परदेसी बड़ा दांव दे गया रे ....

Gorakhpur Updated Tue, 02 Oct 2012 12:00 PM IST
गोरखपुर। आकाशवाणी गोरखपुर केंद्र के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर कवि सम्मेलन, संगीत संध्या का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन में तारकेश्वर मिश्र राही, अनीता अग्रवाल, रविंद्र श्रीवास्तव जुगानी भाई, रामनरेश मिश्र निरमोही समेत कई कवियों ने काव्यपाठ किया।
तीन चरणों में विभाजित सोमवार का ‘समवाय’ नामक कार्यक्रम विचार सत्र, संगीत और कवि समागम पर आधारित रहा। भोजपुरी और उर्दू पर आधारित काव्यपाठ में पूर्वांचल के जाने माने कवियों ने कविता, गीत प्रस्तुत किया। तारकेश्वर मिश्र राही ने ‘परदेसी बड़ा दाव दे गया रे, कह के आया नहीं घाव दे गया रे’ की प्रस्तुति के साथ ही ‘क्या कहे किस तरह से जीते हैं, अश्क घूंट घूंट कर पीते हैं, जिंदगी एक पुरानी चादर है, रोज फटती है रोज सीते हैं’ के माध्यम से जीवन में आने वाली कठिनाईयों को दर्शाया। रविंद्र श्रीवास्तव जुगानी भाई ने ‘ओइसे त खरीदारन क पहिलकी पसंद जियतार मछली होले। ताजी मछरी दूसरे नंबर पर, कसम बजारी के चलन के। सड़ल से सड़ल मछरी के उपर खून छिरकत भर में ओकर भाव बढ़ि जाला’ की प्रस्तुति की।
आचार्य मुकेश ने ‘कुअवां के कूड़ी बनल हमरो जिनिगियां घवाई गईल राम। देखी सगरो सपनवां हेराई गइले राम’। की प्रस्तुति कर रिश्तों में आती जा रही दरार को कम करने का संदेश दिया। रामनरेश मिश्रा निरमोही ने ‘आज जनता ह त्रस्त्र ह उदास आमो खास, आज जइसे लेटर बाक्स ह चिटठी बिना उदास’। कविता के माध्यम से जन समस्याओं पर प्रकाश डाला। इसके साथ ही उर्दू कवियों में इदरीस मेकरानी, मैकस आजमी सहित कई कवियों ने काव्यपाठ प्रस्तुत किया।

कलाकारों की जुगलबंदी से मंत्रमुग्ध हुए श्रोता
आकाशवाणी परिसर में आयोजित संगीत संध्या में कलाकारों की जुगलबंदी देख श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए। लोकगायक राकेश श्रीवास्तव, राकेश उपाध्याय, चेता सिंह, उर्मिला शुक्ला, रंजना श्रीवास्तव, शीला अग्रहरि, रामदरश, सुशीला उपाध्याय सहित कई कलाकारों ने एक से एक शानदार गीतों की प्रस्तुति कर शमा बांधा। सभा में ‘होखी ना सहाय हे गणनायक देवा’ गणेश वंदना के साथ कार्यक्रम की शुरूआत हुई। इसके बाद राकेश श्रीवास्तव, राकेश उपाध्याय, संतराज गोरखपुरी आदि ने ‘हम त चरखा से ले लेहली स्वराज’ स्वराजी गीत गाया।
मंच पर राकेश श्रीवास्तव और चेता सिंह के युगल गीत ‘बजरा हम न खइबे मोरे राजा, दिन-दिन कारिया भईली ना’ ने दर्शकों को ताली बजाने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम के अंत में कलाकारों द्वारा मो.खलील द्वारा गाए गीत ‘कवने खोतवा में लुकइलू अहिरे बालम चिरई’ की प्रस्तुति की गई। एक साथ आकाशवाणी, दूरदर्शन के सभी कलाकारों के गीतों का दर्शकों ने भरपूर आनंद उठाया।

आकाशवाणी बने जनवाणी ः प्रो. विश्वनाथ
पूर्व संध्या पर आकाशवाणी कल, आज और कल विषयक परिसंवाद में साहित्य अकादमी के उपाध्यक्ष प्रो. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने कहा कि श्रुति माध्यम बहुत महत्वपूर्ण होता है। जहां तक सूरज की किरणें नहीं पहुंच पाती हैं वहां आकाशवाणी पहुंची है। आकाशवाणी को जनवाणी बनाने का प्रयास करना होगा। पूर्व में इसे सरकारी आवाज माने जाने लगा था तब इसकी विश्वसनीयता कम होने लगी थी। आकाशवाणी स्वायत्त है इसलिए इसका जनवाणी होना बहुत आवश्यक है। सरकार तक जनता की आवाज पहुंचाने का सशक्त माध्यम है इसलिए इसे जनवाणी का रुप देना चाहिए। पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (यात्री सेवाएं एवं खानपान) ने कहा कि आकाशवाणी के श्रोता पहले भी बहुत थे और अब भी बढ़ते जा रहे हैं। कृषि, विज्ञान, शिक्षा हर क्षेत्र में आकाशवाणी ने अपना परचम लहराया है।
समाज को मुख्य धारा से जोड़ने का यही सशक्त माध्यम है। प्रो. अनन्त मिश्र ने कहा कि समाज निर्माण की प्रक्रिया के साधनों के माध्यम से नई पहचान पैदा करनी होगी, इसके लिए आकाशवाणी की स्वायत्ता बहुत आवश्यक है। सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता विद्युत अजीत खरे ने कहा कि साक्षरता, कृषि, विज्ञान के क्षेत्र में आकाशवाणी के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। कार्यक्रम का संचालन आकाशवाणी के उद्घोषक सर्वेश दूबे ने किया। कार्यक्रम प्रमुख डा. अरविंद त्रिपाठी ने आगत अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में आरसी शुक्ल, वरिष्ठ पत्रकार नागेंद्र ने भी आकाशवाणी द्वारा प्रसारित कार्यक्रमों को जनोपयोगी बताते हुए कहा कि लोगों को स्वास्थ्य, शिक्षा, विज्ञान के प्रति जागरूकता का आकाशवाणी सशक्त माध्यम है।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

आलू किसानों पर यूपी के कृषि मंत्री का बड़ा बयान

यूपी में आलू किसानों की हालत क्या है इससे पूरा देश वाकिफ है। यूपी के अलग-अलग शहरों में सड़कों पर आलू फेंके जाने की तस्वीरें सामने आती हैं। ऐसे में यूपी के कृषि मंत्री ने ये आश्वासन दिया है कि आलू किसानों के साथ अन्याय नहीं किया जाएगा।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper