नज्मों संग आंखों-आंखों में कट गई रात

Ghazipur Updated Thu, 01 Nov 2012 12:00 PM IST
दिलदारनगर। उसियां स्थित मिनी स्टेडियम मंगलवार की रात शेरो शायरी, गीताें, गजल, व्यंग्य पर श्रोताओं की तालियों से रात भर गूंजता रहा। मौका था हारुन रसीद के नाम एक शाम पर आल इंडिया मुशायरा के आयोजन का। इसमें एक से एक नामी गिरामी शायरों ने अपनी रचनाएं पेश की। देर शाम शुरू हुई शेरो- शायरी की यह महफिल बढ़ती रात के साथ ही जवान होती गई।
कार्यक्रम की शुरूआत अल्ताफ जिया के नाते पाक की कुरान से हुआ। अपने रूमानी तथा चुटीले अंदाज में संचालन कर रहे अनवर जलालापुरी ने जब तस्ना आजमी को मंच पर बुलाया तो पूरा स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज गया। तस्ना आजमी की अपनी सुरीली आवाज में जैसे ही नज्म गूंजी ये मत समझना कि वो तुमसे प्यार करते हैं, हसीन लोग हैं वो अक्सर शिकार करते हैं, श्रोता वाह-वाह कर उठे। इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए हास्य कवि अचाकन मऊ ने अपनी रचना पढ़ी-इंसानियत का जज्बा दिखाने लगे हैं लोग, भूख से गश खाकर गिरने वालों को मिरगी समझ जूता सुघांने लगे हैं लोग। इसके बाद गजब की तंदुरूस्ती है बच्चों के अम्मा की, जब रिक्शा पर बैठती है तो रिक्शा टूट जाता है ...हंसी की लहर दौड़ गई। इसके बाद तो जैसे-जैसे कवि आते गए महफिल जवान होती गई। कांच की तरह इशारों में बिखर जाते है लोग, शराफत के वसूलों से दगावत करते है लोग सुनाकर शाइस्ता शना ने समाज के एक स्याह रूप को उजागर किया। इसके साथ ही उनकी - हर किसी से जफा नहीं मिलती, प्यार करने की भूल मत करना, इस मर्ज की दवा नहीं मिलती को खूब वाहवाही मिली।
महफिल को आगे बढ़ाते हुए संजय मिश्रा ने बुझते हुए दियों में तवनाई आ गई, देखा तुझे तो आंखों में विनाई आ गई और सज्जाद हसन ने हजारों दिल तेरे वादों में ऐसे टूट जाते है सुनाकर खूब तालियां बटोरी। शमा बलरामपुरी ने सुनाया- नींद आती है जब रातों में डूब जाती हूं तथा लोग फूलों से दामन बचाने लगे। इस के बाद एक नज्म सुनाया रोज संवरना है रोज बिखरना है भी खूब पसंद की गई। महफिल में चार चांद लगाते हुए सीओ जमानिया कमल किशोर ने सुनाया कि हवा से कह दो यूं खुद को आजमा के दिखा दें। अगली गजल में उन्होंने समाज के एक नए रूप को उजागर करते हुए फरमाया- दिया घर में उजाले कर रहा है कि घर के ताखे काले कर रहा है। शेरो शायरी की इस कड़ी में राहत इंदौरी, तरन्नुम कानपुरी, शबीना अदीब, ताहिर फराज, एकबाल असर, हासिम फिरोजा आदि ने समाज, राजनीति तथा कई समसामयिक मुद्दों पर कटाक्ष किया। इस दौरान श्रोता झूमते रहे। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में परवेज खां, शमशाद खां, जूबेर खां, जोखू, खालिद अमीर, कबीर, असलम खां, जमलूद्दीन, शफीक खां आदि ने सराहनीय भूनिका निभाई।

Spotlight

Most Read

Dehradun

देहरादून: 24 जनवरी को कक्षा 1 से 12 तक बंद रहेंगे सभी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र

मौसम विभाग की ओर से प्रदेश में बारिश की चेतावनी के चलते डीएम ने स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र बंद करने के निर्देश जारी किए हैं।

23 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper