'My Result Plus
'My Result Plus

अधिकारों में कटौती पर गरजे ग्राम प्रधान

Ghazipur Updated Thu, 27 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
गाजीपुर। जिला ग्राम प्रधान संगठन की ओर से सरजू पांडेय पार्क में बुधवार को प्रधानों ने अपने अधिकारों में हो रही कटौती पर धरना देकर कड़ी नाराजगी जाहिर की। प्रधानों ने कहा कि जब तक अधिकारों में हुई कटौती वापस नहीं होगी तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान प्रधानों ने प्रदेश सरकार को चेताया भी।
धरना सभा को संबोधित करते हुए ग्राम प्रधान संगठन के प्रदेश महासचिव चंद्रमा प्रसाद ने कहा कि पंचायती राज व्यवस्था को प्रदेश सरकार कुचलने पर तुली हुई है। अगर सरकार ने अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं किया तो ग्राम प्रधान संगठन बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होगा। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों को मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार ने सभी योजनाओं को ग्राम पंचायतों के अधीन किया था लेकिन सपा सरकार ने कई ऐसे फैसले ले लिए जिससे सरकारी विभागों के कर्मचारी गड़बड़ी करने पर तुल गए। उन्होंने कहा कि मनरेगा योजना में ग्राम पंचायतों को सिर्फ मोहरा बनाया जा रहा है।गांव के मजदूरों को लड़ाकर अधिकारी अपना उल्लू सीधा कर रहे हैं। अधिकांश ग्राम पंचायत में मनरेगा का धन भी नहीं है। जहां पर धन है तो ग्राम पंचायत अधिकारी और अन्य मनरेगा कर्मी उसमें अड़ंगा लगा रहे हैं। नाली एवं खड़जा बिछाने के लिए विवादित भूमि का चयन कर ग्राम प्रधानों को उलझाया जा रहा है। अधिकारी प्रधानों का सम्मान भी नहीं कर रहे हैं। संगठन के जिलाध्यक्ष शमीम सिद्दीकी ने कहा कि बीते सितंबर माह में प्रधानों ने अपनी मांगों को लेकर लखनऊ में धरना प्रदर्शन किया था। मांगों से संबंधित पत्र मुख्यमंत्री को सौंपा गया था। उस समय कहा गया कि एक माह के भीतर अधिकारों में की गई कटौती वापस ले ली जाएगी लेकिन अभी तक इस पर राज्य सरकार ने कोई ठोस फैसला नहीं लिया। अब ग्राम प्रधान शांत नहीं बैठेंगे।
कहा गया िक प्रधानों का जांच के नाम पर भी उत्पीड़न किया जा रहा है। ग्राम पंचायतों का धन के अभाव में विकास नहीं हो पा रहा है। एमडीएम योजना की धनराशि समय से ग्राम पंचायतों के खाते में नहीं भेजी जा रही है। एमडीएम सेल के कर्मी इसमें लापरवाही बरत रहे हैं अगर समय से धन नहीं मिला तो ग्राम प्रधानों की तरफ से एमडीएम योजना का बहिष्कार किया जाएगा। उन्होंने ग्राम प्रधानों को एकजुट होकर अपनी लड़ाई शांति पूर्वक ढंग से लड़ने की अपील की। धरने के अंत में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा गया। इस दौरान हरिद्वार सिंह यादव, रामअवध यादव, ओमप्रकाश यादव, रामबचन बिंद, विजय यादव, विजय सिंह पप्पू, रवींद्र यादव, सुरेश राजभर, मुरली कुशवाहा, सुरेश यादव, हरवंश प्रजापति, अनिल यादव, महेंद्र गिरी, राजाराम यादव, काजी जमील अहमद, जमालुद्दीन खां, मुहम्मद नसीम, सुबच्चन यादव, अशोक बिंद, शिवशंकर यादव सहित सैकड़ों प्रधान मौजूद रहे।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Saharanpur

12 हजार के इनामी विनय रतन ने एलान के बाद किया कोर्ट में सरेंडर 

सहारनपुर में भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और 12 हजार के इनामी विनय रतन ने सोमवार को एलान कर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। चार घंटे पहले सोशल मीडिया पर सरेंडर का एलान करने के बाद विनय रतन भीड़ के साथ कचहरी में पहुंचा।

23 अप्रैल 2018

Related Videos

जा रही थी बारात, लेकिन हुआ ऐसा कि पसर गया मातम, 7 की मौत

गाजियाबाद में एक दर्दनाक हादसे में सात लोगों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि ड्राइवर की लापरवाही से कार 20 फीट गहरे नाले में जा गिरी। हालांकि आनन-फानन में घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

21 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen