शिकायतों को भी गंभीरता से लें एसओ

Firozabad Updated Tue, 07 Aug 2012 12:00 PM IST
फीरोजाबाद। शब्बू प्रकरण के बाद एकाएक आत्मदाह की धमकी देने वालों की संख्या बढ़ रही है। शब्बू प्रकरण जैसी स्थिति दोबारा न बने इसके लिए पुलिस के आला अफसर भी सक्रिय हो गए हैं, सभी थानाध्यक्षों को हिदायत दी गई है। जिनकी सुनवाई नहीं हो रही, वह आत्मदाह की धमकी देने लगे हैं। आत्मदाह या आत्महत्या को जायज नहीं ठहराया जा सकता लेकिन क्या न्याय पाने का यही रास्ता है, कानून इसकी इजाजत नहीं देता है, कानून की नजर में आत्मदाह या आत्महत्या अपराध है। फिर व्यवस्था को भी जागना होगा। शिकायत लेकर न्याय की उम्मीद में लोग थाने जाते हैं, उनकी सुनवाई होनी चाहिए। जज्बात या नाउम्मीद में ऐसे कदम उठाने की जरूरत नहीं है।

केस नंबर एक
खाकी की दुत्कार का एक मामला बदनपुर करखा से जुड़ा है। एक माह तक थाने चौकियां के चक्कर काटने के बाद भी पीड़ित को न्याय नहीं मिला तो उसने एसपी से न्याय के लिए गुहार लगाते हुए आत्मदाह की धमकी दी। इसके बाद खाकी हरकत में आई और दोनों पक्षों के बीच पंचायत में समझौता होने की बात कहने लगी।

केस नंबर दो
दूसरा मामला थाना टूंडला क्षेत्र से जुड़ा है। यहां भी पीड़ित को खाकी से न्याय नहीं मिला तो सपा नेता ने आत्मदाह की धमकी दी खाकी बैकफुट पर आई और कार्रवाई को गति दे दी गई।

केस नंबर तीन
दक्षिण क्षेत्र के मोहल्ला टीला निवासी सायका खान पत्नी मिनहाज अहमद का आरोप है कि 18 अगस्त 2011 को कुछ लोगों ने परिवार के एक व्यक्ति की हत्या करने के उद्देश्य से फायरिंग कर दी थी। 11 माह बीत जाने के बाद भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। जबकि आरोपियों ने पुन: घर में घुसकर मारपीट तोड़फोड़ की घटना को अंजाम दिया। इस प्रकरण में भी पुलिस की दुत्कार का शिकार पीड़ित को होना पड़ा है। पीड़िता का आरोप है कि अगर पुलिस से न्याय नहीं मिला तो वह भी थाने में आत्मदाह कर लेगी।

केस नंबर चार
चौथा मामला थाना दक्षिण क्षेत्र का है। लुधियाना से अगवा की गई युवती के साथ दो दिन तक थाना दक्षिण क्षेत्र में बंधक बनाकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। पुलिस ने डाक्टरी परीक्षण कराया तो दुष्कर्म की पुष्टि हुई। मामला दर्ज कर फाइल के पन्नों को खाकी ने पलट कर नहीं देखे। फोन पर बात की गई तो युवती का आरोप था कि आरोपी उससे मुकदमा वापस लेने के साथ मामले में समझौता करने के लिए दबाव बना रहे हैं। पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की तो वह एसपी आफिस पर आत्मदाह करने के लिए बाध्य होगी।


थानाध्यक्षों को निर्देश जारी कर दिए हैं कि वह पीड़ित की बात को गंभीरता से सुनें। उसको तत्काल न्याय देने के लिए कार्रवाई करें। अगर थानाध्यक्ष लापरवाही करता है तो उसको तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया जाएगा। मामले में न्याय देने के बाद भी पीड़ित आत्मदाह की धमकी देता है उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। कुछ मामले ऐसे होते हैं, जिनकी जांच करने में वक्त लगता है। पीड़ित से संयम बरतने की अपील की है। वह उनसे आकर मिल सकता है। एसपी अपर्णा कुमार

Spotlight

Most Read

Lucknow

ओपी सिंह होंगे यूपी के नए डीजीपी, सोमवार को संभाल सकते हैं कार्यभार

सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह यूपी के नए डीजीपी होंगे। शनिवार को केंद्र ने उन्हें रिलीव कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

सलमान खान को दी थी जान से मारने की धमकी अब है सलाखों के पीछे

फिरोजाबाद में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें पंजाब और हरियाणा का शार्प शूटर रवींद्र उर्फ काली राजपूत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। काफी दिन से पुलिस इनकी तलाश कर रही थी। इसके तार इंटरनेशनल लारेंस विश्नोई गैंग से भी जुड़े हैं।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper