अस्पताली कचरा बना जान का दुश्मन

Fatehpur Updated Wed, 29 Jan 2014 05:46 AM IST
फतेहपुर। सरकारी अस्पतालों का कचरा बेतरतीब फेंका जा रहा है। यह स्थिति कूड़ा उठाने वाली कार्यदाई संस्था के साथ स्वास्थ्य विभाग का करार खत्म होने से बनी है। अस्पताल के इस कचरे को स्वास्थ्य कर्मी आम कूड़े के ढेरों के हवाले कर इलाकाई जनता की सेहत को चुनौती देने का काम कर रहे हैं।
स्वास्थ्य के लिए घातक अस्पताली कचरा डेढ़ महीने से चुनौती पेश कर रहा है। जिला स्तर पर इस कचरे को उठाने के लिए जो करार हुआ था वह खत्म हो चुका है। जिले में मौजूद सरकारी अस्पतालों में सदर अस्पताल, महिला अस्पताल सहित आधा दर्जन सीएचसी व सभी ब्लाक स्तर पर मौजूद पीएचसी से निकलने वाले अस्पताली कचरे को निष्प्रयोज्य करने की व्यवस्था है। इधर यह काम बंद होने से अस्पताल के आसपास के इलाके में अस्पताली कचरे की आबोहवा बीमार बनाने का काम रही है। रुई, सीरिंज, पट्टी, डिलीवरी के कचरे आदि को आम कूड़े के ढेर में फेंकने का काम अस्पताली कर्मी कर रहे हैं।

निजी अस्पतालों का कूड़ा सड़क पर
अस्पताली कचरे को ठिकाने लगाने से ज्यादातर निजी अस्पताल बचते चले आ रहे हैं। गांव कस्बों व नगरों में खुले निजी अस्पतालों के संचालक इस खतरनाक कूड़े को रास्तों के हवाले कर रहे हैं। जिला मुख्यालय में स्थिति निजी अस्पताल भी ऐसी हरकत करने से बाज नहीं आ रहे हैं। यहां के कम से कम आधा दर्जन ऐसे निजी अस्पतालों के बाहर इस खतरनाक कूड़े के ढेर लगे देखे जा सकत हैं।

यह हो सकता है इस कूड़े से
अस्पताली कूड़े में वैक्टीरिया होते हैं। जो इंसान की बीमारी रोकने की प्रतिरोधक क्षमता पर सीधा हमला बोल रहे हैं। इससे वायु प्रदूषण के जरिए श्वास रोग हो सकता है। खून में इंफेक्शन की भी संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। साथ ही एलर्जी हो सकती है।

क्या कहते हैं जवाबदेह
अस्पताली कूड़ा उठाने वाली कार्यदाई संस्था से हुआ करार डेढ़ महीने पहले खत्म होने से यह हालात बने हैं। हालात से पार पाने के लिए टेंडर प्रक्रिया हुई थी जिसमें तीन टेंडर कराने वालों के सापेक्ष एक के ही सामने आने से इसे टाल दिया गया था। कार्यदाई संस्था का चयन हफ्ता भर में कराके कूड़ा निस्तारण का काम फिर से चालू करा दिया जाएगा।
डा. मुरारी प्रसाद वर्मा, सीएमओ, फतेहपुर

पालिका का सफाई विभाग भी नाकारा
फतेहपुर। शहर में जगह जगह कूड़े कचरे के ढेर नगर पालिका के सफाई विभाग की पोल खोल रहे हैं। मार्गों में दिनभर कूड़ा कचरा पड़ा रहता है लेकिन पालिका द्वारा सफाई नहीं कराई जाती जिससे लोगों में नाराजगी है। नगर के पुरानी तहसील जीटी रोड पर सड़क तक कूड़ा फैला रहता है। यहां जानवर कचरे को और फैलाते हैं। दुर्गंध से निकलना मुश्किल हो रहा है। इसी प्रकार लालाबाजार पीलू तले के पास और कलक्टरगंज मिशन अस्पताल के समीप कचरे के ढेर समस्या को गंभीर किए हुए हैं। सफाई निरीक्षक आबिद अली ने कहा कि सफाई नायकों को प्रतिदिन समय से कचरा उठाने के निर्देश दिए गए हैं। निरीक्षण में गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई की जा रही है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ताबड़तोड़ डकैतियों से हिली सरकार, प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को किया तलब

राजधानी में एक हफ्ते के अंदर हुई ताबड़तोड़ डकैती की वारदातों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी पुलिस के इस सिपाही ने किया खाकी को शर्मसार

फतेहपुर में एक बार फिर पुलिस का खौफनाक चेहरा सामने आया है। यूपी पुलिस के सिपाही ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिसवाले ने युवक की पिटाई इसलिए कर दी क्योंकि युवक की बाइक से सिपाही को टक्कर लग गई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper