विज्ञापन
विज्ञापन

खंडहर में तब्दील होती जा रहीं द्वापर की धरोहरें

Farrukhabad Updated Fri, 03 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
कायमगंज। पतित पावनी भागीरथी के तट पर स्थित द्वापर कालीन ऐतिहासिक धरोहर शासन और जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से अस्तित्व खोती जा रहीं है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों से नगर के आस्थावान लोगों ने इनके जीर्णोद्धार के लिए इन्हें सजाने संवारने का काम शुरू कराया है। अब यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु भी आने लगे हैं। इसके लिए शासन पहल करे तो इन ऐतिहासिक धरोहरों को आने वाली पीढ़ियों के लिए सहेजा जा सकता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
कंपिल से लेकर फर्रुखाबाद तक गंगा किनारे फैली द्वापर कालीन विश्रातें शासन की उपेक्षा का शिकार हैं। हजारों साल पुरानी इमारतें रख-रखाव के अभाव में जीर्णशीर्ण हो कर जमींदोज होने की कगार पर हैं। इन ऐतिहासिक धरोहरों के अस्तित्व की परवाह किसी को नहीं है, जबकि जनपदवासियों को इनके इतिहास की बखूबी जानकारी है। इनका उल्लेख पुराने ग्रंथों में भी किया गया है।
जनपद के प्रख्यात संत त्यागीजी महाराज कारब वालों ने कई बार लोगों को इन धरोहरों के इतिहास से अवगत कराया था। स्वामी जी के अनुसार कायमगंज कस्बे से मात्र तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित मुडौल गांव का नाम पौराणिक परंपरा के अनुसार मुंडवन था। जहां महाभारत काल में पांडवों का मुंडन संस्कार हुआ था। इस मुंडवन में ही स्वर्णसर्वा नाम का स्थान आज भी मौजूद है। इस सरोवर पर गंगा किनारे मुंडन संस्कार कराया गया था। यहां पर भगवान शंकर का एक मंदिर मौजूद है। पौराणिक परंपरा के अनुसार इस मंदिर की स्थापना यक्ष नामक राक्षस ने की थी। इस स्थान के पास ही आखूनपुर नाम का गांव है। कहते हैं कि इस गांव का नाम पहले याहूण राक्षस के नाम से याहूणपुर था जो बदलते बदलते आखूनपुर हो गया। स्वर्णसर्वा को लोगों ने सोनसर्वा और मुंडवन को मुडौल के नाम से पुकारने लगे। सोनसर्वा विश्रातों के पास आज भी सरोवर है, जहां भीषण गर्मी में भी जल भरा रहता है। जिसे लोग दैवीय चमत्कार मानते हैं। यहां पहले गंगा की अविरल धारा बहती थी। आज भी स्नान पर्वों पर मेला लगता है और यहां लोग मुंडन संस्कार करवाते हैं।
सोनसर्वा केे पास ही एक टीले पर हनुमान जी का प्राचीन मंदिर स्थित है। ग्रंथों के अनुसार इस मंदिर की स्थापना द्वापर युग में सिद्धबाबा ने की थी इसी लिए इसका नाम सिद्धपीठ पड़ा। बताते हैं कि महाभारत काल में द्रोणाचार्य यहां पूजा करने आते थे। राजा द्रुपद के पुत्र शिखंडी जो नपुंसक थे उन्हें अपना पुरूषार्थ पाने के लिए द्रोणाचार्य ने सिद्धपीठ की पूजा करने का उपाय सुझाया था। जिस पर शिखंडी ने कंपिल से यहां आकर पूजा शुरू कर दिया। चूंकि शिखंडी नपुंसक थे इस लिए कंपिल से यहां तक दस किलोमीटर की दूरी के बीच पड़ने वाले गांवों के बच्चे उन्हें आते जाते छेड़ा करते थे। इसकी शिकायत जब शिखंड़ी ने राजा द्रुपद से की तो उन्होंने कंपिल से सिद्धपीठ मंदिर तक सुरंग बनवा दी थी। इस सुरंग के अवशेष कुछ वर्षों पूर्व तक देखे जाते थे किंतु लोगों ने मिटटी खनन के साथ साथ इस सुरंग का नामोनिशान गायब कर दिया। शहर के किनारे पर स्थित शिवालय मंदिर भी इन्हीं धरोहरों में से एक है। बताते हैं कि द्रोपदी के स्वयंवर में जब भगवान श्री कृष्ण कंपिल आए थे तो उन्होंने मुंडवन में रूककर इसी शिवालय मंदिर में शिवलिंग की स्थापना की थी और स्वर्णसर्वा में स्थित शिवलिंग के दर्शन किए थे।
ककइया ईंटों और चूना राबिश से बने ये एतिहासिक और पौराणिक स्थलों की और आज तक किसी ने कभी कोई गौर ही नहीं किया जिस कारण ये इमारतें धीरे धीरे खंडहर में तब्दील होती जा रही हैं। कई बार लोगों ने जनप्रतिनिधियों से इनका जीर्णोंद्धार करवाने इन तक पहुंचने के मार्ग को बनवाने की मांग की किंतु हर बार उन्हें थोथे आश्वासनों के सिवा कु छ भी हाथ नहीं लगा। वर्ष 1991 में मौजूदा राज्य सभा सदस्य टीएन चतुर्वेदी ने अपनी सांसद निधि से सोनसर्वा के निकट एक छायाग्रह का निर्माण कराया था वह भी आज जर्जर हालत में पहुंच चुका है।
हनुमान गढ़ी मंदिर शहर से दो किलोमीटर की दूरी पर मुडौल गांव के पास जमीन से लगभग 60-70 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। निर्जन स्थान पर होने के कारण यहां असामाजिक तत्वों का जमावड़ा रहता था। यहां पुजारियों के साथ कई बार घटनाएं हुईं। खंडहर में तब्दील होते मंदिर को बचाने के लिए कुछ वर्षों पूर्र्व नगर के आस्थावान लोगों ने हनुमान गढ़ी को सुरक्षित रखने का बीड़ा उठाया। उनकी इस पहल में नगरवासियों ने दिल खोल कर साथ दिया और निर्माण कार्य शुरू हो गया। लोगों की आवाजाही देखकर असामाजिक तत्वों ने कई बार मंदिर में चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया किंतु श्रद्धालुओं के इरादे नहीं बदल सके। मंदिर परिसर में विशाल भवन का निर्माण जारी है। साल में दो बार भंडारे का आयोजन किया जाता है। पूर्व ब्लाक प्रमुख मीना माथुर ने मंदिर के लिए सड़क का निर्माण भी कराया था। लोगों के प्रयास से पौराणिक धरोहर की रौनक लौट आई है। अब यहां सारा दिन साधू-संतों और श्रद्धालुओं का जमावड़ा रहता है।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि दोष निवारण पूजा (03 जून 2019, सोमवार)
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि दोष निवारण पूजा (03 जून 2019, सोमवार)

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Farrukhabad

शराब पीने के बाद बराती की मौत, तीन की हालत गंभीर

विवादित भूमि पर स्थगनादेश लेने गए थे लोग पुलिस को सूचना भी नहीं दी गई, डीएम ने कहा- होगी जांच

21 मई 2019

विज्ञापन

मध्य प्रदेश: खतरे में कांग्रेस, क्या गिर जाएगी कमलनाथ सरकार

मध्य प्रदेश में खतरे में कांग्रेस। क्या गिर जाएगी कमलनाथ सरकार ? देखिए क्या है पूरा मामला?

20 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election