‘कथा सम्राट’ के आदर्शों पर चलने का संकल्प

Gorakhpur Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
गोरखपुर। उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर शहर में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। बेतियाहाता स्थित मुंशी प्रेमचंद पार्क पर प्रेमचंद साहित्य संस्थान की तरफ से कहानी पाठ, नाटक का मंचन किया गया। रंगाश्रम परिवार द्वारा प्रेमचंद की मूर्ति पर माल्यार्पण के साथ कहानी ‘पूस की रात’ पर आधारित नाटक का मंचन किया गया। इसके साथ की कई संगठनों की तरफ से आयोजित गोष्ठियों में भी लोगों ने उनके विचारों को प्रेरणादायी बताया।
प्रेमचंद साहित्य संस्थान के सचिव मनोज कुमार सिंह की देखरेख में बेतियाहाता प्रेमचंद पार्क पर कहानीकार लाल बहादुर ने ‘आंखों की महक’ और रवि राय ने ‘बकरी का पाठ’ कहानी प्रस्तुत की। इसके बाद इप्टा की गोरखपुर इकाई के डा. मुमताज खान द्वारा निर्देशित नाटक ‘जुर्माना’ का मंचन किया गया। नाटक में सफाईकर्मियों की वेदना साफ दिखी। 40 साल पहले के सफाईकर्मियों का दृश्य मंच पर जीवित हो उठा। इसमें निर्देशक ने बड़े ही सरल ढंग से सफाईकर्मियों के शोषण और उनकी जीवन शैली को दर्शाया। अल्लाह रक्खी नाम की सफाईकर्मी के वेतन से हर माह कुछ न कुछ जुर्माना कट जाता था। सफाई दारोगा के चंगुल में वह हमेशा फंस जाती थी। अन्य कर्मचारियों पर कोई कार्रवाई नहीं होती थी। इस परिस्थिति में उसे अन्य कर्मचारियों का भी कोई सहयोग नहीं मिलता है।
भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) की प्रस्तुति ‘जुर्माना’ में परिधान एवं मंच परिकल्पना सीमा मुमताज और प्रस्तुति सहयोग आसिफ सईद का रहा। पात्रों में धर्मेंद्र दूबे (सफाई दारोगा), रीना श्रीवास्तव (अल्लाह रक्खी), विनोद चंद्रेश (हुसैनी), अनवर लारी (पठान), शैलेंद्र निगम (मुंशी) की भूमिका दमदार रही। संजय सत्यम (लड्डू) और मीरा दूबे (लाडो) का प्रयास सराहनीय रहा। डा. मुमताज खान ने ‘सद्गति’, ‘मुक्तिमार्ग’, ‘दंड’, ‘मंदिर’, ‘निर्वासन’ और ‘सवा सेर गेहूं’ कहानियों का भी नाट्य रूपांतरण करके उनका निर्देशन किया है।
दूसरे सत्र में कुशीनगर जिले के फाजिलनगर निवासी शिक्षक मंगल प्रसाद ने भोजपुरी लोकगीत तो सांस्कृतिक संगम द्वारा मानवेंद्र त्रिपाठी निर्देशित नाटक ‘कप्तान साहब’ का मंचन किया गया।


रंगाश्रम के कलाकारों ने खेला नाटक
रंगाश्रम परिवार द्वारा भी प्रेमचंद पार्क स्थित मुंशी प्रेमचंद की प्रतिमा पर सुबह साढ़े सात बजे माल्यार्पण और उसके बाद कहानी ‘पूस की रात’ का मंचन किया गया। नाटक के मंचन के बाद यहां से जुलूस निकाला गया। प्रेमचंद पार्क से अलहदादपुर चौक, रीड़ साहब धर्मशाला, शास्त्री चौक होते हुए टाउनहाल गांधी प्रतिमा के समक्ष आकर संपन्न हुआ। यहां भी कलाकारों ने नाटक ‘विषम समस्या’ के साथ चेतना तिराहे पर ‘यही मेरा वतन है’ का मंचन किया।
अर्द्धनिर्मित प्रेक्षागृह पर ‘आज के समय में प्रेमचंद की प्रासंगिकता’ विषयक विचार गोष्ठी के माध्यम से लोगों ने उनके विचारों से प्रेरणा लेने का संकल्प लिया। संस्था के सचिव केसी सेन ने कहा कि प्रेमचंद के साहित्य और समाज केलिए जो कुछ भी किया, उसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है।

कालेज में मनी जयंती
बाबू पुरुषोत्तम दास राधा रमण दास महाविद्यालय, कूड़ाघाट में भी मुंशी प्रेमचंद की जयंती मनाई गई। छात्र-छात्राओं ने प्रेमचंद की कहानी पूस की रात पर आधारित नाटक का मंचन किया। हिंदी विभाग के प्रवक्ता केआर त्रिपाठी ने प्रेमचंद के जीवनी पर प्रकाश डाला। प्राचार्य डा. पीके द्विवेदी ने प्रेमचंद के विचार युवाओं केलिए प्रेरणादायी है। उनका साहित्य समाज को नई दिशा देने का कार्य कर रहा है।

काविप ने दी श्रद्धांजलि
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर कायस्थ विकास परिषद के तत्वावधान में भी कार्यक्रम आयोजित किया गया। परिषद के महासचिव अतुल कुमार श्रीवास्तव की देखरेख में पदाधिकारियों ने मुंशी प्रेमचंद पार्क पहुंचकर प्रेमचंद की प्रतिमा को दूध से स्नान कराकर श्रद्धांजलि दी।

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

आलू किसानों पर यूपी के कृषि मंत्री का बड़ा बयान

यूपी में आलू किसानों की हालत क्या है इससे पूरा देश वाकिफ है। यूपी के अलग-अलग शहरों में सड़कों पर आलू फेंके जाने की तस्वीरें सामने आती हैं। ऐसे में यूपी के कृषि मंत्री ने ये आश्वासन दिया है कि आलू किसानों के साथ अन्याय नहीं किया जाएगा।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper