एक ही मंडप फेरे तो निकाह भी

Firozabad Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST
सिरसागंज। समाजसेवी संस्था जनकल्याणम का सामूहिक विवाह समारोह कौमी एकता की मिसाल बन गया। एक ही पंडाल में 47 हिंदू और चार मुसलिम जोड़े विवाह के बंधन में बंधे तो सैकड़ों हाथ उन्हें आशीर्वाद देने को खड़े हो गए। एक तरफ पंडितों ने शादी की रस्में अदा कराईं तो दूसरी तरफ काजी ने निकाह पढ़ा।
जनकल्याणम सेवा संस्थान के तत्वावधान में आयोजित चतुर्थ सामूहिक विवाह समारोह में 51 जोड़ों के विवाह तैयारियां भव्य रूप से की गई थीं। पूर्वाह्न 11 बजे पूर्व मंत्री ठा. जयवीर सिंह, अध्यक्ष अतुल प्रताप सिंह और निदेशक सुमित प्रताप सिंह के साथ 51 दूल्हों की विशाल बारात आगरा रोड स्थित एलआर कोल्ड स्टोर से गाजेबाजे के साथ निकली। आतिशबाजी के साथ बाराती ढोल, नगाड़ों की थाप पर थिरक रहे थे। कार्यक्रम स्थल जदुद्वार पहुंचने पर वधु पक्षों के द्वारा बारातियों का स्वागत किया गया। मंच पर वरमाला का कार्यक्रम हुआ। संत समाज से आए महात्माओं के साथ जयवीर सिंह, अतुल सिंह, सुमित सिंह, पूर्व पालिकाध्यक्ष रामप्रकाश अग्रवाल, केके खंडेलवाल, वाले यादव, सुधीर तिवारी, कंबोद सिंह, अशोक जैन, कन्हैया जैन, पप्पू प्रधान, संजय सिंह व जदुद्वारा सेवा समिति के अशोक सिंह, यशवंत सिंह आदि ने जोड़ों को आशीर्वाद दिया। गायत्री परिवार सदस्यों ने वेद मंत्रों द्वारा वर कन्या के फेरों की रस्में पूरी कराईं वहीं मुसलिम जोड़ों का काजीजी द्वारा निकाह संपन्न कराया गया।

नरसेवा नारायन सेवा
जनकल्याणम के अध्यक्ष अतुल प्रताप सिंह ने कहा कि नर सेवा ही नारायन सेवा है। समारोह में उन कन्याओं का विवाह कराया जाता है जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं। छह दिसंबर को हिंदू मुसलिमों के बीच जो दीवार खिंची थी उसे भी दूर करने का प्रयास किया गया है।

कन्यादान लेने वालों की उमड़ी भीड़
कन्यादान को महादान माना जाता है। जनकल्याण के सामूहिक विवाह समारोह में कन्यादान लेने के लिए भी कई लोग विवाह समारोह में शामिल हुए। सभी ने अपनी अनुसार सामान दिया।

दो सिपाही लगाकर भूले अधिकारी
जनकल्याणम के पूर्व के आयोजनों में सुरक्षा व्यवस्था रहती थी, लेकिन इस बार पुलिस और प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था पर ध्यान नहीं दिया। सिर्फ दो सिपाही लगाकर जिम्मेदारी पूरी कर ली। हाईवे के निकट हो रहे आयोजन के लिए ट्रैफिक पुलिस लगाना भी उचित नहीं समझा।

अब तक 204 जोड़ों का बसाया घर
जनकल्याणम ने चतुर्थ विवाह समारोह के साथ ही 204 जोड़ों का घर बसाने का श्रेय हासिल कर लिया है। जिनके विवाह कराए हैं वह बहनें रक्षा बंधन पर आकर आयोजकों को राखी बांधती हैं।

यादगार है हमारा विवाह
सिरसागंज। दूल्हे की पोशाक में तैयार नगला मदारी के शिवराज सिंह ने कहा कि हमारा विवाह एक यादगार विवाह है। मेरे साथ 50 और भी जोडे़ विवाह के बंधन में बंध रहे हैं।

गरीबों के लिए वरदान है जनकल्याणम (फोटो साधना)
जीवन साथी श्याम सुंदर के साथ सात फेरे लेने वाली साधना ने बताया कि उनके पिता सत्यपाल मजदूरी करते हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं था कि वह शादी कर पाते। हम गरीबों के लिए ऐसे आयोजन वरदान की तरह हैं।

दूर दराज के लोग भी हुए शामिल
हरसिंगपुर जालौन का भी जोड़ा इस विवाह समारोह में शामिल हुआ। पिता की तबियत खराब होने के कारण चांदनी के विकलांग जीजा रामसंजीवन के ऊपर सारी जिम्मेेदारियां थीं। रामसंजीवन ने बताया उन्हें कुछ नहीं करना पड़ा। प्रत्येक कार्य के लिए एक समिति गठित है।

आपसी द्वेष को मिटा रही है संस्था
दूल्हा बने शमशुद्दीन ने कहा कि जनकल्याणम हिंदू मुसलिम समुदाय के विवाह और निकाह एक ही पंडाल में करा कर आपसी प्रेम और सौहार्द को बढ़ा रही है।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

सलमान खान को दी थी जान से मारने की धमकी अब है सलाखों के पीछे

फिरोजाबाद में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें पंजाब और हरियाणा का शार्प शूटर रवींद्र उर्फ काली राजपूत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। काफी दिन से पुलिस इनकी तलाश कर रही थी। इसके तार इंटरनेशनल लारेंस विश्नोई गैंग से भी जुड़े हैं।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper