बीमार को क्या ठीक करेगा बीमार अस्पताल

Fatehpur Updated Wed, 07 Nov 2012 12:00 PM IST
फतेहपुर। सदर अस्पताल की चमक दमक अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ रही है। यहां आने वाले मरीजों की सेहत राम भरोसे है। नब्ज पकड़ने वाले आधे हाथ नदारद हैं। अस्पताल के अन्य स्टाफ की हालत भी ज्यादा बेहतर नहीं कही जा सकती है। आधा दर्जन नर्स के पद खाली हैं। ओपीडी से लेकर वार्ड तक लड़खड़ा रहे हैं। तीमारदार खुद स्ट्रेचर खींच रहा है। आलम यह है कि स्टाफ नदारद रहने के कारण यहां आने वाले तीमारदार स्वयं अपने मरीज को बोतल लगा रहे हैं।
सदर अस्पताल में मरीज को देखने के लिए पर्याप्त डाक्टर नहीं हैं। जो डाक्टर हैं उनके कंधे पर इतनी जिम्मेदारियां है कि वो ओपीडी से ओटी तक जिम्मा संभाल रहे हैं। जिले के सबसे बड़े अस्पताल की ओपीडी डाक्टरों की कमी से प्रभावित हो रही है। डाक्टर के सामने सुबह आठ से दोपहर दो बजे तक ओपीडी संभालने की जिम्मेदारी है। इसके बाद चैंबर से वार्ड और फिर ओटी की भी जिम्मेदारी उठाने का निर्देश है। हालत यह है कि सदर अस्पताल मेें सृजित छब्बीस डाक्टरों के पद मेें आधे खाली हैं।
संवाददाता को सुबह 11.26 बजे ईएनटी का चैंबर बंद मिला। बाहर मरीजों की भीड़ डाक्टर का इंतजार कर रही थी। एक फिजीशियन के चैंबर में ताला लटक रहा था तो दूसरे फिजीशियन छुट्टी पर थे, लिहाजा ऐसे मरीजों के लिए अस्पताल में केवल एक चिकित्सक मौजूद था। बाल रोग विशेषज्ञ का चैंबर भी इंतजारी कराए जा रहा था। मां की गोद में दुबके मासूम तकलीफ में रोए जा रहे थे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी पुलिस के इस सिपाही ने किया खाकी को शर्मसार

फतेहपुर में एक बार फिर पुलिस का खौफनाक चेहरा सामने आया है। यूपी पुलिस के सिपाही ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिसवाले ने युवक की पिटाई इसलिए कर दी क्योंकि युवक की बाइक से सिपाही को टक्कर लग गई।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls