बैक्टीरियाजनित रोगों से सावधानी जरूरी

Fatehpur Updated Thu, 04 Oct 2012 12:00 PM IST
फतेहपुर। स्वास्थ्य विभाग के लिए वेक्टरजनित रोगियों की बढ़ती संख्या शुभ संकेत नहीं है। अब तक इन बीमारियों से दो दर्जन रोगियों की मौत हो चुकी है। मरने वाले रोगी डेंगू , पीएफ, पीवी से पीड़ित बताए जाते हैं। पिछले साल की अपेक्षा इस बार सितंबर में प्लाजमोडयम वाइवेक्स (पीवी) मलेरिया रोगियों की संख्या भले ही आगे न बढ़ पाई हो, लेकिन डेंगू से एक किशोर की मौत हो चुकी है। इसी महीने दो पीएफ रोगी मिलने से स्थिति और गंभीर है।
जिले में बैक्टिरियाजनित बीमारियों में प्लाजमोडियम वाइवेक्स (पीवी), गंभीर मलेरिया प्लाजमोडियम फैल्सीपेरम तथा डेंगू है। इनमें डेंगू सबसे खतरनाक है। पीएफ मलेरिया का भी समय से इलाज नहीं कराया जाता, तो वह घातक बन जाता है। वर्ष 2011 में जिलेभर में कुल 1098 पीवी और 22 पीएफ मलेरिया रोगी थे। पिछले साल सितंबर में कुल 78 पीवी मलेरिया रोगी चिह्नित किए गए थे, जबकि सितंबर 2012 में पीवी रोगियों की संख्या बढ़कर 113 पहुंच गई है। इन रोगियों में सौ जिला अस्पताल में जबकि 13 रोगी मलेरिया विभाग के लैब में पाए गए हैं। इसके अलावा दो दर्जन रोगियों की बुखार से मौत हो चुकी है।
विशेषज्ञों का कहना है कि इस बार सितंबर महीने में जिले के असोथर गांव मेें एक रोगी की डेंगू से मौत होना स्वास्थ्य विभाग के लिए अच्छी खबर नहीं है। डाक्टर यह भी कहते हैं कि अस्पतालों में भर्ती होने वाले बहुतायत बुखार रोगी होते हैं। इनमें पीवी, पीएफ, डेंगू रोगी भी हो सकते हैं। ऐसी हालत में साफ है कि इस बार बैक्टरिया जनित बुखार विकराल रूप धारण कर चुका है, क्योंकि अभी तो मलेरिया बुखार की शुरुआत हो पाई है।
मुख्य चिकित्साधिकारी केएल वर्मा का कहना है कि बरसात के मौसम में हर साल मलेरिया रोगियों की संख्या बढ़ने लगती है। इस बार भी रोगियों की संख्या बढ़ी है, लेकिन डेंगू रोगी मिलने की पुष्टि नहीं हो पाई है। असोथर में डेंगू से किशोर की मौत की जांच कराई जा रही है, लेकिन अभी तक मामला संदिग्ध बना हुआ है। विभाग से पास संबंधित दवाओं का पर्याप्त स्टाक है। डाक्टरों की टीम है। ऐसी हालत में कोई दिक्कत की बात नहीं है। उन्होंने रोगियों से सरकारी अस्पताल में बुखार आने पर तत्काल जांच कराने की अपील की।
इंसेट
बीमारियों के लक्षण
....................
1. अचानक तेज बुखार सिर दर्द
2. गर्दन का अकड़ना उल्टी आना
4. बेहोशी आदि का होना
..........................................
बचाव के उपाय
.................................
1.रोगी को तुरंत नजदीकी सरकारी अस्पताल पहुंचाएं
2. मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करें
3. मुर्गी घर, सुअर बाड़ों में कीटनाशक दवा छिड़कें
4. सोते समय ओडोमास अथवा तेल का प्रयोग करें
5. घर के आसपास जलभराव न होने दें
..............................................................


दूषित पानी मतलब घर-घर बीमारी
फतेहपुर। शहर में दूषित जलापूर्ति होने से संक्रामक बीमारियां फैल रही हैं। आलम यह है कि गंदे पेयजल के प्रयोग से आमजन बेहद परेशान है। सप्ताहभर के आंकड़ों पर नजर डाली जाए, तो प्रतिदिन विभिन्न सरकारी एवं गैर सरकारी अस्पतालों में आधा सैकड़ा से अधिक रोगियों के भर्ती होने का औसत है। हालांकि शहर में तो दूषित जलापूर्ति कोई नई बात नहीं हैं। खासतौर पर शहर के इमिलिहाबाग, तुराबअली का पुरवा, रेडइया, गढ़ीवा समेत कई मोहल्लों में तो अरसे से घटिया आपूर्ति जारी है। कुछ वर्ष पूर्व लखनऊ से आई टीम ने शहर के डेढ़ दर्जन स्थानों से पानी के नमूने भरे थे और जांच में यह सभी नमूने फेल भी पाए गए थे। टीम ने अपने रिपोर्ट में पूरे शहर में दूषित जलापूर्ति होने की बात लिखी थी। लेकिन तबसे बात आई-गई हो गई हो गई। नमूने फेल होने की रिपोर्ट पर शहर में जगह-जगह डीप बोरिंग कराकर हैंडपंप लगाने का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा गया था, लेकिन पांच वर्ष बाद भी अभी तक प्रस्ताव पर अमल नहीं हो पाया है।

Spotlight

Most Read

Jammu

पाकिस्तान ने बॉर्डर से सटी सारी चौकियों को बनाया निशाना, 2 नागरिकों की मौत

बॉर्डर पर पाकिस्तान ने एक बार फिर से नापाक हरकत की है। जम्मू-कश्मीर में आरएस पुरा सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से सीजफायर का उल्लंघन किया है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी पुलिस के इस सिपाही ने किया खाकी को शर्मसार

फतेहपुर में एक बार फिर पुलिस का खौफनाक चेहरा सामने आया है। यूपी पुलिस के सिपाही ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिसवाले ने युवक की पिटाई इसलिए कर दी क्योंकि युवक की बाइक से सिपाही को टक्कर लग गई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper