बिजली कटौती से फसलों की सिंचाई न होने से बर्बाद हो रहीं फसलें

Lucknow Bureau Updated Sun, 17 Sep 2017 09:31 PM IST

बिजली कटौती ने सबको किया हलाकान
सिंचाई न हो पाने से बर्बाद हो रहीं फसलें
शहर और कस्बों में गर्मी से नहीं मिल रही राहत

गोंडा। खरीफ सीजन में बारिश नही हो रही है। फसलों को इस समय पानी की आवश्यकता है। दूसरी ओर बिजली की बेतहाशा कटौती से सिंचाई के लिए जो सरकारी व गैर सरकारी संसाधन हैं वे भी ठप पड़े हैं ऐसे में सिंचाई न हो पाने फसलें बर्बाद हो रही हैं। जिले में सूखे जैसे हालात पिछले करीब डेढ़ माह से बने हैं। इसके साथ ही बिजली कटौती से शहरी लोगों की भी परेशानियां बढ़ गई हैं। तेज धूप के कारण उन्हें गर्मी से राहत नहीं मिल रही है। सरकार की ओर से गांवों में बिजली कटौती कम करने के आदेश का पावर कार्पोरेशन पर कोई असर नही पड़ रहा है। वहीं इस मामले में कॉर्पोरेशन के एक्सईएन का कहना है कि जितना मुख्यालय से बिजली मिल रही है उसकी सप्लाई की जा रही है।
इनसेट
डीजल पम्प से किसानों का निकल रहा दिवाला
नहरें व बिजली के धोखा देने से किसान अपनी फसलों को बचाने की जद्दोजहद में हैं। वे अपनी फसलों को यूं ही तबाह होते नही देख सकते। किसान अपने फसलों की सिंचाई निजी व किराये के डीजल पम्पों से कर रहे हैं। ऐसे में मंहगा तेल खरीद कर किसान फसलों की सिंचाई करने पर मजबूर हैं। मौसम की मार झेल रहे किसानों को अपनी फसलों की सिंचाई में बची खुची अपनी गाढ़ी कमाई भी लगानी पड़ रही है। एक बीघे में किसानों को दो दो घण्टे सिंचाई करनी पड़ रही है। पानी की संख्या भी बढ़ रही है क्यों की तपिश से एक बार की गई सिंचाई की नमी एक सप्ताह भी नही टिक पा रही है।

पानी की कमी से घट जाएगा 40 फीसदी उत्पादन
बारिश न होने से खेतों से नमी गायब होती जा रही है। ऐसे में कृषि उत्पादन की लागत घटना तय माना जा रहा है। इस बात से किसान के अलावा कृषि विशेषज्ञ भी सहमति हैं। किसान राज कुमार का कहना है कि इस बार बारिश कम होने से खेत में नमी नही है। खेत में सिंचाई करने पर भी तीन दिन में नमी उड़ जा रही है। किसान रामधन का कहना है कि आने वाले समय में खरीफ फसलों में बालिंया आने वाली हैं ऐसे में उनमें दाने पानी की कमी से मजबूत नही होंगे। तपिश से फसलों के फू ल ही नही निकलेंगे और पौधे बेजान हो जाएंगे। इससे इस बार करीब 40 प्रतिशत उत्पादन प्रभावित हो सकता है। कृ षि विज्ञान केंद्र के कृषि विशेषज्ञ डा.उपेन्द्र नाथ सिंह का कहना है कि किसान भाई अपनी फसलों को बचाने के लिए खेत की सिंचाई करें। इस समय फसलों में बालियां निकलने की अवस्था है इसके अलावा फूल निकलने वाले हैं पानी की कमी से उत्पादन प्रभावित हो जाएगा।

लागत बढ़ने से डूब जाएगा किसानों का मुनाफा
गोंडा। किसानों को बिजली कटौती की वजह से अपनी फसलों को बचाने के लिए अपने निजी संसाधनों के अलावा किराए के डीजल पम्पों से सिंचाई करनी पड़ रही है। ऐसे में लागत बढने से किसानों का मुनाफा डूबना तय माना जा रहा है। किसानों का कहना है कि इस सूखे जैसे हालात से धान के अलावा दूसरी फसलों का उत्पादन घट-जाएगा। ऐसे में पहले से ही घाटे का सौदा बन चुकी खेती से इस बार तो मुनाफे की उम्मीद कम ही दिख रही है। किसान राम नारायन का कहना है कि मुनाफा नही लागत निकलना मुश्किल हो जाएगा। इस बावत अभी तक शासन की ओर से कोई भी उत्पादन पर अतिरिक्त देय की घोषणा भी नही की गई है।

नलकूप व बजिली विभाग को बिजली सप्लाई के साथ नलकूपों के सही रखरखाव व संचालन के लिए पत्र भेजा जा चुका है। गर्मी के मौसम में बारिश न होने से फसलें खराब न हो इसके लिए सभी संसाधनों खासकर नलकूप व नहरों का संचालन जरूरी है। किसानों से अपील है कि वे इस समय अपनी फसलों को धूप व तपिश से बचाने के लिए सिंचाई अवश्य करें।
- विनय सिंह, जिला कृषि अधिकारी

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

मेरठ में राष्ट्रोदय आज, अनूठे रिकॉर्ड की साक्षी बनेगी क्रांतिधरा

सर संघ चालक मोहन भागवत तीन लाख स्वयं सेवकों को आज संबेधित करेंगे।

25 फरवरी 2018

Related Videos

राहुल गांधी को लेकर बीजेपी सांसद के विवादित बोल, ‘":{*’ से की तुलना

लगता है राजनेता एक-दूसरे का सम्मान करना भूल गए हैं। किसी के बारे में भी कुछ भी बोल देते हैं। यूपी के कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर विवादित बयान दिया है। सुनिए, क्या-क्या बोल गए सांसद बृजभूषण शरण सिंह।

20 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen