हर माह मिलेगी 25 हजार फेलोशिप

Fatehpur Updated Mon, 04 Jun 2012 12:00 PM IST
फतेहपुर। पीएचडी करने वाले एससी/एसटी छात्रों के लिए अच्छी खबर है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने पीएचडी के बाद इन्हें दी जाने वाली फेलोशिप और कंटीजेंसी में इजाफा कर दिया है। खास बात यह है कि न केवल फेलोशिप की रकम में बढ़ोतरी की गई है, बल्कि फेलोशिप दिए जाने की अवधि भी तीन साल तक के लिए बढ़ा दी गई है। यूजीसी ने यह फैसला फेलोशिप बढ़ाने के लिए बनी कमेटी की रिपोर्ट पर लिया है। अब तक अनूसूचित जाति और जनजाति के छात्र/छात्राओं को पीएचडी करने के बाद हर महीने सोलह हजार रुपए फेलोशिप दी जाती है। पहले यह रकम बारह हजार रुपए मात्र थी। एक सितंबर वर्ष 2006 से इसे बढ़ाकर सोलह हजार रुपए किया गया था। अब दो साल तक हर महीने पच्चीस हजार रुपए और तीसरे वर्ष तक तीस हजार रुपए प्रति माह की दर से फेलोशिप का भुगतान किया जाएगा। अभी तक एससी/एसटी के छात्रों को सिर्फ दो साल तक के लिए फेलोशिप मिलती थी। इसे बढ़ाकर पांच साल कर दिया गया है। ऐसे छात्र-छात्राओं को अब तक कंटीजेंसी के तौर पर साल में एक बार तीस हजार रुपए दिए जाते थे। अब इसे बढ़ाकर पचास हजार रुपए वार्षिक कर दिया गया है। यूजीसी के इस निर्णय से पीएचडी करने वाले एससी/एसटी के तमाम छात्र/छात्राओं को फायदा होगा।
इंसेट
एडवांस रिसर्च को दी जाती है रकम...
फतेहपुर। पीएचडी पूरी करने वाले एससी/एसटी को एडवांस रिसर्च के लिए फेलोशिप और कंटीजेंसी दी जाती है। महिलाओं की फेलोशिप और कंटीजेंसी एससी/एसटी छात्रों को दी जाने वाली रकम से अधिक थी। यूजीसी ने इस असमानता को दूर करने के लिए कमेटी बनाई थी। कमेटी की रिपोर्ट पर दोनो की फेलोशिप और कंटीजेंसी बराबर करने का फैसला हुआ।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी पुलिस के इस सिपाही ने किया खाकी को शर्मसार

फतेहपुर में एक बार फिर पुलिस का खौफनाक चेहरा सामने आया है। यूपी पुलिस के सिपाही ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिसवाले ने युवक की पिटाई इसलिए कर दी क्योंकि युवक की बाइक से सिपाही को टक्कर लग गई।

18 जनवरी 2018