धान खरीद को शासन ने जारी की नीति

Fatehpur Updated Mon, 08 Oct 2012 12:00 PM IST
फतेहपुर। समर्थन मूल्य योजना के तहत धान खरीद के लिए शासन ने खरीद नीति जारी कर दी है। जिसके तहत विभाग ने व्यवस्थाएं जुटाना शुरू कर दिया है। खरीद के लिए धान का समर्थन मूल्य भी घोषित कर दिया गया है हालांकि अभी तक जनपद में लक्ष्य तय नहीं किया गया है। खतौनी के आधार पर किसानों से सीधे धान की खरीद किए जाने की व्यवस्था है। जिला विपणन अधिकारी ने बताया कि तैयारियां पूरी की जा रही है। आवक शुरू होते ही तौल का काम सुनिश्चित कराई जाएगी।
धान खरीद के लिए बारह सौ पचास रुपए प्रति क्विंटल का रेट तय किया गया है। जिसके आधारपर ही किसानों का धान खरीदा जाएगा। समर्थन मूल्य योजना के तहत होने वाली खरीद में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए किसानों से सीधे खरीद की व्यवस्था की गई है। खरीद का आधार खसरा-खतौनी को माना जाएगा। प्राथमिकता के लघु एवं सीमांत किसानों का धान पहले खरीदा जाएगा। बाद में बड़े किसानों को तरजीह मिलेगी। खरीद के लिए कुल 39 केंद्र तय किए गए हैं। जिनसे किसानों का संबद्धीकरण किया जाना है। जिसके तहत संबंधित क्षेत्र के किसान उसी क्रय केंद्र में अपना धान बेंच सकेेंगे जिस सेंटर में उन्हें संबद्ध किया जाएगा। इसके लिए कागजी औपचारिकताएं पूरी की जा रही है। किसानों को धान का भुगतान सिर्फ एकाउंट पेई चेक के माध्यम से करने की व्यवस्था की गई है। जिससे कि खरीद में पारदर्शिता सुनिश्चित की जा सके और किसानों को उनकी उपज का पूरी कीमत मिल सके। एजेंसियों को किसी भी दशा में एक सप्ताह के अंदर किसानों का भुगतान सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं। तौल का कार्य सुचारु तौर से चल सके इसके लिए एजेंसियों को बोराें आदि की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं।

अभी तक नहीं खुला एक भी सेंटर
फतेहपुर। धान खरीद के लिए 39 सेंटर तय हैं। इनमें विपणन के 13, पीसीएफ के 7, यूपी एग्रो के 5, यूपीएसएस के 3, कर्मचारी कल्याण निगम के 6, नैफेड के 3 और एक सेंटर पीसीएफ का है। शासन के निर्देशों के मुताबिक एक अक्टूबर से 28 फरवरी तक का समय धान खरीद के लिए निर्धारित है। लेकिन अभी तक एक भी खरीद केंद्र खुला नहीं है। कहीं पर न तो कांटे लगे और और न ही बैनर आदि लगाए गए हैं। विभागीय जानकारी के मुताबिक अभी तक बैनर भी नहीं छपे हैं। जिले में खरीफ की मुख्य फसल के तौर पर धान का उत्पादन होता है। आच्छादन क्षेत्र इस बार सवा लाख हेक्टेयर है। शुरुआती दौर में मानसून कमजोर होने की वजह से धान की फसल काफी हद तक पिछड़ गई है। बावजूद इसके कृषि विशेषज्ञों के मुताबिक जो भी फसल है वह बेहतर स्थिति में है।

इंसेट
खरीद केंद्र खोलने की प्रक्रिया चल रही है। चूंकि अभी धान की फसल तैयार नहीं है। इस लिए आवक शुरू होने में देरी है बावजूद इसके व्यवस्थाएं दुरुस्त की जा रही है। इसके लिए खाते आदि खुलवाए जा रहे हैं। धान में ग्रेडिंग सिस्टम लागू किया गया है। जिसमें गुणवत्ता का आंकलन तय मानक के मुताबिक किया जाएगा।
प्रदीप कुमार, जिला खाद्य विपणन अधिकारी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी पुलिस के इस सिपाही ने किया खाकी को शर्मसार

फतेहपुर में एक बार फिर पुलिस का खौफनाक चेहरा सामने आया है। यूपी पुलिस के सिपाही ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिसवाले ने युवक की पिटाई इसलिए कर दी क्योंकि युवक की बाइक से सिपाही को टक्कर लग गई।

18 जनवरी 2018