जीपीएफ की आस में पथरा गईं आंखें

Ghazipur Updated Mon, 26 Nov 2012 12:00 PM IST
गाजीपुर। सैदपुर के खानपुर स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय के सहायक शिक्षक रामदीनराम की मौत के बाद उनकी विधवा पत्नी यशोदा देवी जो जलालत झेल रही हैं, यह उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा। पति को खोए नौ वर्ष बीत चुके हैं लेकिन उन्हें अभी तक पति के जीपीएफ का पैसा नहीं मिला है। कोर्ट के आदेश पर बेसिक शिक्षा विभाग केे अधिकारी हर बार ऐसी रिपोर्ट देते रहे हैं कि विधवा की राह आसान नहीं हो रही है।
विधवा यशोदा देवी का कहना है कि सेवाकाल में रहते हुए उसके पति की मौत 26 जून वर्ष 2003 में हो गई थी। उनकी मौत के बाद पारिवारिक पेेंशन स्वीकृत होकर उसे मिल रही है लेकिन भविष्य निधि और सामूहिक बीमा के पैसे का भुगतान अभी तक नहीं किया जा सका है।
इस बाबत कई बार विभागीय अधिकारियों से लगायत जिला प्रशासन के अधिकारियों से गुहार लगाई जा चुकी है। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर 28 अप्रैल 2009 को तत्कालीन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी वीरेंद्र प्रताप सिंह ने इस प्रकरण में नामिनी को लेकर आए विवादों की सुनवाई की। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में पीड़िता द्वारा नामिनी और उत्तराधिकार प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं करने का हवाला देते हुए भविष्य निधि की रकम का भुगतान नहीं किए जा सकनेे का जिक्र कर दिया जबकि उनके समक्ष समस्त कागजात प्रस्तुत किए गए थे। उनका अब भी कहना है कि जीपीएफ पैसे के भुगतान के लिए अभी भी जो कागजात चाहिए, उसे देने के लिए वह तैयार हैं। आरोप है कि शिक्षा विभाग के कुछ बाबू इसमें जानबूझ कर रोड़ा बने हुए हैं। इसलिए उन्हें अपने पैसे के लिए ठोकरें खानी पड़ रही हैं। इस बाबत अब जिलाधिकारी से मिलकर उन्हें पूरे प्रकरण की जानकारी दी जाएगी।
इस संबंध में पूछे जाने पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी नंदलाल सिंह ने बताया कि पीड़िता को जीपीएफ का पैसा नहीं मिला है जबकि इसे कभी ही मिल जाना चाहिए था। बताया कि मृतक आश्रित कोटे में नौकरी और जीपीएफ के पैसे को लेकर विधवा के दो पुत्रों चंद्रिका प्रसाद और द्वारिका प्रसाद से विवाद चल रहा है। इस विवाद का निस्तारण न होने की दशा में जीपीएफ का भुगतान लटका हुआ है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017