मालगाड़ी -ट्रक भिड़ंत की जांच को कमेटी गठित

Gorakhpur Updated Tue, 11 Dec 2012 05:30 AM IST
गोरखपुर। चौरीचौरा स्टेशन के पास निबियहवां ढाला पर रविवार की भोर में पेट्रोलियम टैंक वैगन मालगाड़ी और ट्रक में हुई भिड़ंत मामले की जांच के लिए सोमवार को चार सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई। कमेटी को जल्द से जल्द जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है।
मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अमित सिंह के मुताबिक इस कमेटी में वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर प्रवीण कुमार, वरिष्ठ मंडल इंजीनियर राहुल श्रीवास्तव, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक जीएन दास और वरिष्ठ मंडल सिग्नल एवं दूर संचार इंजीनियर का नाम शामिल हैं। कमेटी ने सोमवार को दुर्घटना से संबंधित दस्तावेजों को जुटाने का काम शुरू कर दिया। मंगलवार को मालगाड़ी के चालक सुनील कुमार, गार्ड अरुण कुमार और मानव युक्त क्रासिंग पर तैनात गेट मैन दयाराम का बयान लिया जाएगा। इस पूरी घटना में गेटमैन के बयान को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
गेटमैन के मुताबिक मालगाड़ी के गुजरने के पहले दो और ट्रेनों के गुजरने की वजह से आधे घंटे से अधिक समय से वाहनों की कतार लग गई थी। मालगाड़ी की वजह से फाटक नहीं खोलने पर कुछ वाहन चालक भड़क उठे और उन्होंने उसकी पिटाई कर दी और चाभी छीनकर खुद गेट खोल दिया जिससे यह दुर्घटना हुई। जबकि सूत्रों के अनुसार स्थानीय लोगों ने ऐसी किसी घटना से इंकार किया है। वहीं गेट खुलने के बाद भी सिग्नल हरा था जबकि उसे लाल हो जाना चाहिए था। ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब गेटमैन से पूछताछ के बाद ही मिल पाएंगे।

आठ घंटे चली जरवल रोड मालगाड़ी हादसे की जांच
गोरखपुर/गोंडा। जरवलरोड व सरयू रेलवे स्टेशन के बीच सात दिसंबर को हुए रेल हादसे की जांच के लिए गठित पांच सदस्यीय कमेटी ने सोमवार को गोंडा के रेलवे गेस्ट हाउस में अफसरों-कर्मचारियों के बयान दर्ज किए। करीब आठ घंटे तक चली इस जांच के दौरान अलग-अलग 17 रेल अधिकारियों व कर्मचारियों के बयान दर्ज किए गए । यह कमेटी मंगलवार को गोरखपुर में भी अफसरों-कर्मचारियों से पूछताछ करेगी।
जांच कमेटी में मुख्य संरक्षा आयुक्त एनके अम्बिकेश के अलावारेलवे सुरक्षा बल के आईजी सी. दामोदरन, चीफ ट्रैक इंजीनियर यूएसएस यादव व चीफ रोलिंग इंजीनियर संजीव किशोर शामिल हैं। कमेटी के सदस्य सुबह साढे़े नौ गोंडा पहुंचे और 10 बजे से जांच शुरू की। इस दौरान जिन अफसरों-कर्मचारियों से बयान लिये जाने थे, उनके अलावा कुछ रेल अफसरों को छोड़ किसी को भी गेस्ट हाउस में प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा था। उधर इतनी बड़ी संख्या में अफसरों-कर्मचारियों से पूछताछ को लेकर रेल महकमें में तरह-तरह की चर्चाएं हो रहीं थी।
जिन अफसरों-कर्मचारियों से पूछ-ताछ हुई वे सभी इंजीनियरिंग, परिचालन व सिग्नल विभाग के हैं। पूछ ताछ में मंडलीय कार्यालय से अपर मंडल रेल प्रबंधक एमके अग्रवाल, सीनियर डीएसओ मनोज कुमार सिंह, सीनियर डीएमई कैरेज एंड वैगन लोकेश सिंह व सीनियर डीओएम नीलिमा सिंह ने कमेटी को सहयोग किया। जांच कमेटी के सदस्य एवं मुख्य संरक्षा आयुक्त एमके अम्बिकेश ने बताया कि जांच चल रही है। रिपोर्ट महाप्रबंधक को सौंप दी जाएगी। इसके बाद ही कोई कार्रवाई होगी।

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

आलू किसानों पर यूपी के कृषि मंत्री का बड़ा बयान

यूपी में आलू किसानों की हालत क्या है इससे पूरा देश वाकिफ है। यूपी के अलग-अलग शहरों में सड़कों पर आलू फेंके जाने की तस्वीरें सामने आती हैं। ऐसे में यूपी के कृषि मंत्री ने ये आश्वासन दिया है कि आलू किसानों के साथ अन्याय नहीं किया जाएगा।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper