पुलिस की लापरवाही से हुआ बवाल

Gorakhpur Updated Sat, 03 Nov 2012 12:00 PM IST
गोरखपुर। राजघाट का चकरा अव्वल अमरूद बगीचा कच्ची शराब और स्मैक के कारोबार का अड्डा बना हुआ है। धंधे की प्रतिस्पर्धा के कारण दोनों पक्षों के बीच विवाद काफी दिनों से चल रहा है। शुक्रवार का विवाद पुलिस की लापरवाही के कारण हुआ। दशहरा के दिन हुई दोनों पक्षों की मारपीट में पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार किया होता तो शायद यह बवाल नहीं होता। टीपी नगर पुलिस ने लापरवाही बरतते हुए अभियुक्तों को गिरफ्तार नहीं किया। एसपी सिटी ने प्रभावी कार्रवाई करते हुए राजघाट पुल के पटरी पर अब किसी के ठेला न लगाने का निर्देश दिया है।
राजघाट पुलिस पर एक पक्ष का हमला करने का सबसे बड़ा कारण खुद पुलिस है। अक्सर विवाद के बाद पुलिस एक पक्ष के साथ खड़ी हो जाती थी। सूत्रों की माने तो राजघाट में सारे अवैध धंधे खटिक बिरादरी के लोग करते हैं। धंधे में प्रतिस्पर्धा के कारण निषाद पक्ष से उनकी दुश्मनी चल रही है। पुलिस दोनों पक्षों को शह देती है। निषाद पक्ष के लोग दशहरा में हुई मारपीट की घटना में एक तरफ मुकदमा दर्ज करने और शुक्रवार को उनकी समस्या न सुनने के कारण गुस्से में थे। घटना के बाद उपद्रवियों को ढूंढने के लिए पुलिस ने गांव में दबिश दी। पकड़े जाने के भय से गांव के लोग घरों में ताला बंद कर भाग निकले। जिन घरों में महिलाएं थी उन्होंने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया।

एकतरफा कार्रवाई करती है पुलिस
चकरा अव्वल गांव की ऊषा पत्नी बृजभान निषाद ने बताया कि राजघाट पुलिस हमेशा एकतरफा कार्रवाई करती है। पुल पर बवाल होने के बाद महिलाओं को पीटा गया। वीरेंद्र साहनी के दरवाजे पर खड़ी मोटरसाइकिल भी पुलिसकर्मी उठा ले गए।

मुझे फंसाया गया : पार्षद
वार्ड नंबर 30 के पार्षद रविंद्र निषाद ने कहा कि मारपीट और पथराव में वह शामिल नहीं था। स्थानीय लोगों के साथ पुलिस भी यह बात जानती है। चुनावी रंजिश के कारण हर झगड़े में उसका नाम डाल दिया जाता है। शुक्रवार की सुबह 8 बजे वह पुलिस चौकी पर एक आदमी की परेशानी लेकर गए थे।

प्रापर्टी डीलर ने भी बढ़ाया विवाद
चकरा अव्वल मोहल्ले में दो पक्षों के बीच मारपीट का कारण गांव का एक प्रापर्टी डीलर है। दशहरा में हुए विवाद में वह एक पक्ष के साथ खड़ा था। शुक्रवार को विवाद बढ़ने बढ़ने में भी उसकी भूमिका बताई जा रही है। प्रापर्टी डीलर के गलत कार्यों का पार्षद ने कई बार विरोध किया था। मौका पाकर वह विरोध करने वाले लोगों को इस विवाद में लपेट रहा है।

अभी तक नहीं हुई है गिरफ्तारी
26 अक्टूबर को चकला अव्वल में मूर्ति विसर्जन के दौरान दो पक्षों में मारपीट हो गई थी। निषाद पक्ष के लोगों ने खटिक पक्ष के कई लोगों को मारपीट कर घायल कर दिया था। उधर राज कुमार निषाद की माता अनारी देवी का आरोप है कि खटिक पक्ष के लोगों ने उनके घर में लूटपाट कर झोपड़ी में आ लगा दी थी। राजघाट पुलिस ने अशोक सोनकर की तहरीर पर रवींद्र निषाद, कोइल निषाद, भोकई, सुनील सुधीर, विक्की और अज्ञात लोगों के खिलाफ मारपीट और दलित उत्पीड़न का केस दर्ज कर लिया था। मुकदमा दर्ज करने के बाद भी पुलिस ने किसी की गिरफ्तारी नहीं की थी।


राजघाट पुलिस पर हमला करने वाले कच्ची शराब और स्मैक के धंधेबाज हैं। सभी को चिह्नित कर लिया गया है। हमलावरों के साथ इन लोगों पर भी प्रभावी कार्रवाई होगी। धंधेबाजों पर गैंगेस्टर लगाया जाएगा। शह देने वाले पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई होगी। एक सिपाही का नाम प्रकाश में आने के बाद उसे लाइन हाजिर कर दिया गया है।
परेश पांडेय, एसपी सिटी

Spotlight

Most Read

Lucknow

ब्राइटलैंड स्कूल में छात्र को चाकू मारने वाली छात्रा को मिली जमानत

ब्राइटलैंड स्कूल में कक्षा एक के छात्र रितिक शर्मा को चाकू से गोदने की आरोपी छात्रा को जेजे बोर्ड ने 31 जनवरी तक के लिए शुक्रवार को अंतरिम जमानत दे दी।

19 जनवरी 2018

Related Videos

महाराजगंज में AAP का प्रदर्शन, गायों को लेकर की ये बड़ी मांग

पूर्वी यूपी के महाराजगंज में बुधवार को आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं का ये प्रदर्शन मधवलियां गोसदन में गायों की मौत के मामले में कसूरवारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हुआ।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper