैतों को पूरा घर लूट ले जाने की छूट दे दी। वह किसी भी कीमत पर बेटे का इलाज कराने के लिए बिलख रहे थे। क्रूर डकैतों ने मां बाप की फरियाद को अनसुना कर दिया और घर लूटने में लगे रहे। शारदा देवी के बार बार कहने के बावजूद डकैत घर में ही जमे रहे और अभिषेक की मौत हो गई। घटना के बाद बिलख रहे मां बाप का कहना था कि हम बुजुर्गों को बचाने में बेटे की जान चली गई। हम उसे नहीं बचा सके।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रक और वन विभाग की गाड़ी में टक्कर के बाद विवाद, फिर हुआ ये

महराजगंज के जिला अस्पताल के पास ट्रक और वन विभाग की गाड़ी की टक्कर होने के बाद विवाद खड़ा हो गया। ट्रक चालक का आरोप है कि उसकी वन विभाग के कर्मचारियों ने जमकर पिटाई की है।

16 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper