बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बैठकें होती रहीं पर नहीं बदले हालात

Firozabad Updated Sun, 10 Feb 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
जसराना। छह माह के कार्यकाल के दौरान बोर्ड की चार बैठकें हुईं। बैठकों में 32 प्रस्ताव के साथ अन्य समस्याएं आईं। कुछेक प्रस्तावों को छोड़ दें तो अधिकांश प्रस्ताव या तो अधूरे हैं या फिर उन पर कार्य शुरू नहीं हो सका है। छह माह में तीन ईओ के साथ काम कर चुके नगर पंचायत अध्यक्ष विकास कार्यों में धन के अभाव को रोड़ा बता रहे हैं।
विज्ञापन

नगर पंचायत के गठन के बाद बोर्ड की पहली बैठक 21 जुलाई 2012 को हुई। जिसमें सभासदों ने अपने क्षेत्र की समस्याओं को प्रमुखता से रखा। वहीं विकास कार्यों को लेकर आठ प्रस्ताव भी पारित किए गए। सभासदों के साथ बैठकों में प्रस्ताव तो करोड़ों के पास हो गए लेकिन विकास कार्य कुछ ही लाख के हो सके हैं। घिरोर रोड़ पर होने वाले जलभराव से जनता को मुक्ति नहीं मिल सकी है। नाला बन तो गया है लेकिन चालू न होने से घरों एवं बरसात का पानी सड़क पर भरा रहता है। एटा रोड पर सड़कों में गड्ढे लोगों की परेशानी का सबब बने हुए हैं। रेहड़ी वालों ने जसराना की सड़कों की पटरियों को अपने कब्जे में ले लिया है। इससे हर रोज जाम लगता है। छह माह में बोर्ड की कुल चार बैठकों में 32 प्रस्ताव पारित किए गए हैं। सभासद केपी सिंह यादव ने कहा कि नगर पंचायत में नियमित ईओ की तैनाती न होना भी विकास कार्यों में बाधक बनी हुई है।


प्रथम बैठक - 21 जुलाई 2012 आठ प्रस्ताव पास
द्वितीय बैठक - 22 अगस्त 2012 चौदह प्रस्ताव पास
तीसरी बैठक - 28 सितंबर 2012 पांच प्रस्ताव पारित
चौथी बैठक - पांच दिसबंर 2012 पांच प्रस्ताव पारित

बोर्ड की बैठकों के प्रमुख प्रस्ताव
प्रमुख गलियों के साथ नई गलियों का निर्माण
घिरोर रोड़ पर पुलिया का निर्माण
मुस्तफाबाद रोड पर अधूरे नाले का निर्माण
सफाई व्यवस्था के लिए ट्रैक्टर-ट्राली की खरीद
एटा शिकोहाबाद मार्ग पर इंटरलाकिंग का कार्य
चारों सड़कों पर स्वागत द्वारों का निर्माण
नए ट्यूबवेल से टंकी तक पाइप लाईन
प्रकाश और पेयजल व्यवस्था के लिए जनरेटर की खरीद
अन्य भी कई प्रस्ताव बोर्ड की बैठकों में पारित किए गए हैं।

नगर पंचायत अध्यक्ष - राघवेंद्र सिंह नागर
मोबाइल नंबर - 9761043002
शपथ ग्रहण की - 19 जुलाई 2012
सभासदों की संख्या - 11

अभी तक बोर्ड की चार बैठकों का आयोजन किया है। सभासदों के साथ प्रस्ताव पास किए गए हैं। शासन से ग्रांट न मिलने के कारण अधिकांश कार्य रुके हुए हैं। 13 वें वित्त आयोग से मिले धन से कार्य कराए जा रहे हैं। शासन से धन मिलते ही विकास कार्यों में तेजी लाने का कार्य किया जाएगा। घिरोर रोड पीडब्लूडी की है। वहां नाले का निर्माण हो चुका है लेकिन अभी चालू नहीं कराया जा सका है।

क्या कहते हैं सभासद
वार्ड 11 के सभासद योगेंद्र यादव का कहना है कि बोर्ड की बैठकों में प्रत्येक सभासद के वार्ड की समस्याओं पर प्रमुखता से कार्य किया जा रहा है। शासन से धन न मिलने के कारण विकास कार्य अटके हैं।

मेेरे कार्यकाल में जसराना में सर्वांगीण विकास हुआ था। जसराना में नाले के निर्माण के साथ सफाई व्यवस्था पर ध्यान देने की आवश्यकता है।
राजकुमार यादव, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष

ग्रांट जल्द मंजूर हो
अन्ना आंदोलन से जुडे़ व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष सुरेश चंद गुप्ता के अनुसार जसराना में विकास कार्य किए जा रहे हैं। धन न मिलने के कारण विकास कार्यों में तेजी नहीं आ पा रही है। सरकार को नगर पंचायत की ग्रांट जल्द मंजूर कर धन भेजना चाहिए जिससे जसराना में विकास कार्य गति पकड़ सकें।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us