60 गांवों में बेधड़क है इंसेफ्लाइटिस की राह

Gonda Updated Sat, 22 Sep 2012 12:00 PM IST
गोंडा। देवीपाटन मंडल के गोंडा, बहराइच, बलरामपुर और श्रावस्ती जिलों में इंसेफ्लाइटिस प्रभावित 78 गांवों में से अभी तक सिर्फ 18 गांवों में ही बीमारी पर रोक लगाने के प्रयास किए गए। इस पर देवी पाटन मंडल के अपर निदेशक ने नाराजगी जताते हुए चारों जिलों के सीएमओ को तत्काल प्रभावित गांवों में कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।
इंसेफ्लाइटिस के बढ़ रहे प्रसार को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग चिंतित है। जपानी इंसेफ्लाइटिस की चपेट में बलरामपुर जिले में 3, श्रावस्ती में 4, बहराइच में 15 मरीज आ चुके हैं, जबकि एक्यूड इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम से गोंडा में तीन, बलरामपुर में 5, श्रावस्ती में 11 और बहराइच में 37 मरीज प्रकाश में आए हैं। मरीजों की संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सभी 78 गांवों में निरोधात्मक कार्रवाई के आदेश सितंबर माह की शुरूआत में दिए थे। देवीपाटन मंडल के अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ. एके गंगवार ने बीते दिन जब इन गांवों में की गई निरोधात्मक कार्रवाई की समीक्षा की तो पाया कि चारों जिलों के 78 गांवों के सापेक्ष अभी तक सिर्फ 18 गांवों में ही निरोधात्मक कार्रवाई पूरी हो पाई है। अपर निदेशक ने बताया कि चारों जिलों के सीएमओ को निर्देश दिए गए हैं कि इंसेफ्लाइटिस प्रभावित गांवों में निरोधात्मक कार्रवाई तत्काल पूरी की जाए। सीएमओ से हर रोज इन गांवों की समीक्षा करके रिपोर्ट देने को कहा गया है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

उन्नाव: यूपी पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, किया नकली शराब कंपनी का भंडाफोड़

लखनऊ एसटीएफ और उन्नाव पुलिस के हाथ बड़ी सफलता लगी है। दरसअल लखनऊ एसटीएफ और उन्नाव पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में एक नकली देशी शराब बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। इस फैक्ट्री में बनने वाली नकली शराब आसपास के कई जिलों में सप्लाई की जाती थी।

2 जनवरी 2018