'My Result Plus
'My Result Plus

नए सत्र से सिलेबस चेंज

Ghaziabad Updated Sun, 13 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
एमटीयू ः बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक में बीटेक को लेकर हुए कई फैसले
गाजियाबाद। इंडस्ट्री की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए महामाया प्राविधिक विश्वविद्यालय (एमटीयू) नए सत्र से बीटेक फर्स्ट और सेकेंड सेमेस्टर के सिलेबस में बदलाव करने जा रहा है। अब फर्स्ट ईयर में बीटेक के सभी ब्रांच के सिलेबस अलग-अलग होंगे ताकि स्टूडेंट्स की आगे की पढ़ाई आसान हो सके। खास बात यह है कि एमटीयू सिलेबस को बदलने के लिए आईआईटी के प्रोफेसर्स की भी मदद लेगा। यही नहीं अंग्रेजी में स्टूडेंट्स को आ रही दिक्कतों से निपटने के लिए एक सप्ताह के ओरिएंटेशन प्रोग्राम को भी अनिवार्य किया जाएगा। साथ ही बीटेक फर्स्ट और सेकेंड सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को मल्टी लैंग्वेज प्रोसेसिंग के क्षेत्र में भी ट्रेंड किया जाएगा। सेलेबस रिवाइज करने सहित कई प्रमुख बदलाव को लेकर हुई एमटीयू की बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। बता दें कि यूपीटीयू के विभाजन से पूर्व ही बीटेक का सिलेबस रिवाइज हुआ था। ऐसे में काफी समय से इंडस्ट्री की जरूरतों के अनुसार सेलेबस में बदलाव की मांग उठ रही थी। बैठक में तय किया गया कि आईआईटी दिल्ली के पूर्व प्रो. अविनाश चंद्रा बीटेक की सभी ब्रांच के प्रथम और द्वितीय सेमेस्टर के लिए एनर्जी इन्वायरमेंट एंड इकोलॉजी का सेलेबस तैयार करेंगे। वहीं, आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर एचएम चावला अन्य इंजीनियरिंग ब्रांच के फर्स्ट और सेकेंड सेमेस्टर का सिलेबस तैयार करेंगे। गौरतलब है कि अब तक फर्स्ट सेमेस्टर की सभी ब्रांच में इलेक्टिव सब्जेक्ट एक ही होता था, लेकिन कमेटी के सदस्यों ने इसे ब्रांच वाइज करने की बात कही है। इस बैठक में एमटीयू कुलपति सहित गाजियाबाद और नोएडा के विभिन्न कॉलेजों से आए प्रोफेसर शामिल थे।

सेकेंड सेम में फिजिक्स अलग
बोर्ड ऑफ स्टडीज ने तय किया है कि ब्रांच वाइज फिजिक्स का सिलेबस तैयार किया जाएगा। अब तक सभी ब्रांच के स्टूडेंट्स फिजिक्स का एक जैसा ही पेपर दे रहे थे। बैठक में तय हुआ कि विभिन्न ब्रांच के लिए फिजिक्स सेकेंड पेपर का सिलेबस तीन प्रकार से बनाया जाएगा। प्रथम सेमेस्टर में सब एक जैसा ही कोर्स पढ़ेंगे, लेकिन सेकेंड सेमेस्टर में इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रानिक्स के लिए अलगेे, मेकेनिकल और सिविल के अलग तथा सीएस/आईटी के लिए फिजिक्स का अलग सिलेबस होगा।


इंग्लिश की मिलेगी ट्रेनिंग
बैठक में इंग्लिश के लिए एक सप्ताह का ओरिएंटेशन प्रोग्राम अनिवार्य किए जाने का सुझाव दिया गया है। इसमें स्टूडेंट्स को इंजीनियरिंग में प्रयोग में लाई जा रहे शब्दों का शब्दकोश और प्रोफेशनल कम्यूनिकेशन की ट्रेनिंग मिलेगी। हिंदी माध्यम से पढ़कर इंजीनियरिंग में दाखिला लेने वाले स्टूडेंट्स को कोर्स में इस्तेमाल किए जा रहे टेक्निकल टर्म को समझाया जाएगा। इसके अलावा तीन घंटे का ह्यूमन वैल्यूज एंड एथिक्स और इंट्रोडक्शन टू इंजीनियरिंग का कोर्स भी चलाया जाएगा।

सिलेबस में बदलाव इंडस्ट्री की जरूरतों को ध्यान में रखकर किया जा रहा है ताकि स्टूडेंट्स को इंडस्ट्री में आसान से जॉब मिल सके। इस साल प्रथम वर्ष का सिलेबस रिवाइज किया जा रहा है और अगले साल द्वितीय वर्ष का सिलेबस रिवाइज किया जाएगा। -डा. एसके कंसल, डायरेक्टर एबीईएस इंजीनियरिंग कॉलेज

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

विदेशों में नाम रोशन कर रहीं मेरठ की बेटियां  

पढ़ाई, कुश्ती, हॉकी और शोध के क्षेत्र में सोना जीतने वाली मेरठ की बेटियां समाजसेवा और समर्पण भाव में भी अव्वल हैं।

25 अप्रैल 2018

Related Videos

गाजियाबाद: चलते ऑटो पर गिरा मेट्रो का गार्डर, हादसे का जिम्मेदार कौन?

दिल्ली से सटे गाजियाबाद के मोहन नहर इलाके में मेट्रो का गार्डर गिरने से बड़ा हादसा हो गया। ये गार्डर रोड पर गुजर रहे ऑटो पर गिरा जिससे एक दर्जन लोग घायल हो गए जिनमें से चार लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए।

23 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen