बड़ा दर्द भ्‍ारा रहेगा सोमवार

Ghaziabad Updated Sun, 24 Jun 2012 12:00 PM IST
प्राइवेट चिकित्सकीय सेवाएं बंद रहीं तो कराह उठेगा महानगर
गाजियाबाद। आईएमए के प्रस्तावित प्राइवेट मेडिकल सर्विसेज बंद का गाजियाबाद पर खासा असर पड़ेगा। महानगर की 80 फीसदी जनता प्राइवेट अस्पतालों और क्लीनिक में ही इलाज कराती है। ऐसे में 25 जून का दिन शहर पर बड़ा भारी पड़ने वाला है। बता दें कि डॉक्टर एनसीएचआरएच-बिल 2011 का विरोध कर रहे हैं।
आईएमए गाजियाबाद के सचिव डाक्टर राजीव गोयल ने बताया कि इस बिल की वजह से छोटे क्लिनिक और नर्सिंग होम्स लगभग बंद होने की कगार पर पहुंच जाएंगे। बड़े प्राइवेट अस्पतालों को इससे अधिक फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन छोटे नर्सिंग होम्स और क्लीनिक तबाह हो जाएंगे। साथ ही इलाज भी महंगा हो जाएगा।

80 फीसदी जनता प्राइवेट क्लीनिक के सहारे
आईएमए के अध्यक्ष अशोक डा. अशोक अग्रवाल ने बताया कि 80 फीसदी जनता प्राइवेट चिकित्सीय सेवाएं लेती है। युवा पीढ़ी पहले ही डाक्टरी पेशे से दूर होती जा रही है। सरकार की ओर से इस तरह के तुगलकी फरमान जारी होते रहे तो भविष्य में डाक्टरों की भारी कमी हो जाएगी।

क्यों हो रहा है विरोध
नेशनल कमीशन फॉर ह्यूमन रिसोर्स इन मेडिकल हेल्थ बिल-2011 के तहत मेडिकल काउंसिल को भंग करके और केंद्र सरकार अपनी काउंसिल बनाएगी, जिसमें सरकार के ही लोग होंगे, जो मेडिकल फील्ड से नहीं होंगे। आईएमए के अध्यक्ष डा. अशोक अग्रवाल ने बताया कि एक्ट केंद्र की तानाशाही का परिचायक है। क्लीनिकल इस्टेब्लिशमेंट एक्ट 2010 के अनुसार डाक्टर अपना पेशा छोड़कर कोई और पेशा नहीं कर सकता है। एमबीबीएस और एमडी करने के बाद उसे फिर एक्जिट एग्जाम देना होगा। विदेश में जाने के लिए अनुमति लेनी होगी और सबसे बड़ी बात अगर किसी डॉक्टर को कोई दिक्कत है तो मौलिक अधिकार का हनन करते हुए उसे कोर्ट में अपील करने की इजाजत भी नहीं है।

क्या है मांग
चिकित्सकों की मांग है कि एनसीएचआरएच-बिल 2011 पर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा हो और मेडिकल काउंसिल की स्वायत्तता को बरकरार रखा जाए। साथ ही क्लीनिकल इस्टेब्लीशमेंट एक्ट 2010 को हटाया जाए।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, पांच साल की सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: जब पुलिस की ‘दबंगई’ पर भारी पड़ी युवती की बहादुरी

गाजियाबाद के थाना मसूरी क्षेत्र में पुलिस की दबंगई का एक युवती ने मुंहतोड़ जवाब दिया।

23 जनवरी 2018