काम नहीं आई प्रशासनिक कवायद, छात्रों का अनशन जारी

Ghazipur Updated Sat, 11 Aug 2012 12:00 PM IST
गाजीपुर। पीजी कालेज के छात्रों का बेमियादी अनशन समाप्त कराने की प्रशासनिक कवायद भी नाकाम रही। प्राचार्य, सीओ, तहसीलदार सभी ने मांगों को जायज बताते हुए इसे पूरा करने में समय लगने की दुहाई देते हुए आमरण अनशन को क्रमिक अनशन में बदलने को कहा लेकिन छात्र जिद पर अड़े रहे। इधर अनशनरत तीन छात्रों की हालत बिगड़ गई। आनन फानन में उन्हें जिला अस्पताल में भरती कराया गया।
उल्लेखनीय है कि बीसीसी कृषि चौथे साल के छात्र चतुर्थ प्रश्नपत्र की कापियों को फिर से जांचने की मांग को लेकर आमरण अनशन कर रहे है। इस कालेज के 89 छात्रों में में 61 छात्रों को फेल कर दिया गया है। 5 के रिजल्ट नाट फाऊंड बता रहा है। छात्रों का कहना है कि उनके साथ अन्याय हुआ है। आमरण अनशन के तीसरे दिन कालेज तथा जिला प्रशासन के लोग इसे समाप्त कराने पहुंचे जिसपर देर तक जिच होती रही लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला। इधर अनशन पर बैठे अभय तिवारी, राजू कुशवाहा और विवेक पांडेय की तबियत अधिक खराब हो गई। प्रशासन ने उन्हें एंबुलेस से लाकर जिला अस्पताल में भरती कराया। इसके बाद आमरण अनशन में तीन और नए छात्र विनोद कुमार मौर्या, सुशील कुमार आजाद, धर्मेन्द्र सिंह कुशवाहा आदि शामिल हो गए। छात्रों का कहना था कि जब तक कुलपति लिखित रूप से कापियों के पुर्नमूल्यांकन का आश्वासन नहीं देंगे तब तक आंदोलन चलता रहेगा।

मेरे अधिकार क्षेत्र से बाहर की है मांगें
प्राचार्य प्रो. अमरनाथ सिंह ने कहा कि छात्रों की मांगें जायज है पर उसे पूरा करना उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर है। इस बावत उन्होंने पहले ही कुलपति को पत्र भेजा तथा बाद में कई रिमाईंडर भी कराए। कापियों के पुर्नमूल्यांकन का निर्णय कुलपति ले सकते है। हालांकि इस काम में लंबा समय लगेगा। उन्होंने छात्रों से आमरण अनशन को क्रमिक अनशन में बदलने की अपील की। प्राचार्य ने प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि अगर उच्च शिक्षा के विशेष सचिव अनीता मिश्रा या सचिव सुशील कुमार से सीधे वार्ता कर कुलपति से इस समस्या का समाधान कराया जा सकता है।

तो चौपट हो जाएगा छात्रों का कैरियर
बीएससी एजी के छात्रों का कहना है कि इस अंतिम साल में जरा सी लापरवाही हो गई तो पूरा भविष्य चौपट हो जाएगा। एक प्रश्नपत्र की वजह से अगर परिणाम एक्स घोषित कर दिया गया तो फिर पूरी मेहनत बेकार हो जाएगी। भविष्य को देखते हुए हम इस तरह का आंदोलन कर रहे है। कहा कि प्राचार्य स्तर पर कुलपति से वार्ता कर इसका समाधान कराया जा सकता है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls