विज्ञापन
विज्ञापन

लाखों के फ्लैट लिए फिर हजारों फूंके बिजली पर

Ghaziabad Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
गाजियाबाद। लाखों रुपये के फ्लैट्स फिर भी अंधेरे में कटती रातें। बिजली कटौती का असर बिल्डर्स प्रोजेक्ट में फ्लैट खरीदने वाले लाखों शहरवासियों पर भी पड़ रहा है। पावर बैकअप सुविधा के लिए फ्लैट खरीदने वालों को हजारों रुपये प्रतिमाह अतिरिक्त चुकाने पड़ रहे हैं। ऐसे में नोएडा-दिल्ली को छोड़ शहर में फ्लैट खरीदने के फैसले पर लोग खुद ही खीझते हैं। शहर में रियल एस्टेट कारोबार से करोड़ों रुपये कमाने वाले बिल्डर्स भी इस दिशा में कुछ नहीं कर रहे। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर लोग क्यों शहर में लाखों रुपये का निवेश करें?
विज्ञापन
विज्ञापन
गाजियाबाद आरडब्लूए फेडरेशन के सचिव प्रीतम लाल ने कहा कि शहर में जो फ्लैट 30 लाख रुपये का है, वह नोएडा-दिल्ली में 50 लाख रुपये का होगा। महज 15 से 20 लाख रुपये बचाने के चक्कर में लोग यहां आकर फंस जाते हैं। पावर बैकअप सुविधा के नाम पर बिल्डर रेजीडेंट्स से 14-15 रुपये प्रति यूनिट चार्ज करते हैं। इसमें भी खेल किया जाता है। बिजली आने के बावजूद पावर कट दिखाकर रेजीडेंट्स से अतिरिक्त धन वसूला जाता है।
दूसरी ओर आरएनई बिल्डर्स एसोसिएशन के प्रवक्ता गौरव गुप्ताने कहा कि बिजली देश भर के लिए बड़ी समस्या बनी हुई है। बिल्डर्स ने कई बार स्थानीय और प्रदेश स्तर पर बिजली कटौती का मुद्दा उठाया है। भविष्य में हालत सुधरने की सभी को उम्मीद है।

अपार्टमेंट एक्ट : आरडब्लूए लेगी कोर्ट की शरण
गाजियाबाद। अपार्टमेंट एक्ट 2010 का शहर में कड़ाई से पालन कराने की पहल गाजियाबाद आरडब्लूए फेडरेशन ने की है। फेडरेशन एक्ट और उसके नियमों को प्रभावी तरीके से लागू कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट का सहारा लेगी। फेडरेशन ने पांच जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल डालने की तैयारी शुरू कर दी है। फेडरेशन चेयरमैन कर्नल टीपी त्यागी ने बताया कि लाखों की आबादी बहुमंजिला इमारतों में रहती है। इनके हितों की रक्षा के लिए बनाए गए अपार्टमेंट एक्ट 2010 और एक्ट के नियमों 2011 का पालन नहीं किया जा रहा है। अधिकारियों की उदासीनता और मिलीभगत से बिल्डर अभी अपनी जिम्मेदारियों से बच रहे हैं। फेडरेशन किसी व्यक्ति या संस्था पर आरोप लगाने की बजाय एक्ट को प्रभावी ढंग से लागू कराने की अपील सुप्रीम कोर्ट से करेगा।

ऐसा क्यों नहीं होता
गाजियाबाद आरडब्लूए फेडरेशन के चेयरमैन कर्नल टीपी त्यागी ने बताया कि नोएडा अथॉरिटी ने यूपीपीसीएल को को 200 करोड़ रुपये दिए। यूपीपीसीएल ने इस धनराशि को सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड को नोएडा के लिए कुछ अतिरिक्त बिजली देने के लिए दिया। अब नोएडा को 24 घंटे बिजली मिलती है। जीडीए वीसी को भी यही करना चाहिए।

Recommended

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
HP Board 2019

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Delhi NCR

हाथी की जगह गलती से दब गया कमल का बटन, बसपा समर्थक ने अफसोस में काट ली अपनी अंगुली

मतदान के दौरान जल्दबाजी में मनपसंद प्रत्याशी के स्थान पर भाजपा का बटन दबाने के बाद खुद को बसपा का समर्थक बताने वाले युवक ने अपनी तर्जनी अंगुली काट ली।

19 अप्रैल 2019

विज्ञापन

राजधानी नई दिल्ली के मायापुरी में सीलिंग को लेकर बवाल, पुलिस पर बरसाए गए पत्थर

राजधानी नई दिल्ली के मायापुरी में उस समय बवाल हो गया, जब नगर निगम की टीम एनजीटी के आदेश पर राजधानी के सबसे बड़े कबाड़ मार्केट में सीलिंग करने के लिए पहुंची। कुछ स्थानीय लोगों ने यहां पुलिस पर पथराव कर दिया, जिसके बाद पुलिस को एक्शन लेना पड़ा।

13 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election