अपराध के घटते आंकड़े, बिगड़ते हालात

Ghazipur Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
गाजीपुर। ऐतिहासिक और पौराणिक नगरी लहुरीकाशी में जहां बीर अब्दुल हमीद, स्वतंत्रता सेनानी सरजू पांडेय, अगस्त क्रांति के नायक शिवपूजन राय सरीखे महापुरुष पढ़े-लिखे और बढ़े। जरूरत पड़ने पर देश की आन-बान और शान के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। न तो जान की परवाह की और न ही कुछ और...। अफसोस है कि अब इसी सरजमीं पर चैन की वंशी बजाना मुश्किल हो गया। पिछले तीन वर्षों की अपेक्षा चालू वर्ष के आठ माह में अपराध का ग्राफ पुलिस रिकार्ड में जरूर घटा दिखता है और निरोधात्मक कार्रवाई सबसे ज्यादा, लेकिन जिस तरह के हालात जिले में दिख रहे हैं, उससे लगता है कि अपराधियों का हौसला कहीं से कम नहीं हो रहा है।
पिछले आठ माह के भीतर जिले के विभिन्न हिस्सों में जो भी अपराध हुए, उनमें कई घटनाएं तो लोगों को हिलाकर रख दीं और बहुत कुछ सोचने पर भी मजबूर कर दिया। हत्या की पांच ऐसी वारदातें सामने आईं हैं, जिनमें पुत्रों ने ही अपने पिता का कत्ल कर दिया। सबसे शर्मनाक घटना मुहम्मदाबाद में हुई। यहां महज नौ इंच जमीन के लिए ऐसा खूनी संघर्ष हुआ, जिसमें गंभीर रूप से घायल रामसिंहासन यादव की जान चली गई और कई दिनों तक इलाज चलने के बाद घायल रामसेवक की जान ऊपर वाले नेे बख्श दी। पुलिस रिकार्ड में दर्ज अपराध के आंकड़ों पर गौर करें तो वर्ष 2010-11 की अपेक्षा इस वर्ष अब तक अपराध के विभिन्न मदों में कमी आई है लेकिन मौजूद हालात कहीं न कहीं सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था के लिए ठीक नहीं है। आए दिन कहीं न कहीं हत्या, लूट, डकैती, चोरी, नकबजनी, वाहन चोरी की घटनाएं सुर्खियां बन रही हैं। ऐसे हालात में अपराध पर काबू पाने तथा अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस की ओर से तरह-तरह की कवायदें की जा रही हैं। यहां तक की जिले के एसपी से लगायत पुलिस महकमे के अन्य अफसर, कोतवाल और थानाध्यक्ष अपराधियों के ठिकानों पर छापेमारी कर पसीना बहा रहे हैं। सक्रिय एवं कुख्यात बदमाशों के मुकदमों की पैरवी भी की जा रही है तो एसपी के निर्देश पर एसओजी टीम दर्जनों अपराधियों को गिरफ्तार कर उन्हें सलाखों के पीछे भेज रही है लेकिन फिर भी उनके हौंसले पस्त होते नहीं दिख रहे हैं। इसके पीछे कहीं न कहीं अपराधियों को संरक्षण देने और उनकी पैरवी रसूखदार लोगों द्वारा किया जाना मुख्य कारण माना जा रहा है। सख्ती बरतने पर थानाध्यक्षों की कुर्सी हिल रही है, तो उनके ऊपर धौंस भी जमाई जा रही है। हाईकोर्ट के आदेश को ताक पर रखकर काबिल थानाध्यक्षों का तबादला भी कराया जा रहा है। इसके चलते ही योजना के अनुरूप अपराधियों की कमर तोड़ने में पुलिस सख्ती नहीं बरत पा रही। एक माननीय द्वारा कुख्यात अपराधी को साथ लेकर चलना इसी हिस्से की कड़ी है।

Spotlight

Most Read

National

राजनाथ: अब ताकतवर देश के रूप में देखा जा रहा है भारत

राज्य नगरीय विकास अभिकरण (सूडा) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से नया आयाम मिला है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper