विज्ञापन

‘ये मेरे देश की कहानी है हर तरफ लूट-बेईमानी है’

Fatehpur Updated Fri, 25 Jan 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बिंदकी/फतेहपुर। स्वतंत्र भारतीय संस्कार भारती संस्था के तत्वाधान में कवि सम्मेलन हुआ। जिसमें हिंदू व मुस्लिम एकता पर जोर दिया गया। आयोजन में कई ज्वलंत मामलों को रचनाओं के जरिए उठाया गया। कवि व शायरों ने अपनी रचनाओं में समाज के होते विकृत स्वरूप पर भी कटाक्ष किया। गुरुवार को हुए इस कार्यक्रम में कवि अरुण द्विवेदी अनु ने अपराध और राजनीतिक गठजोड़ पर प्रहार किया। दिल्ली गैंगरेप पर बोलते हुए कहा- ये मेरे देश की कहानी है। हर तरफ लूट बेईमानी है।। अस्मतें लुट रही हैं सड़कों पर। रहनुमाओं की मेहरबानी है।। शायर रहमत उल्ला नजमी ने - मेरे रव्वुत उला ऐसा उद्गार दे। हम्बनात अैर नुरुलहुदा प्यार दे।। के जरिए खुद को पेश किया। कवि मृत्युंजय पांडेय राजन की रचना- मै श्रंगार सजा साज नही। मै किसी का स्तुतिगान नहीं।। सर्वहारा का वो क्रंदन हूं। जिसका कोई अनुदान नहीं।। खूब सराही गई। इस महफिल में उमाशंकर ओमर, राजाराम, योगीराज, देवदत्त आर्य, राकेश सोनी, मेवालाल गुप्ता, जमीरुल कासिम, राज कुमार गुप्ता, मो. हुसैन नाजा, प्रेम सागर तिवारी, हयात उल्ला, सुनील पुरी, हरि प्रसाद मिश्र की भी प्रस्तुति ने समां बांधा।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us