विज्ञापन
विज्ञापन

आठ घंटे उबल गए लोग

Gorakhpur Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें

विज्ञापन
विज्ञापन
गोरखपुर। मंगलवार को बिन बिजली गर्मी से गोरखपुरिए आठ घंटे उबल गए। दोपहर बाद एक बजे गई बिजली रात नौ बजे आई। बिजली आने के साथ ही लोकल फाल्ट का सिलसिला चल पड़ा। देर रात तक हर इलाके से लोकल फाल्ट की खबरें आती रहीं।
दोपहर बाद एक बजे बिजली गई तो लोगों ने इसे शेड्यूल की कटौती माना। शाम पांच बजे बिजली आने के पुराने शेड्यूल का टाइम भी जब बीतने लगा तो लोगों को लगा कि उनके इलाके में लोकल फाल्ट है। इसके बाद उपकेंद्रों की घंटियां बजने लगीं। तब पता चला कि ग्रिड फेल होने के कारण पूरे देश में बिजली का संकट है। कोई भी अधिकारी यह बताने की स्थिति में नहीं था कि बिजली कब आएगी।
धीरे-धीरे अंधेरा छाने लगा। इसी के साथ घरों में इन्वर्टर बैठने लगे। अंधेरे में मोबाइल की रोशनी के सहारे लालटेन और मोमबत्तियां जलाने की शुरुआत हो गई। ‘अब आएगी, अब आएगी’ के बीच गर्मी से बेहाल लोग छतों पर टहलते देखे गए।

बूंद-बूंद पानी को तरसे
दोपहर बाद एक बजे गई बिजली के शाम पांच बजे आने के इंतजार में लोगों ने घरों का पानी खत्म कर दिया। जब बिजली आने में देर हुई तो पानी की जरूरत महसूस होने लगी। स्थिति यह रही कि बाथरूम में भी पानी खत्म हो गया।

मिनरल वाटर बेचने वालों की चांदी
मंगलवार को मिनरल वाटर बेचने वालों की चांदी रही। शाम को रोजेदारों ने पानी न मिलने पर मिनरल वाटर मंगाना शुरू किया। रुस्तमपुर के सलीम कहते हैं कि कुछ घंटों में पांच गत्ता मिनरल वाटर का बोतल बिक गया। इतना बोतल पांच दिन में ही बिकता था।

रोजेदारों को पानी मुश्किल से मिला
बिजली गुल होने से रोजेदारों को दो बूंद ठंडा पानी मुश्किल से नसीब हुआ। मगरिग, इशा और तरावीह की नमाज भी अंधेरे में पढ़ी गई। शाम 6.53 मिनट पर इफ्तारी का वक्त था। रोजेदारों को लगा कि इफ्तार के वक्त तक बिजली आ जाएगी। बक्शीपुर, नखास, रेती, ऊचवां, जाफरा बाजार, रसूलपुर एवं गोरखनाथ जैसे मुसलिम बहुल क्षेत्राें में बिजली न आने से रोजेदारों में गुस्सा दिखा। जिन मसजिदों में इनवर्टर व जनरेटर की व्यवस्था नहीं था वहां मोमबत्ती जलाकर नमाज अदा की गई।

जिला अस्पताल के डाक्टर अंधेरे में
जिला अस्पताल की ओपीडी के बगल में डाक्टरों के आवास में अंधेरा छाया रहा। यहां कई डाक्टर रहते हैं। चूंकि आवासों को भी 24 घंटे बिजली सप्लाई मिलती है इसलिए डाक्टरों ने इन्वर्टर भी नहीं लगवाया है। मंगलवार को जब बिजली गई तो डाक्टरों के आवासों में भी अंधेरा छा गया। गर्मी से डाक्टर काफी परेशान रहे।

मेडिकल कालेज में अंधेरा
बीआरडी मेडिकल कालेज, जिला अस्पताल, जिला महिला चिकित्सालय और दीवानी कचहरी को 24 घंटे बिजली देने की व्यवस्था है। लेकिन ग्रिड फेल होने की वजह से बिजली कट गई। जिला अस्पताल और जिला महिला चिकित्सालय में जनरेटर से काम चलाया गया पर बीआरडी मेडिकल कालेज के वार्डों में एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार लोगों को घंटों अंधेरे में गुजारना पड़ा। मंगलवार को मेडिकल कालेज में आईसीयू, इमरजेंसी, बाल रोग विभाग को छोड़कर हर ओर अंधेरा छाया रहा। स्त्री रोग विभाग में मां और बच्चों का बुरा हाल रहा। परिवार वाले मोमबत्ती और मोबाइल से रोशन करते रहे। अंधेरा और बंद पंखे मरीजों की परेशानी और बढ़ा रहे थे।

रुपया जनता का, कष्ट भी जनता को
गोरखपुर। भाई साहब! अब हद हो चुकी है। सरकार को सिर्फ टैक्स बढ़ाने और जरूरी सामानों की कीमत बढ़ाने की चिंता है। कीमतें धड़ाधड़ बढ़ती जा रही हैं लेकिन सुविधा के नाम पर ठेंगा दिखा दिया जा रहा है। बिजली की कीमत भी लगातार बढ़ाई जा रही है लेकिन बिजली कब आएगी कब जाएगी कोई ठिकाना नहीं है।
यह कहना है तुर्कमानपुर के सूरज का। घर में बिजली नहीं थी तो मोटर साइकिल से शहर घूमने निकले सूरज ने बताया कि घर में गर्मी के कारण बच्चा रोने लगा तो हम लोग शहर में निकल पड़े। बिजली ने परेशान कर दिया है।
जिला अस्पताल के नाक, कान व गला रोग विशेषज्ञ डा. प्रभुनारायण के सरकारी आवास में बिजली नहीं थी। जिला अस्पताल परिसर में बने आवास में रहने वाले डा. प्रभु नारायण कहते हैं कि जिला अस्पताल को 24 घंटे सप्लाई मिलती है लेकिन ग्रिड फेल होने की वजह से यह दिक्कत आ गई है।
रेती चौराहा पर रबड़ी-मलाई बेचकर जीवन यापन करने वाले नरसिंहपुर के रामनाथ यादव कहते हैं कि सोडियम लाइट की रोशनी में अब तक कारोबार करते रहे हैं। कभी-कभार मोमबत्ती की जरूरत पड़ती थी लेकिन इस बार तो हद हो गई। लालटेन और मिट्टी का तेल खरीदना पड़ा है।
रेती चौक पर गर्मी से बेहाल व्यापारी अशोक कुमार रात में सड़क के किनारे बैठे थे। लगातार रो रहे पोते को पंखा झलकर चुप करा रहे अशोक कहते हैं कि सब कुछ जनता को ही सहना पड़ता है। रुपया भी जनता देती है और कष्ट भी जनता ही सहती है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Gorakhpur

रवि किशन ने 3 लाख 1664 मतों के अंतर से चुनाव जीता

कमलेश पासवान की हैट्रिक, 1 लाख 52 हजार वोटों के अंतर से जीते

24 मई 2019

विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree