07 घंटे दिन में बिजली कट

Ghaziabad Updated Sat, 16 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
गाजियाबाद। रविवार को दिन आधे शहर पर भारी पड़ने वाला है। डीपीएच सब स्टेशन कार्य के चलते सात घंटे तक बिजली गायब रहेगी। इस कारण पानी की आपूर्ति भी प्रभावित रह सकती है। लोग सुबह सात बजे से पहले उठकर पानी स्टोर कर लें। मालीवाड़ा स्थित डीपीएच 132केवीए सब स्टेशन तक लाइन लाने का कार्य चल रहा है और रविवार को लाइन को मोरटा से आगे लाया जाना है, जिसके चलते मोरटा 132केवीए ट्रांसमिशन सब स्टेशन बंद रहेगा।
विज्ञापन

पावर कारपोरेशन के ट्रांसमिशन विभाग ने शट डाउन के लिए शुक्रवार को मुख्य अभियंता पीके महेश्वरी और अधीक्षण अभियंता अरुण कुमार से शट डाउन मांगा है, जिसपर सहमति बन गई हैं। ट्रांसमिशन विभाग ने क्षेत्रों के 33केवीए डिस्ट्रीब्यूशन सब स्टेशनों के एसडीओ को शट डाउन लेने की जानकारी दी। ट्रांसमिशन के एसडीओ पीके श्रीवास्तव ने बताया कि एनएच-58 को कवर कर लिया गया है। अब मोरटा से आगे लाइन लाने के लिए 33केवीए के सारे फीडरों को बंद रखना होगा। सुबह सात बजे से दोपहर दो बजे तक का शट डाउन लिया जाएगा।
कालोनियां रहेंगी प्रभावित
शहर की 132 कालोनियां सुबह सात बजे से दोपहर दो बजे तक प्रभावित रहेंगी। प्रमुख कालोनियाें में कमला नेहरू नगर, गुलधर, मानसी विहार, चिरंजीव विहार, महेंद्रा एंक्लेव, अवंतिका, गोविंदपुरम, कर्पूरीपुरम, शताब्दीपुरम, केशव कुंज, स्वर्ण जयंतीपुरम, गोविंद विहार, पुलिस लाइन, हरसाव, आरडीसी, गोविंदपुरम, मधुबन बापूधान, कृष्णा नगर, हिंडन विहार, लोहया नगर, नंदग्राम, पटेल नगर, घूकना, दीनदयाल पुरी, विकास नगर आदि हैं।

बिजली ने सताया तो पानी ने रुलाया
गाजियाबाद। भयंकर गर्मी में संसाधन भी साथ छोड़ रहे हैं। बिजली और पानी ने लोगों की परेशानी और बढ़ा दी है। महानगर की 18 लाख आबादी को रोजाना 510 एमएलडी पानी की जरूरत पड़ती है, जिसकेसापेक्ष 403 एमएलडी पानी मिल रहा था। निगम जैसे-तैसे पानी की सप्लाई कर लोगों की प्यास काबू किए था, लेकिन गर्मी में हालात और बेकाबू हो गए हैं। निगम रिकार्ड के अनुसार अब मात्र 390 एमएलडी पानी मिल पा रहा है। इसका भी प्रेशर नहीं है। जलकल विभाग के अनुसार 70 फीसदी आबादी को जरूरत के हिसाब से पानी नहीं मिल रहा है। निगम में औसतन रोजाना 350 शिकायतें पानी न मिलने की आ रही हैं। जीएम जलकल बाबूलाल ने बताया कि वोल्टेज की हालत सुधरने और कटौती बंद होने तक पेयजल की हालत में सुधार की कोई उम्मीद नहीं है।

बिजली कटौती से जनता बेहाल
गाजियाबाद। ...फिर चली गई, पता नहीं बिजली कब आएगी। शुक्रवार को लोगों की जुबान पर यही जुमला रहा है। आपूर्ति कम होने से प्रयासों के बावजूद लोगों के 10 से 12 घंटे तक की कटौती झेलनी पड़ रही है। कुछ इलाकों में खासी दिक्कत पेश आई।
गांधी नगर, अशोक नगर, नेहरू नगर, राकेश मार्ग, पटेल नगर, मेरठ रोड, नंदग्राम, गुलधर, राजनगर, गोविंदपुरम आदि कालोनियों में खासी दिक्कत रही। गांधी नगर में तो बिजली की आंख मिचौली ने दिनभर परेशान रखा। नेहरू नगर में और दिनों ज्यादा दो घंटे ज्यादा की कटौती रही। अधीक्षण अभियंता अरुण कुमार ने बताया कि मांग ज्यादा और आपूर्ति कम है, जिसके चलते दिक्कत पेश आ रही है।

आवासीय क्षेत्रों को प्राथमिकता पर बिजली
गाजियाबाद। विद्युत संकट रहने तक आवासीय क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर आपूर्ति की जाएगी। प्रदेश स्तर पर विद्युत उत्पादन घटने के कारण उद्योगों पर कटौती की मार पड़ेगी। उद्योगों की बिजली प्रतिदिन आठ घंटे काटने का फैसला लिया है। बुजुर्ग, मरीज और बच्चों की बगैर बिजली दिक्कतों को देखते हुए रणनीति तैयार की है। पावर कारपोरेशन के मुताबिक सुबह छह बजे से दोपहर दो बजे तक उद्योगों में कटौती की जाएगी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us