फिजा को था हत्या का डर

Ghaziabad Updated Tue, 07 Aug 2012 12:00 PM IST
गाजियाबाद। ‘अनुराधा उर्फ फिजा ने करीब बीस दिन पूर्व फोन करके अपनी जान को खतरा बताया था। किसी कीमत पर वह आत्महत्या नहीं कर सकती। उसकी मौत की गहनता से जांच होनी चाहिए।’ यह कहना है कि गाजियाबाद कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे एडवोकेट नरेश यादव का।
नरेश ने बताया कि चंद्रमोहन उर्फ चांद मोहम्मद से तलाक के बाद फिजा को वर्ष 2009 में होली पर गाजियाबाद बार एसोसिएशन ने समर्थन दिया था। गाजियाबाद बार रूम में एक कार्यक्रम में भी उसे बुलाया गया था। इसके बाद से वह लगातार उनके संपर्क में थी। नरेश की मानें तो करीब बीस दिन पूर्व जब वह कोर्ट में थे, तभी फिजा की कॉल उनके मोबाइल पर आई थी। करीब तीन मिनट हुई बातचीत में फिजा ने हत्या की आशंका जताई थी।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: जब पुलिस की ‘दबंगई’ पर भारी पड़ी युवती की बहादुरी

गाजियाबाद के थाना मसूरी क्षेत्र में पुलिस की दबंगई का एक युवती ने मुंहतोड़ जवाब दिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls