रैली निकाल, प्रधानमंत्री का पुतला जलाया

Gorakhpur Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
गोरखपुर। पदोन्नति में आरक्षण बिल को लेकर बिजली विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में उबाल है। सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के बैनर तले विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने रैली निकाल कर प्रधानमंत्री का पुतला जलाया। कर्मचारियों ने पदोन्नति में आरक्षण बिल वापस नहीं लिए जाने पर आगामी चुनाव में खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी है।
विज्ञापन

बिजली विभाग के मुख्य अभियंता कार्यालय से रैली निकाल कर पीडब्लूडी, आरटीओ कार्यालय होते हुए अधिकारी और कर्मचारी टाऊन हाल चौराहा पहुंचे। वहां केन्द्र सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री का पुतला जलाया। टाउन हाल से कलक्ट्रेट ऑफिस होते हुए विकास भवन पहुंचे।
विकास भवन में सभा को संबोधित करते हुए समिति अध्यक्ष जयराम चौरसिया ने कहा कि एक पद पर समान वेतन पाने वाले कर्मचारी इस बिल के पास होने से अन्य वर्ग के कर्मचारियों से पहले प्रमोशन पाएंगे। इससे वरिष्ठ कर्मचारियों का शोषण होगा और ऑफिस की कार्य संस्कृति प्रभावित होगी। उन्होंने केन्द्र सरकार से आरक्षण बिल वापस लेने की मांग की। कहा कि बिल का समर्थन करने वाले पार्टी के नेताओं को आगामी चुनाव में गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। सभा को एके श्रीवास्तव, जीसी द्विवेदी, एके सिंह, घनश्याम मिश्र, धीरज सिंह, जेएन मिश्र आदि ने संबोधित किया।
तीसरे दिन भी कार्य बहिष्कार किया
गोरखपुर। प्रोन्नति में आरक्षण बिल के विरोध में सरकारी कर्मचारियों का कार्य बहिष्कार तीसरे दिन भी जारी रहा। कर्मचारियों ने बिल का समर्थन करने वाले दलों और सांसदों के बहिष्कार का एलान किया। विकास भवन पर प्रदर्शन कर कर्मचारियों ने केंद्र सरकार के खिलाफ लड़ाई का एलान किया। उन्होंने प्रधानमंत्री की प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली। कचहरी चौराहे पर पीएम का पुतला जलाया।
शनिवार को सभी विभागों के कर्मचारी पीडब्लूडी में इकट्ठा हुए। वहां से आल इंडिया फॉरवर्ड इम्प्लाइज एसोसिएशन के अध्यक्ष जेबी राय के नेतृत्व में पीएम की प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली
जेबी राय ने कहा कि दलित हितों के नाम पर आजादी के बाद से सवर्ण और पिछड़ों के साथ अन्याय जारी है। प्रोन्नति में आरक्षण को अवैधानिक करार देने के बाद भी सरकार सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को मानने को तैयार नहीं है। अब तक दो बार संविधान संशोधन कर सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय बदला जा चुका है। तीसरी बार वही होने जा रहा है। कर्मचारियों को वह स्वीकार्य नहीं है। बिल वापस होने तक उन लोगों की लड़ाई जारी रहेगी।
कार्यक्रम में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, रोडवेज इम्प्लाइज यूनियन, बिजली विभाग, सिंचाई विभाग, जल निगम, सेल्स टैक्स, डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ समेत अन्य कई संगठनों के लोग शामिल रहे।

बिल पास होने तक जारी रखेंगे आंदोलन
गोरखपुर। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले कर्मचारियों ने पुराना पावर हाउस पर बैठक कर आरक्षण बिल पास होने तक आंदोलन जारी रखने का एलान किया। कार्मचारियों ने आरक्षण को अपना अधिकार बताया और आरक्षण बिल के समर्थन में चार घंटा अतिरिक्त काम करने की बात दोहरायी।
बैठक में पीडब्लूडी, आरईएस, रेलवे, समाज कल्याण, टेलीफोन, दूरदर्शन, नगर निगम, एलआईसी, सहित अन्य कई विभागों के कर्मचारी शामिल हुए। इस अवसर पर मंडल संयोजक भागीरथी भारती ने कहा कि आरक्षण के समर्थन में सभी अधिकारी कर्मचारी विल पास होने तक आंदोलन जारी रखेंगे। इसके अतिरिक्त सभी कर्मचारी चार घंटा अधिक कार्य करेंगे। संगठन के सदस्यों ने प्रशासन से अनुरोध किया कि जो भी कर्मचारी हड़ताल के विरोध में कार्य कर रहे हैं उन्हें प्रशासनिक सुरक्षा प्रदान किया जाए। साथ ही हड़ताल पर गए कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। बैठक के दौरान एपी गौतम, लालचंद राम, केके भार्गव, पीएन प्रसाद, भागीरथी प्रसाद, संजय कुमार गौतम, अलख निरंजन, अखिलेश्वर चौधरी, विक्रम प्रसाद, राजेंद्र अग्रहरि आदि मौजूद रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us