हर्षोल्लास के साथ श्रद्धालुओं ने मनाया महापर्व गुरुपूर्णिमा

Gorakhpur Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
गोरखपुर। गुरुपूर्णिमा के अवसर पर कई जगहों पर पूजन-अर्चन करने वालों की भीड़ लगी रही । बेतियाहाता साई बाबा मंदिर, गायत्री शक्तिपीठ राजघाट समेत कई मंदिरों में सुबह से ही कार्यक्रमों का सिलसिला शुरू होकर देर शाम तक चलता रहा। वैदिक रीतिरिवाज के अनुसार हुए हवन-पूजन में श्रद्धालुओं ने बढ़चढ़कर भागदारी की।
सावन मास के एक दिन पूर्व गुरुपूर्णिमा पर कई जगहों पर कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। बेतियाहाता स्थित साईबाबा मंदिर पर सुबह साढ़े छह बजे काकड़ आरती से कार्यक्रम की शुरूआत हुई। श्रद्धालुओं ने साई भजनों के साथ ही आरती में भाग लिया। पहले धूप आरती और उसके बाद प्रसाद का वितरण किया गया। शाम सात बजे मंगल स्नान का कार्यक्रम आयोजित हुआ। गायत्री शक्तिपीठ राजघाट पर गुरुपूर्णिमा पर दो जुलाई से शुरू हुआ अखंड जाप तीन जुलाई को भी सुबह छह बजे तक चला। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में गायत्री परिवार के लोग शामिल रहे। सुबह सात बजे हवन के बाद नौ बजे महाप्रसाद का वितरण किया गया। माता मातेश्वरी सेवा दरबार पचपेड़वा में भी गुरुपूजन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ रही। सदगुरु माता गुरुश्री द्वारा भक्तों को अमृतवाणी का रसपान कराया गया।
पूर्वोत्तर रेलवे मुख्य वाणिज्य प्रबंधक कार्यालय परिसर में भोजनावकाश के समय गुरु पूर्णिमा महोत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर दीन जी ने बताया कि सदगुरु की कृपा से मन स्थिर और शांत होता है। इससे शिष्य का स्वभाव भी बदलता रहता है। रूस्तमपुर क्षेत्र के महर्षि विद्या मंदिर में गुरुपूर्णिमा का महापर्व बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। प्रधानाचार्य रणविजय सिंह की देखरेख में गुरुपूजन शुरू हुआ। छात्र कार्तिकेय, प्रियांशु, अनुराग एवं पंखूड़ी ने गुरु महिमा पर प्रकाश डाला। सिविल कोर्ट परिसर में आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ अधिवक्ता रमापति शुक्ल ने गुरु की महिमा का विस्तार से वर्णन किया। शिष्य, वृक्ष और पुत्र में कोई अंतर नहीं होता है। कार्यक्रम में वंश गोपाल दूबे, महेंद्र राय, अमरनाथ तिवारी, पीडी सिंह, शंकर शरण त्रिपाठी, प्रदीप कुमार, ओएन भट्ट, कृष्णानंद मिश्र समेत कई लोग उपस्थित रहे।
पतंजलि योग समिति एवं भारत स्वाभिमान के तत्वावधान में हवन-पूजन का आयोजन किया गया। शाम छह बजे चेतना तिराहे से जन-जागरण यात्रा निकाली गई। महानगर के विभिन्न मार्गों से होकर यात्रा काली मंदिर के निकट सरदार बल्लभ भाई पटेल मूर्ति के पास आकर समाप्त हुई। इस अवसर पर पतंजलि योग समिति के जिलाध्यक्ष महेंद्र प्रताप सिंह, हरि नारायण धर दूबे, देव नारायण त्रिपाठी, अखिलेश त्रिपाठी, भगवती प्रसाद गुप्ता, उपेंद्र नारायण पाठक समेत कई लोग उपस्थित रहे। मोहद्दीपुर स्थित श्री टाकीज में सुप्रसिद्ध संगीतज्ञ सांवरी लाल पांडेय के देखरेख में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर कलाकारों ने कई भजनों की प्रस्तुति की।

भक्तों को सुनाई गई साई कथा
कालीबाड़ी मंदिर रेती चौक पर श्री साईसेवा संस्थान के तत्वावधान में पूजन-अर्चन का कार्यक्रम आयोजित किया गया। सुबह छह बजे से आठ बजे तक साईबाबा के अभिषेक, पूजन के बाद 11 बजे से दोपहर दो बजे तक सत्यनारायण स्वामी की साई कथा भक्तों को सुनाई गई। शाम छह बजे बाबा का छप्पन भोग लगाया और उसके बाद प्रख्यात भजन गायक नंदू मिश्रा द्वारा भजन की प्रस्तुति की गई। सात बजे से शुरू हुआ भजन का सिलसिला रात दस बजे तक चलता रहा। संस्थान के अध्यक्ष ठाकुर प्रसाद वर्मा ने साईबाबा का प्रसाद वितरित किया। इस अवसर पर मंदिर के महंत रविंद्र दास ने भक्तों को आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम में संतोष वर्मा, छेदीलाल वर्मा, मदन अग्रहरि समेत कई लोगों का सहयोग रहा।

विवेकानंद धाम का उद्घाटन
रामकृष्ण विवेकानंद मिशन मोहद्दीपुर में गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। सुबह आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक पूजन के बाद साढ़े दस बजे तक मिशन पूजारी उत्पल चक्रवती द्वारा हवन कराया गया। सुबह 11 बजे सुप्रसिद्ध होमियोपैथिक चिकित्सक डा. रामरतन बनर्जी द्वारा विवेकानंद धाम का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर अनूप अग्रवाल द्वारा आश्रम के बच्चों में वस्त्र और विपुल मोहन दास की तरफ से टिफिन दिया गया। मिशन के संरक्षक स्वामी सुप्रभानंद की देखरेख में श्रद्धालुओं में प्रसाद का वितरण किया गया।

गीत-संगीत की सजी महफिल
गोरखपुर कथक केंद्र के तत्वावधान में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। केंद्र के गुरु प्रेमशंकर गंगानी का गुरु पूजन विनोद गंगानी एवं कथक केंद्र की छात्राओं द्वारा किया गया। शाम करीब छह बजे शुरू होकर गीत-संगीत की महफिल देर शाम तक सजी रही। स्निग्धा एवं सौम्या ने गणेश वंदना प्रस्तुत की। इसके बाद एकल नृत्य, समूह नृत्य के साथ कथक की प्रस्तुुतियों से कलाकारों ने दर्शकों का मन मोहा। बतौर विशिष्ट अतिथि पूर्वोत्तर रेलवे के एसडीजी आरपी निबारिया ने दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में डा. सलिल चंद्रा, डा. राजीव मल्ल, विमल चतुर्वेदी सहित कई लोग उपस्थित रहे।


अघोरपीठ पर उमड़ी भीड़
गुरुपूर्णिमा के अवसर पर महेवा स्थित अघोरपीठ पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही । सुबह सात बजे गुरुपूजन के बाद हवन में भी बढ़चढ़कर श्रद्धालुओं ने भाग लिया। इस अवसर पर अवधूत छबीले राम ने गुरु की महिमा के बारे में विस्तार से बताया। दिन भर चले पूजन-अर्चन कार्यक्रम के साथ ही श्रद्धालुओं में प्रसाद का वितरण भी किया गया। गुरु सेवा में शाम करीब सात बजे से कलाकार अनिल शुक्ला, मनोज मिहिर के भक्तिगीतों पर श्रद्धालु झूम उठे। अघोरपीठ पर आयोजित कार्यक्रम में श्रद्धालुओं ने आने-जाने का सिलसिला देर शाम तक जारी रहा। यह गुरु के प्रति श्रद्धा ही थी कि दिन में कड़ी धूप के बाद भी श्रद्धालु नंगे पाव ही चले आए ।


एक्यूप्रेशर चिकित्सा एवं प्रशिक्षण शिविर आरंभ

गोरखपुर। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर मारवाड़ी सेवा समिति, श्री श्याम मंडल तथा राजस्थान सेवा समिति के संयुक्त तत्वावधान में मंगलवार को सिविल लाइन्स स्थिति गोकुल भवन में निशुल्क एक्यूप्रेशर चिकित्सा तथा प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ किया गया। मंडलायुक्त के. रविन्द्र नायक की पत्नी हेमा बिंदु नायक ने बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए एक्यूप्रेशर चिकित्सा को काफी प्रभावी बताया। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर लोगों के स्वास्थ्य लाभ के लिए आयोजित कार्यक्रम की सराहना की।
कार्यक्रम का शुभारंभ गायत्री परिवार के सदस्यों द्वारा दीप यज्ञ कर किया गया। मारवाड़ी सेवा समिति के सचिव अजय कुमार पोद्दार ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए एक्यूप्रेशर चिकित्सा के महत्व की जानकारी दी। एक्यूप्रेशर संस्थान लखनऊ के निदेशक आचार्य ए. चंद्रवंशी ने एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति एवं उसके प्रयोग की विधियों से लोगों को अवगत कराया। निशुल्क प्रशिक्षण एवं चिकित्सा शिविर 18 जुलाई तक गोकुल अतिथि भवन में आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम में गोपाल दास मोदी, विजय मातन होलिया, मुकुंद गोयनका, प्रमोद चोखानी, विजय जालान, रामगोपाल खेमका आदि शामिल हुए।


गोपालन से घटेगी ग्लोबल वार्मिंग
गोरखपुर। पशु पक्षी सेवाश्रम के आश्रम में गुरु पूर्णिमा के मौके पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान आर्य पुरोहित पंडित द्विजराज शर्मा ने कहा कि ब्राजील में आयोजित पृथ्वी सम्मेलन में विद्वानों और वैज्ञानिकों ने एकमत से कहा कि पशु वध भी ग्लोबल वार्मिंग का एक कारण है। यह तभी रुकेगा जब मानव शाकाहार जीवन पद्धति अपनाएगा। इसके लिए हम सभी को गोपालन करना चाहिए। इससे ग्लोबल वार्मिंग नियंत्रित होगी और हमारा जीवन सुखमय होगा। उन्होंने कहा कि गोवंश भारतीय संस्कृति की आधारशिला है। प्राचीन काल में गुरु आश्रम एवं गुरुकुल में गोशालाएं हुआ करती थीं। गो, दूध, घी, दही जहां मानव स्वास्थ्य के लिए अमृत तुल्य है वहीं गोमूत्र, गोबर, खेतों के लिए अत्यंत लाभप्रद है। इसलिए गोपालन को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। प्रमुख वरुण कुमार वर्मा वैरागी ने गुरु पूर्णिमा के मौके पर कहा कि वेदों में गोवंश की महिमा से भरी पड़ी है। गोपालन से हमें चारों पुरुषार्थों- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रक और वन विभाग की गाड़ी में टक्कर के बाद विवाद, फिर हुआ ये

महराजगंज के जिला अस्पताल के पास ट्रक और वन विभाग की गाड़ी की टक्कर होने के बाद विवाद खड़ा हो गया। ट्रक चालक का आरोप है कि उसकी वन विभाग के कर्मचारियों ने जमकर पिटाई की है।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper