थामे नहीं थम रही बगावत-हेडिंग

Gorakhpur Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
गोरखपुर। निकाय चुनाव के लिए नामांकन के समाप्त होने के साथ ही चुनाव समर की तस्वीर काफी साफ होती जा रही है। यह तय लग रहा है कि भाजपा, सपा में कई वार्डों में कई प्रत्याशी पार्टी के नाम पर वोट के दावेदार होंगे। कांग्रेस को कुछ वार्डों में लड़ाने को भले प्रत्याशी नहीं मिले हों लेकिन जहां उसके प्रत्याशी लड़ रहे हैं, वहां से विद्रोही उम्मीदवार भी हैं, जो कांग्रेस प्रत्याशी का नुकसान करेंगे। ज्यों-ज्यों इसे रोकने का प्रयास हो रहा है, यह बगावत बढ़ती ही जा रही है
विज्ञापन

पूरी पटकथा पहले ही लिखी जा चुकी थी, बस शूटिंग बाकी थी। पार्षदों का टिकट घोषित हुआ तो शूटिंग भी हो गई है। टिकट न पाने वाले भाजपाइयों के विरोधी तेवर से साफ है कि पार्टी ने उनसे जल्द ही सीधा संवाद नहीं स्थापित किया तो वे पार्टी के प्रत्याशियों और खुद पार्टी के लिए आत्मघाती साबित होंगे। धड़ाधड़ इस्तीफा और पुतला फूंककर अपने वरिष्ठों को कठघरे में खड़ा करने वाले कार्यकर्ताओं का आक्रोश अभी कम नहीं हो रहा है।
मंगलवार की रात भाजपा के पार्षद प्रत्याशियों का टिकट घोषित होने के बाद बेनीगंज स्थित पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ के साथ ही पूर्व मंत्री शिव प्रताप शुक्ला और डा. धर्मेंद्र सिंह का पुतला फूंका गया। बुधवार को वार्ड नंबर 44 गोपलापुर से टिकट पाने के लिए प्रयासरत राधेश्याम यादव ने घोषणा की कि वह भाजपा के बागी के रूप में चुनाव लड़ेंगे। पार्टी ने ऐसे व्यक्ति को टिकट दे दिया है जिसका कोई जनाधार नहीं है। इधर, भाजपा के चिकित्सा प्रकोष्ठ संयोजक डा. वीके पांडेय ने वार्ड नंबर 39 रायगंज में टिकट न मिलने पर अन्य सदस्यों के साथ सामूहिक इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया। हालांकि उन्होंने कहा कि वह सभी महापौर प्रत्याशी डा. सत्या पांडेय की जीत को प्रयत्न करेंगे।
ऐसे लोग कैसे होंगे कार्यकर्ता : शुक्ला
पूर्व मंत्री व भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि जो टिकट के लिए ही पार्टी में रहने वाले हैं और टिकट न मिलने पर इस्तीफा दे देंगे वे बीजेपी के कार्यकर्ता कैसे होंगे। उन्होंने कहा कि पूरे चुनाव की कमान सदर सांसद योगी आदित्यनाथ के हाथ में होगी। बीजेपी कार्यकर्ता हमेशा एकजुटता के साथ रहे हैं। बीजेपी के सभी कार्यकर्ता महापौर और पार्षद प्रत्याशियों को जिताने के लिए कृतसंकल्पित हैं।


अपने ही बादशाह को घेर रहे सिपाही
गोरखपुर। समाजवादी पार्टी ने नगर निकाय चुनाव न लड़ने का फैसला चाहे जिस लिए किया हो, लेकिन उसके कार्यकर्ता चुनाव मैदान में उतर रहे हैं। पार्षद के लिए एक वार्ड से पांच से दस लोग ताल ठोक रहे हैं। हर कोई अपने को पार्टी का सिपाही बता रहा है। वार्ड नं. 67 में आधा दर्जन से अधिक सपा के नेता मैदान में हैं।
इसी तरह, वार्ड न. 67 के पार्षद तौकीर हसन का चंद रोज पहले निधन हो गया है। वह सीट उनके कब्जे में तीन बार से थी। अब वहां से जाफराबाजार के पार्षद सपा नेता तहब्बर हुसैन भी चुनाव लड़ने जा रहे हैं। इसके अलावा शमशाद हुसैन पप्पू, राशिद अंसारी, मंजूर आलम के अलावा अन्य कई मैदान में हैं।
मुफ्तीपुर वार्ड नं.68 से सपा के पूर्व महानगर अध्यक्ष जियाउल इस्लाम मैदान में हैं। वह दो बार से पार्षद हैं तीसरी बार मैदान में हैं। उन्हें विरोधियों से कम अपनों से ज्यादा खतरा है। उन्हें घेरने के लिए उनके ही सिपाही मारूफ खां मैदान में उतर गए हैं। सूत्रों का तो दावा है कि जियाउल को घेरने के लिए मारूफ को सपा के ही एक नेता ने उन्हें मैदान में उतारा है।
इसी प्रकार जाफराबाजार से सपा के कई नेता मैदान में उतर गए हैं। हुस्नाबानो, बंटी जायसवाल, शकील शाही यह तीनों सपा के समर्पित कार्यकर्ता हैं। इनके अलावा भी कुछ और प्रत्याशी मैदान में हैं जो अपने को सपाई कह रहे हैं। इसी प्रकार जाफराबाजार से पूर्व पार्षद सदरूल हसन की पत्नी के अलावा अमीरूद्दीन भी सपा के नाम पर भाग्य आज मा रहे हैं। रायगंज से शिवाजी शुक्ला, नौसाद खां, मोहम्मद रईस, सपा के नाम पर वोट मांग रहे हैं। यह तो कुछ वार्डों की बानगी है। यही स्थिति कमोवेश हर वार्ड की है।
इस संबंध में बात करने पर सपा महानगर अध्यक्ष शहाब अंसारी ने कहा कि महानगर की सभी सीटों पर कई-कई पार्टी के कार्यकर्ता मैदान में हैं। ऐसे में जो सपा का पुराना और समर्पित कार्यकर्ता होगा उसी की मदद की जाएगी।

कहीं दामन पकड़ने वाले नहीं मिले
गोरखपुर। काफी कवायदों के बाद भी कांग्रेस को दर्जन भर वार्डों में पार्टी का दामन थामने वाले नहीं मिले। अब इन वार्डों में पार्टी ने निर्दलीय उम्मीदवारों का समर्थन करने का निर्णय लिया है। कांग्रेस के शहर अध्यक्ष दिनेश चन्द्र श्रीवास्तव का कहना है कि इन 12 वार्डों में निर्दलीय प्रत्याशियों की बैठक बुलाई जाएगी। जो प्रत्याशी इच्छुक होंगे उन्हें पार्टी अपना समर्थन देगी।
वहीं टिकट वितरण से असंतुष्ट करीब आधा दर्जन वार्डों के पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं ने पार्टी से बगावत कर दी है। इनमें से कुछ ने दूसरी पार्टी का दामन थामा है तो कुछ ने बगावत का बिगुल बजाकर निर्दल ही चुनाव लड़ने का फैसला किया है। नरसिंहपुर वार्ड से शहर महिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष रेहाना परवेज ने तो कांग्रेस के सिंबल पर चुनाव लड़ना ही मुनासिब नहीं समझा। पार्टी से टिकट न मिलने पर बगावत करने वालों में घोषीपुरवा से कुसुम पाण्डेय, झरनाटोला से दिलीप निषाद तथा हांसूपुर वार्ड से शैलेन्द्र पाण्डेय का नाम शामिल है। हांसूपुर वार्ड महिला के लिए आरक्षित होने के कारण शैलेन्द्र अपनी पत्नी शीला पाण्डेय के लिए पार्टी से टिकट मांग रहे थे। नहीं मिलने पर उन्होंने पीस पार्टी का दामन थाम लिया। पार्टी से इन पुराने कार्यकर्ताओं के बगावत पर शहर अध्यक्ष दिनेश चन्द्र श्रीवास्तव का कहना है कि पार्टी ने सभी वार्डों में बेहतर प्रत्याशी ही उतारे हैं।

आरएमडी का फूंका पुतला
गोरखपुर। नगर निगम के वार्ड नंबर 18 में टिकट वितरण से असंतुष्ट भाजपा कार्यकर्ताओं ने बुधवार को शास्त्री चौक पर नगर विधायक डा. राधा मोहन दास अग्रवाल का पुतला फूंका। कार्यकर्ताओं का नेतृत्व कर रहे राजा यादव ने कहा कि नगर विधायक के इशारे पर ऐसे व्यक्ति को टिकट दे दिया गया जो चुनाव के ठीक पहले ही भाजपा में शामिल हुआ है। इस दौरान छट्ठू गुप्ता, विजय मौर्या, दिनेश, सुनील, किशन, नीलू, रामा, रोहित, विजय, अश्वनी, सुधीर, सोनू, राजेश, संतोष, संजय, चंद्रशेखर, राजेंद्र, मनोज, विनय, क्रांति, सूर्य आदि मौजूद रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us