वनटांगिया मजदूरों ने किया हाइवे जाम

Gorakhpur Updated Mon, 26 Nov 2012 12:00 PM IST
गोरखपुर। वनटांगिया मजदूरों ने रविवार को कुसम्ही जंगल में तेजू नर्सरी के सामने कुशीनगर हाइवे जाम कर दिया। उनका आरोप था कि पुलिस और वनकर्मियों ने वनटांगिया मजदूर संभारू की दीवाल गिराकर झोपड़ी में आग लगा दी। जाम में फंसे डीआईजी ने मौके पर पहुंचकर मजदूरों को शांत कराया और जाम खुलवाया। वन विभाग का कहना था मना करने के बावजूद मजदूर वन विभाग के वर्जित क्षेत्र में निर्माण कार्य करा रहा था। उधर, मौके पर पहुंचे एसपी सिटी ने भारी मात्रा में लहन देखकर मजदूर को हिरासत में ले लिया।
तिनकोनिया रेंज की रामगढ़ बीट में आमबाग नर्सरी है। यहां का संभारू अपने छप्पर के बगल में दीवार बनवाकर निर्माण कार्य करा रहा था। जिस जगह उसका निर्माण कार्य चल रहा है वह वन विभाग का वर्जित क्षेत्र है, जहां पक्का निर्माण नहीं हो सकता है। शनिवार को वन विभाग के कर्मचारियों ने उसके घर जाकर निर्माण कार्य रुकवाया था। रविवार की सुबह उसने दोबारा निर्माण कार्य शुरू करा दिया।
कुसम्ही और जगदीशपुर प्रतिनिधियों के अनुसार सुबह करीब 11 बजे वन विभाग की टीम थाने के दो सिपाहियों के साथ मौके पर पहुंची और निर्माण रुकवा दिया। मना करने के बावजूद वर्जित क्षेत्र में निर्माण कराने के आरोप में पुलिस ने संभारू को हिरासत में ले लिया। इसी बीच संदिग्ध परिस्थितियों में संभारू की झोपड़ी में आग लग गई और बनी हुई दीवाल किसी ने गिरा दी। गांव वालों ने पुलिस और वन कर्मियों पर दीवाल गिराने और झोपड़ी में आग लगाने का आरोप लगाकर हंगामा शुरू कर दिया। कुछ ही देर में सैकड़ों की संख्या में वनटांगिया मजदूर गोरखपुर-कुशीनगर हाइवे पर आ गए। तेजू नर्सरी के सामने जाम लगाकर मजदूरों ने आरोपी पुलिस और वनकर्मियों पर कार्रवाई की मांग पर अड़ गए।
इसी बीच डीआईजी मुथा अशोक जैन उधर से कसया जा रहे थे। जाम देखकर वह खुद प्रदर्शनकारियों के पास पहुंचे और उनका पक्ष सुना। उन्होंने आरोपियों की जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन दिया, जिसके बाद जाम खुला। करीब आधे घंटे तक जाम लगने से दोनों तरफ गाड़ियों की कतार लगी रही। डीआईजी के जाम में फंसने की सूचना पर पहुंचे एसपी सिटी, एसओ खोराबार ने लोगों को वहां से हटवाया और घटनास्थल की जांच की। एसपी सिटी के घटनास्थल पर पहुंचते ही वनटांगिया मजदूरों ने नारेबाजी शुरू कर दी।

कच्ची की भट्ठियां देखकर एसपी हैरान
एसपी सिटी परेश पांडेय झोपड़ी जलाने और दीवाल गिराने के आरोपों की जांच करने घटनास्थल पर पहुंचे। एसपी ने वहां कच्ची शराब की दर्जन भर भट्ठियां और लहन के कई बोरे देखकर हैरत में पड़ गए। उन्होंने एसओ से भट्ठियां के बारे में पूछताछ शुरू की तो वह सन्न रह गए। उन्होंने भट्ठियों के संचालक के बारे में पता किया तो संभारू की पत्नी विद्यावती ने बताया कि ये भट्ठियां उसी की हैं। एसपी ने वहां मौजूद करीब 20 बोरा लहन को नष्ट कराने के बाद संभारू की पत्नी के खिलाफ आबकारी और पुलिस एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने के निर्देश दिया। उन्होंने जाम लगाने के आरोपों में भी कार्रवाई की बात कही। पुलिस का आक्रामक तेवर देखकर वहां मौजूद कच्ची शराब के कई और धंधेबाज वहां से भाग गए।

पड़ोसी वन विभाग के कर्मी की साजिश
संभारू के घर वालों का कहना था कि अनुसूचित जन जाति और अन्य परंपरागत वन अधिनियम 2007 के तहत संभारू के पिता हरिशचंद्र को गाटा संख्या 434 में तीन डिस्मिल जमीन आवास के लिए और सात डिस्मिल जमीन कृषि कार्य के लिए आवंटित की गई थी। वह इसी पर काबिज हैं और काम कर रहे थे। वन विभाग के एक वाचर का मकान उसके घर के बगल में है। संभारू की जमीन पर वाचर की नजर है और विभाग की मिलीभगत के साथ वह उस जमीन पर कब्जा करना चाहता है।

मना करने के बावजूद नहीं माने मजदूर
वन विभाग के रेंजर जयराम सुमन ने बताया कि जिस जमीन पर दावा जताया जा रहा है वह मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। वन विभाग ने उसे वर्जित क्षेत्र घोषित कर रखा है। निर्माण की सूचना पर वन विभाग के कर्मचारी एक दिन पहले उसे मना करके आए थे, लेकिन वह नहीं माना। रविवार को पुलिस के साथ कर्मचारी गए थे और आरोपी को हिरासत में ले लिया था। घर गिराने और झोपड़ी जलाने का आरोप बिल्कुल गलत है। ऐसा उन लोगों ने खुद माहौल बनाने के लिए किया है।

माहौल बिगाड़ने वालों पर होगी कार्रवाई
एसपी सिटी परेश पांडेय ने बताया कि अगर किसी वर्जित क्षेत्र में कोई कब्जा करने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिन दो सिपाहियों पर झोपड़ी जलाने और घर गिराने का आरोप है उनकी जांच कराई जाएगी।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

‘पद्मावत’ का विरोध करने वालों ने कहा, सिनेमाघरों के अंदर करेंगे ब्लास्ट

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद देश के कई हिस्सों में ‘पद्मावत’ का विरोध जारी है। यूपी के महराजगंज में विरोध कर रहे लोगों ने कहा कि अगर फिल्म रिलीज होती है तो हम सिनेमा घरों में ब्लास्ट कर देंगे।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper