साड़ी, कंबल, खाद्यान्न सामग्री की जुगत में गरीब

Firozabad Updated Wed, 17 Oct 2012 12:00 PM IST
फीरोजाबाद। सुहागनगरी में गरीबों को उनका हक नहीं मिलता। कहीं नियमावली बाधक है तो कहीं बजट नहीं मिला। गरीब सरकारी दफ्तरों तक दौड़ लगाने को विवश है। इंदिरा आवास योजना के तो पात्र ही खत्म हो गए क्योंकि 01 की जो जनगणना हुई उसमें कोई गरीब नहीं बचा है। कई अन्य योजनाओं का हाल बेहाल है।

इंदिरा आवास योजना नियमावली बाधक
गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के आवास बनाने के लिए शासन की ओर से 2452 का लक्ष्य दिया गया, लेकिन 01 की जनगणना के आधार पर जिले में कोई पात्र नहीं शेष रहा। इसके कारण केंद्र से धनराशि आवंटित नहीं की गई।

न साड़ी मिली न कंबल
भूख मुक्त जीवन रक्षा गारंटी योजना के तहत बीपीएल कार्डधारक महिलाओं को दो साड़ी एवं 65 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों को कंबल तथा महिलाओं को साड़ी एवं कंबल दोनों मिलेंगे। जिले में सर्वे कर 14,2057 महिलाएं एवं 28,262 कंबल के लिए चयन किया। अभी तक विभाग को फूटी कौड़ी नहीं मिली।

पेंशन योजना में बजट मिला और न लक्ष्य
बसपा शासन में गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को 400 रुपया प्रतिमाह पेंशन देने के लिए महामाया गरीब आर्थिक मदद योजना शुरू की थी। 20,123 पात्रों को लाभ मिला। दिसंबर 2011 के बाद पेंशन की धनराशि नहीं दी गई। सपा शासन में नाम बदलकर अब रानी लक्ष्मीबाई पेंशन योजना कर दिया। लेकिन न तो अभी तक लक्ष्य मिला और न ही कोई धनराशि आवंटित की गई है।

फ्री शौचालय स्कीम में कमीशन का खेल
बीपीएल कार्ड धारकों के लिए शौचालय बनवाने का प्रावधान है। इसके लिए अब दस हजार धनराशि मिला करेगी। लेकिन इनका चयन करने से पूर्व कमीशन का खेल चलता है। शहरी क्षेत्र में जिला नगरीय विकास अभिकरण एवं गांवों में पंचायती राज विभाग बनवाता है। पात्रों की मानें तो चयन से पूर्व पैसे की डिमांड स्टाफ द्वारा की जाती है। करबला क्षेत्र में पहुंची टीम को बैरंग लौटना पड़ा।

गरीबों को समय से नहीं मिलता राशन
जिले में बीपीएल परिवारों की संख्या 53,752 एवं अंतोदय कार्डधारकों की संख्या 32,580 है। इनको राशन सामग्री समय से नहीं मिलती। क्योंकि बाजारों में राशन महंगा आता है जबकि इन्हें सस्ती दरों में उपलब्ध होता है। इसके कारण ब्लैक में बिक्री कर लेते हैं। बीपीएल कार्डधारक को 4.65 रुपया की दर से 15 किलोग्राम गेहूं एवं 20 किलोग्राम चावल 6.15 रुपया की दर से मिलते हैं। इधर अंतोदय कार्ड धारकों को दो रुपये की दर से 15 किलो गेहूं एवं तीन रुपये की दर से 20 किलोग्राम चावल मिलते हैं।

नहीं मिला कब्जा
कांशीराम आवास योजना के तर्ज पर सपा ने लोहिया आवास योजना शुरू करने की घोषणा की थी। ताकि गरीबों के आवास मुहैया हो सकें। जिन आवासों का आवंटन किया गया उन्हें ही आज तक कब्जा नहीं मिला। विभागीय अफसर इस मामले में चुप्पी साधे हैं। लोहिया आवास योजना कहां शुरू होगी कुछ पता नहीं।

यह है गरीबी का मानक
शहरी क्षेत्र में बीपीएल उसे माना जाता है जिस व्यक्ति की वार्षिक आय 25 हजार से कम हो।
ग्रामीण अंचल में परिवार की वार्षिक आय 19,500 से कम होनी चाहिए। इससे कम आय वाले अंतोदय श्रेणी में होते हैं शामिल।

गरीबों का हक छीन रहे सुविधा संपन्न
ग्रामीण अंचल में सुविधा संपन्न लोगों ने बीपीएल कार्ड बनवा लिए और गरीबों का हक छीन रहे है। कोई शिकायत करे तो प्रधान एवं सचिव बचाव करने उतर आते हैं। कई स्थानों पर इसी को लेकर विवाद तक हो गए।

बीपीएल, अंतोदय का लक्ष्य शासन से तय है। गरीब तो मिलते हैं लेकिन उनको कार्ड जारी न कर पाना विभाग की मजबूरी है। उन्हें दूसरी योजनाओं से लाभान्वित किया जाता है। राशन सामग्री समय से दिलाने का हर संभव प्रयास करते हैं।
ओमप्रकाश, जिला पूर्ति अधिकारी फीरोजाबाद।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

सलमान खान को दी थी जान से मारने की धमकी अब है सलाखों के पीछे

फिरोजाबाद में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें पंजाब और हरियाणा का शार्प शूटर रवींद्र उर्फ काली राजपूत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। काफी दिन से पुलिस इनकी तलाश कर रही थी। इसके तार इंटरनेशनल लारेंस विश्नोई गैंग से भी जुड़े हैं।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper