भारत छोड़ो आंदोलन का साक्षी था बड़ा डाकखाना

Firozabad Updated Wed, 08 Aug 2012 12:00 PM IST
फीरोजाबाद। जब रण करने को निकलेंगे, स्वतंत्रता के दीवाने, धरा धंसेगी, प्रलय मचेगी, व्योम लगेगा थर्राने। देशभक्ति का कुछ यही तराना गाते हुए सुहाग नगरी के स्वतंत्रा के योद्धाओं ने भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान अंग्रेजी हुकूमत और उनके नौकरशाहों के दांत खट्टे किए थे।
आठ अगस्त 1942 को मुंबई में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के अवसर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने करो या मरो का मंत्र फूंका था। कांग्रेस आंदोलन की तैयारी कर रही थी। वहीं नौकरशाहों ने भी आंदोलन कुचलने की रणनीति बनाई थी। नौ अगस्त को मुंबई में महात्मा गांधी कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्यों के साथ गिरफ्तार हुए। इसके बाद देशभर में अगस्त क्रांति की ज्वाला धधक उठी। जगह-जगह गिरफ्तारियां शुरू हो गईं। फीरोजाबाद भी आंदोलन की आग में जल उठा। कई योद्धा इस रण में कूद पड़े। नौ अगस्त को दोपहर एक बजे जगन्नाथ लहरी को उनकी दुकान से गिरफ्तार कर लिया। शाम चार बजे लाला गोपीनाथ गर्ग भी गिरफ्तार किए गए। उन दिनों फीरोजाबाद नगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ला. गोपीनाथ और महामंत्री श्री लहरी थे। दूसरे दिन दोनों को आगरा सेंट्रल जेल में नजरबंद कर दिया। इन गिरफ्तारियों ने आंदोलन को और भड़का दिया। गिरजाशंकर दुबे के नेतृत्व में एक बड़ा जुलूस निकला। पुलिस ने दफा 144 लगा दी। 11 युवकों को पकड़ा लेकिन थाने ले जाकर छोड़ना पड़ा। विद्यार्थियों ने तिरंगा हाथ में लेकर जुलूस निकाला। कुछ स्थानों पर तोड़फोड़ की। बड़ा डाकखाना निशाने पर रहा, काफी तोड़फोड़ की गई। गुस्साए विद्यार्थियों को डाकखाना कर्मियों ने नम्रतापूर्वक समझाया तो वह यहां से रवाना हुए। वहीं 1942 की अगस्त क्रांति का गवाह बड़ा डाकघर अब उप डाकघर में तब्दील हो चुका है। इसी वर्ष सुहाग नगर स्थित नई बिल्डिंग में यह डाकघर शिफ्ट हुआ है। काफी जर्जर अवस्था के कारण इमारत को छोड़ना पड़ा। इसमें अब उप डाकघर स्थापित कर दिया है।

अगस्त क्रांति में नजरबंद व्यक्ति बौहरे ओमप्रकाश, बाबूलाल याज्ञिक, रतनलाल बंसल, पंडित श्यामलाल वकील, सोमराज पालीवाल, रामगोपाल पालीवाल, गुरुदयाल सिंह, राधारमण वासलस, केदारनाथ हिंद, जगदीश प्रसाद झिंदल, कुंदनलाल, घनश्यामदास चतुर्वेदी, रामबाबू, बंगालीबाबू, बसंतलाल जैन, संतलाल जैन, धनवंतसिंह जैन, कालीचरन जवरेवा, कैलाशचंद्र, जीवाराम पालीवाल, पन्नालाल सरल, डा. प्यारेलाल राठौर, वैद्य बुद्धदेव, भूपसिंह शर्मा, गंधर्वसिंह यादव, मेघदत्त शर्मा, राजाबाबूू गुप्ता, रामकिशन गुप्ता और पंडित रामंचद्र पालीवाल थे।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

जिस प्रिंसिपल ने पढ़ाया उसके साथ छात्रों ने किया गंदा काम!

फिरोजाबाद के एक स्कूल की प्रिंसिपल को शहर के कुछ रईसजादों ने अश्लील फोटो सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper