'My Result Plus

10 लाख में अपना आशियाना

Ghaziabad Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बदले में बिल्डरों को मिलेंगी कई तरह की छूट, ईडब्लूएस और एलआईजी श्रेणी के मकान बनाने पर जोर
गाजियाबाद। करोड़ों की कोठियों के बीच एनसीआर में आम आदमी को यदि सिर छिपाने के लिए छत मिल जाए तो उसे और क्या चाहिए। इसी सोच के साथ जीडीए कम आयवर्ग के लोगों के लिए सस्ते मकानों की स्कीम लेकर आया है। शहरवासियों को पांच से दस लाख तक में मकान उपलब्ध कराने के लिए जीडीए बिल्डरों को कई तरह की छूट देगा मगर फायदा आम आदमी को होना तय है।
2010 में बसपा सरकार ने अधिसूचना जारी कर बिल्डरों को आवासीय योजनाओं में ऐसे भवनों का निर्माण अनिवार्य कर दिया था। ईडब्लूएस की कीमत दो और एलआईजी की कीमत चार लाख रुपये तय की थी। मगर लागत में इजाफा होने से योजना सफल नहीं हो पाई।

जीडीए भी बनाएगा हर साल 4300 ईडब्लूएस मकान
वर्तमान में भवन निर्माण की लागत व अन्य खर्चों के मद्देनजर अफोर्डेबल हाउस नहीं बनाए जा रहे हैं। भवन निर्माण की लागत को कम करने के लिए जीडीए ने बिल्डरों को कई तरह की छूट देने का प्रस्ताव बनाया है। प्रस्ताव पर शासन की मंजूरी ली जाएगी। प्राधिकरण के लिए भी शासन ने 4300 ईडब्लूएस भवन बनाने का लक्ष्य दिया है।
-संतोष यादव, उपाध्यक्ष, जीडीए

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

CBSE ने 10वीं के RE-EXAM पर कोर्ट में दिया जवाब, एक बच्चे के लिए लाखों को मुश्किल में नहीं डाल सकते

सीबीएसई की दसवीं पेपर लीक केस में शुक्रवार को केंद्रीय माध्यमिक शैक्षणिक बोर्ड ने दिल्ली हाईकोर्ट को जानकारी दी कि दसवीं की गणित की परीक्षा दोबारा नहीं होगी।

20 अप्रैल 2018

Related Videos

VIDEO: फैक्ट्री में लगी भयंकर आग ने कर दिया ये हाल

गाजियाबाद के लिंक रोड में एक पाइप फैक्ट्री में भीषण आग लग गई. सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां पहुंची । घटना कौशांबी मेट्रो स्टेशन के पास की है। फिलहाल किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है।

20 अप्रैल 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen