धर्मस्थल ढहाया, रेटगंज व नरकसा में भी घुसा गंदा पानी

Farrukhabad Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
फर्रुखाबाद। नाले के पानी से घरों में फंसे एक लाख लोगों की आबादी भयंकर मुसीबत में है। गंदा पानी एक इंच भी कम नहीं हुआ अलबत्ता कुछ अन्य मोहल्ले भी चपेट में आने से स्थिति विकराल हो गई है। राशन पानी के लिए घरों से नहीं निकल पा रहे लोग बिलबिला उठे हैं। और प्रशासन ने समस्याग्रस्त लोगों की सुध लेना भी अब तक उचित नहीं समझा। उधर महज एक जेसीबी मशीन के सहारे नाला सफाई में तीन दिन से जुटी नगर पालिका की कार्रवाई मंगलवार को भी बेनतीजा ही रही।
नाले के पानी से घिरे मोहल्ले तलैया फजल इमाम, कादरीगेट, छावनी, कछियाना, गंगानगर और खटकपुरा में हजारों घर फंसे ही थे कि रेडगंज और नरकसा मोहल्ले के सैकड़ों घर भी इसकी चपेट में आ गए हैं। इन सभी मोहल्लों में करीब एक लाख लोगों की आबादी भारी मुसीबत में है। घरों के भीतर गंदा पानी घुस जाने से घरेलू सामान डूब गए हैं। कोई बाहर नहीं निकल पा रहा जिससे राशन और पीने के पानी का बड़ा संकट सभी के सामने उत्पन्न हो गया है। नालियां बंद हो जाने से घरों के शौचालय, आंगन व रसोई में गंदा पानी भरा है। शौच के लिए लोगों को गंदे पानी से निकलते हुए बाहर कहीं जाना पड़ रहा है। पीने का पानी नहीं मिल रहा तो अब राशन भी घरों से खत्म होने लगा है। दैनिक कमाई वालों के रोजगार धंधे बंद पड़े हैं और खेलने के लिए घरों से न निकल पाने पर बच्चे भी बेचैन हो गए हैं। घरों में जो लोग बीमारी की हालत में हैं उनके इलाज में रुकावट हो गई है और दवाओं का भी संकट हो गया है।
नागरिकों के सामने आई इस भारी मुसीबत से उन्हें कुछ राहत देने के लिए जिला प्रशासन ने कोई जरूरी कदम नहीं उठाए हैं। प्रभावित मोहल्लों में न तो राहत दल भेजे गए और न ही स्वास्थ्य टीमें ही कहीं पहुंचीं। इससे संकट में फंसे लोगों में भयंकर गुस्सा व्याप्त हो गया है। उधर नाला सफाई के लिए छावनी मे एक जेसीबी मशीन के भरोसे ही तीन दिन से चल रही नगर पालिका की कार्रवाई मंगलवार को भी बेनतीजा रही। नाले पर अवैध रूप से बने घरों को तोड़ने के बाद श्री महाकाली पीपलेश्वर महादेव धर्मस्थल से सभी मूर्तियां सुरक्षित बाहर निकाल लिए जाने के बाद उसे भी तोड़ा जाने लगा तो धर्मस्थल के साथ पीपल का एक बड़ा पेड़ भरभराकर गिर जाने से भगदड़ मच गई और काम रुक गया। थोड़ी देर बाद बिजली विभाग के अवर अभियंता ने पहुंचकर तारों को हटवाना शुरू किया तो आरा मशीन से भी कुछ लोगों को बुलाकर पेड़ की कटान शुरू कराई गई। नगर पालिका अधिशाषी अधिकारी के मुताबिक करीब बारह फुट चौड़ाई वाले इसी धर्मस्थल के नीचे नाले का बहाव अवरुद्ध है। लगातार बढ़ रही इस समस्या और छावनी मोहल्ले में जेसीबी मशीन से हो रही नाला सफाई में कोई कामयाबी न मिलते देख मंगलवार को कार्यस्थल पर मोर्चा खुद सिटी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार ने संभाल लिया। उनके साथ सीओ सिटी विनोद कुमार सिंह भी पहुंचे। हालांकि सिटी मजिस्ट्रेट सोमवार शाम को भी मौके पर पहुंचे थे और श्री महाकाली पीपलेश्वर महादेव धर्मस्थल के बगल में बने पक्के घरों को तोडे़ जाने का आदेश देकर चले आए थे। रात में ही मकानों को खाली करा लिया गया और मंगलवार को सवेरे ही नगर पालिका द्वारा शुरू हुई कार्रवाई में उक्त दो घरों को जेसीबी मशीन से ढहा दिया गया। जेसीबी ने नाला खुदाई की लेकिन नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी आर.डी. वाजपेई को यह देखकर पसीने छूट गए कि वहां भी नाला जाम होने की स्थिति नहीं मिली। इसके बाद अधिशाषी अधिकारी, सहायक अभियंता और अवर अभियंता ने धर्मस्थल के ही नीचे पेड़ की जड़ों में कूड़ा फंसा होने की संभावना जताते हुए धर्मस्थल को भी तोड़ जाने की आवश्यकता जताई। इस पर कई लोगों ने विरोध जताया लेकिन हजारों लोगों की दिनचर्या चार दिनों से नाले के बीच फंसी होने और उनकी परेशानी का हवाला दिया गया तो छावनी के लोगों के दिल भी नरम पड़ गए। इस बीच धर्मस्थल तोड़े जाने की आवश्यकता की जानकारी दिए जाने पर दोपहर में सिटी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार और सीओ सिटी विनोद कुमार सिंह पहुंच गए। धर्मस्थल के पुजारी रमेश चंद्र कुशवाहा से बात करने के बाद धर्मस्थल तोड़े जाने पर उन्हें अधिकारियों ने राजी कर लिया। इसके तत्काल बाद धर्मस्थल में स्थापित मूर्तियों को एक-एक करके बाहर निकलवाया गया फिर जेसीबी मशीन से धर्मस्थल को ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू हुई। यह काम अधूरा ही हो पाया था कि धर्मस्थल के ठीक पीछे स्थित पीपल का बड़ा पेड़ा भरभरा कर धराशाई हो गया और काफी झुकने के बाद धर्मस्थल के गिरे हुए मलबे से ही अटक गया। अधिकारियों के निर्देश पर आरा मशीन से लकड़हारे बुलाए गए जिन्होंने पेड़ की कटान शुरू कर दी। अपनी निगरानी में सफाई कार्य करा रहे सिटी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार ने बताया कि काम लगातार चल रहा है। पेड़ गिरने से समस्या उत्पन्न हो गई है लेकिन स्थिति ज्यादा नहीं बिगड़ी। बताया कि पेड़ हटवाने के बाद धर्मस्थल के नीचे बने चेंबर को साफ करा देने से नाले का बहाव खुल जाने की पूरी संभावना है। उम्मीद लगाई कि बुधवार तक लोगों को समस्या से निजात मिल जाएगी।

Spotlight

Most Read

Hapur

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper