स्वास्थ्य व स्वच्छता पर कहां खर्च हुए 2.95 करोड़

Gonda Updated Tue, 06 Nov 2012 12:00 PM IST
गोंडा। स्वास्थ्य विभाग ने देवीपाटन मंडल के चारों जिलों में गठित 2958 ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति को वर्ष 2011-12 में दिए गए दो करोड़ 95 लाख 80 हजार रुपये का ब्यौरा खंगालना शुरू कर दिया है। गांव के लिए पोषण, शिक्षा एवं स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण सहित गांवों में सफाई व स्वच्छता अभियान के लिए गठित प्रति ग्राम पंचायत समिति को हर साल 10 हजार रुपये दिए जाते हैं। आए दिन अधिकारियों के पास गांवों में सफाई न होने के कारण बीमारियां फैलने की शिकायतें आती रहती हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने अब स्वास्थ्य केंद्रों के चिकित्साधीक्षकों के माध्यम से ग्राम पंचायतों को दी गई धनराशि का उपभोग मांगा है। उपभोग देने पर ही पहली अप्रैल 2012 को खाते में अवशेष बची धनराशि के आधार पर रकम दी जाएगी। गांवों में स्वच्छता एवं सफाई की स्थिति बेहतर बनाने के लिए देवीपाटन मंडल के गोंडा जिले में 1054, बलरामपुर में 667, बहराइच में 903 व श्रावस्ती में 334 ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति गठित है। इस समिति के अध्यक्ष ग्राम प्रधान, उपाध्यक्ष क्षेत्र की एएनएम/ बेसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता के साथ ही ग्राम पंचायत की स्वास्थ्य एवं कल्याण समिति के सभी छह सदस्य, प्रत्येक राजस्व ग्राम के प्रत्येक पुरवे के प्रतिनिधि व आशा को शामिल किया जाता है। इस समिति को जिम्मेदारी दी जाती है, जिसमें गांव के लिए पोषण, शिक्षा एवं स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण तथा सार्वजनिक स्वास्थ्य के उपायों के कार्यक्रम किए जाते हैं। यहीं नहीं गांवों में संचालित सफाई अभियान, विद्यालय स्वास्थ्य गतिविधियां, समन्वित बाल विकास योजना, आंगनबाड़ी स्तरीय गतिविधियों के साथ ही पारिवारिक सर्वेक्षण का कार्य भी किया जाना है। इसके लिए हर ग्राम पंचायत पर गठित ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति को हर साल 10 हजार रुपये दिये जाते हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों की मानें तो इस समिति के संचालन के बाद भी आये दिन गांवों में बीमारियां फैलने पर जब भी स्वास्थ्य टीम पहुंचती है, तो वहां पर सफाई न होने की शिकायतें ही आती है। बानगी के तौर पर विकास खंड झंझरी के पूर्व माध्यमिक विद्यालय मोकलपुर में 303 बच्चे पढ़ रहे हैं। यहां पर सबसे बड़ी समस्या साफ-सफाई की है। यहां के शिक्षकों की मानें तो साल भर में एकाध बार ही यहां पर सफाईकर्मी आता है, उसके बाद उसका पता हीं नहीं चलता। स्कूल परिसर में गंदगी होने के कारण बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ने की संभावना है। यहां के प्रधानाचार्य स्वामी प्रसाद पांडेय का कहना है कि इसकी जानकारी अधिकारियों को दी जा चुकी है। बहरहाल अब स्वास्थ्य विभाग ने ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति का ब्यौरा खंगालना शुरू कर दिया है। देवीपाटन मंडल के अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ. एके गंगवार ने बताया कि चारों जिलों के सीएमओ को निर्देश दिया गया है कि वर्ष 2011-12 में इन सभी 2958 समितियों को 10 हजार रुपये की दर से दिए गए दो करोड़ 95 लाख रुपये के उपभोग के बाबत प्रमाणपत्र प्रस्तुत किया जाए। उसके आधार पर पहली अप्रैल 2012 को इस समिति के बैंक खाते की अवशेष धनराशि को घटाकर अग्रिम धनराशि देने का निर्देश दिया गया है।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

उन्नाव: यूपी पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, किया नकली शराब कंपनी का भंडाफोड़

लखनऊ एसटीएफ और उन्नाव पुलिस के हाथ बड़ी सफलता लगी है। दरसअल लखनऊ एसटीएफ और उन्नाव पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में एक नकली देशी शराब बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। इस फैक्ट्री में बनने वाली नकली शराब आसपास के कई जिलों में सप्लाई की जाती थी।

2 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper