ये है ‘गैंग्स ऑफ गाजियाबाद’

Ghaziabad Updated Sun, 12 Aug 2012 12:00 PM IST
दो अपहर्ता गिरफ्तार, 50 लाख मांगी थी फिरौती
गाजियाबाद। अपहर्ताओं ने लॉ स्टूडेंट अरुण के अपहरण की प्लानिंग ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ फिल्म देखकर बनाई थी। अपहर्ता पुनीत, जयशंकर फिल्म देखकर बड़ा हाथ मारना चाहते थे। उन्होंने अरुण से दोस्ती की और उसकी कार में अगवा किया। मोबाइल चार्जर की वायर से गला दबाया और मरा जानकर बिसरख के गटर में फेंक कार साथ ले गए। अरुण को छोड़ने की एवज में 50 लाख रुपये की फिरौती भी मांगी, फिरौती की रकम लेने आए तो पकड़े गए।
एसपी सिटी ने बताया कि अपहर्ता जयशंकर उर्फ जय सिंह बिहार का है और इंदिरापुरम में रहता है। पुनीत भी बिहार से है और न्यू पंचवटी कालोनी में रहता है। पुनीत सेल्युलर कंपनी में और जयशंकर टीएचए की एक फैक्ट्री में है। दोनों आठवीं तक पढ़े हैं। पुलिस ने इन्हें हापुड़ मोड़ से गिरफ्तार किया। अपहर्ताओं ने बताया कि 6 अगस्त को नवयुग मार्केट में मॉडल शॉप पर उनकी मुलाकात अरुण से हुई। अरुण शादी का रिश्ता टूटने से आहत था। उन्होंने सहानुभूति दिखाई तो दोस्ती हो गई। उन्होंने अरुण की कार लूटने की योजना बनाई। 7 अगस्त को उन्होंने अरुण को फोन कर नवयुग मार्केट बुलाया। उसे नशे की गोलियां मिलाकर शराब पिला दी। इसके बाद वे अरुण को उसकी ही कार में डाल बिसरख पतवाड़ी गोल चक्कर के पास ले गए और गला दबाकर गटर में डाल दिया।

फिरौती ने पकड़वाया
अरुण का मोबाइल अपहर्ताओं के पास था, जो उन्होंने चालू कर रखा था। इंस्पेक्टर एलएस मौर्य ने अरुण के नंबर पर अरुण बनकर फोन किया। कहा कि मेरी कार और मोबाइल मुझे दे दो। इस पर अपहर्ताओं को लगा कि अरुण तो मर चुका है। फोन करने वाले उसके पिता हो सकते हैं। उन्होंने कहा, तुम अरुण कैसे हो सकते हैं, अरुण तो हमारे कब्जे में है, अगर उसे छुड़ाना चाहते हैं तो 50 लाख रुपये लेकर मिलो। फिरौती के बारे में जो भी बात होगी एसएमएस के जरिये करना। इंस्पेक्टर ने उन्हें फिरौती देने के बहाने बुलाया और दबोच लिया।

ये था मामला
7 अगस्त को संजयनगर निवासी अधिवक्ता ललित का बेटा अरुण संदिग्ध हालात में गायब हो गया था। वह कार से घर से निकला था। उसके मोबाइल की लोकेशन नेहरूनगर आ रही थी, मगर उसका सुराग नहीं था। 8 अगस्त सुबह अरुण घर पहुंचा और बताया कि नवयुग मार्केट में दो युवकों से बातचीत हुई और उन्होंने उसका अपहरण कर कार लूट ली। उसका गला दबाकर उसे गटर में फेंक दिया था। वह नशे में था, होश आया तो गटर का ढक्कन हटाकर बाहर निकला और घर पहुंचा। अरुण की कार बादलपुर में लावारिस खड़ी मिली। उसका पेट्रोल खत्म हो गया था।

Spotlight

Most Read

Mahoba

मंडल में जीएसटी की कम वसूली देख अधिकारियों के कसे पेंच

कर चोरी पर अब होगी सख्त कार्रवाई-

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: इस बंदर और कुत्ते की दोस्ती एक मिसाल है

अक्सर हम सब ने बंदर और कुत्ते की दुश्मनी देखी है लेकिन हापुड़ में बंदर और कुत्ते के बच्चे का प्यार इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper