विज्ञापन

45 लाख के घोटाले में कोआपरेटिव बैंक शाखा सील, सचिव निलंबित

farrukhabad Updated Tue, 11 Sep 2018 12:12 AM IST
फर्रुखाबाद डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक शाखा कायमगंज को सील करते एडीसीओ और पुलिस कर्मी।  अमर उजाला
फर्रुखाबाद डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक शाखा कायमगंज को सील करते एडीसीओ और पुलिस कर्मी। अमर उजाला - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
 फर्रुखाबाद डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक शाखा कायमगंज में 45 लाख का घोटाला और किसान सेवा सहकारी समिति कायमगंज दक्षिणी में आठ लाख के गबन का मामला सामने आया है। सचिव को निलंबित कर दिया गया है। अपर जिला कोआपरेटिव अधिकारी (एडीसीओ) ने पुलिस बल के साथ जाकर समिति, बैंक और चार गोदामों को सील कर दिया है। भुगतान न होने से गन्ना किसान व ग्राहक परेशान हैं।
विज्ञापन
चार माह पहले किसान सेवा समिति दक्षिणी के वर्तमान अध्यक्ष सुशील कुमार ने एआर कोआपरेटिव को शिकायत की थी। समिति परिसर में किसके आदेश पर दुकानें किराये पर दी गईं और इसका किराया किस खाते में जमा हो रहा है। इसकी छानबीन शुरू हुई तो बैंक व समिति में घोटाले खुलने शुरू  हो गए। मामला अधिकारियों के संज्ञान में आया। जांच शुरू हुई तो प्रथम दृष्टया बैंक में 45 लाख का घोटाला और समिति में आठ लाख के गबन का मामला प्रकाश में आया। सोमवार को अपर जिला सहकारी अधिकारी विनोद कटियार, जिला कोआपरेेटिव बैंक कायमगंज शाखा प्रबंधक वीरेंद्र सिंह कोतवाली पहुंचे। उन्होंने सीओ राजवीर सिंह व इंस्पेक्टर जसवंत सिंह से फोर्स मांगी। फिर पुलिस की मौजूदगी में बैंक व समिति, साथ ही चार गोदामों को सील कर दिया गया।

एडीसीओ ने बताया कि बैंक में 45 लाख व समिति में आठ लाख रुपये का घोटाला प्रकाश में आया है। घोटाले की रकम एक करोड़ से अधिक पहुंच सकती है। यह घोटाला लेन देन में किया गया है। कई ऐसे वाउचर सामने आए हैं, जिनका कागजों में भुगतान हो गया है, लेकिन ग्राहक को पैसा नहीं मिला। कुछ धन ऐसा भी है जो यहां से क्रय विक्रय समिति को भेजना दिखाया गया है, लेकिन वह धन वहां नहीं पहुंचा। 7 सितंबर को निलंबित किए गए सचिव श्याम सिंह यादव कागज उपलब्ध नहीं करा रहे थे। इसके चलते बैंक व समिति को सील करना पड़ा। जांच पूरी होने के बाद ही अब ग्राहकों को भुगतान हो सकेगा। डीएम के आदेश पर सील खोलकर अभिलेखीय जांच की जाएगी। श्याम सिंह के पास जिला सहकारी संघ बरखेड़ा, कंपिल सहकारी संघ व पपड़ी खुद का भी चार्ज था।

शाखा प्रबंधक, सचिव समेत चार के खिलाफ दी तहरीर
कोतवाली क्षेत्र के गांव पपड़ी स्थित सहकारी समिति में श्याम सिंह सचिव थे। 1 जून 2014 को उन्होंने कृष्णकांत की लेखाकार के पद पर फर्जी नियुक्ति कर 2017 तक का एक लाख दो हजार वेतन निकाल लिया। विभागीय जांच के बाद एडीसीओ विनोद कुमार ने शाखा प्रबंधक, सचिव श्याम सिंह, समिति अध्यक्ष व कृष्णकांत के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी है। इंस्पेक्टर जसवंत सिंह ने बताया जांच कर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Kanpur

फर्रुखाबाद: एसपी जाम में फंसे तो चौकी प्रभारी लाइन जाहिर

यूपी के फर्रुखाबाद शहर में आम हो चुके जाम को काबू कराने के लिए एसपी संतोष मिश्रा शनिवार को खुद निकले। पांचाल घाट चौराहे के पास फुटपाथ से अतिक्रमण हटवाकर लौट रहे एसपी की गाड़ी घुमना पर जाम में फंस गई।

17 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

CM योगी ने जनता को अपने काम गिनवाने के लिए चलाईं गाड़ियां, पिछली सरकार पर बरसे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को एक दिनी दौरे के लिए फर्रुखाबाद पहुंचे जहां उन्होंने कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया।

23 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree