पीने लायक नहीं है नल से आपूर्ति होने वाला पानी

Farrukhabad Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
पीने लायक नहीं है नल से आपूर्ति होने वाला पानी
खाने पीने में लोग नहीं कर रहे इस्तेमाल
अशुद्ध पानी सेहत के लिए हानिकारक
फर्रुखाबाद। सदर में नलों से सप्लाई होने वाला पानी पीने योग्य नहीं है। अधिकांश लोग इसका इस्तेमाल खाने-पीने के बजाए अन्य घरेलू कार्य में ही कर रहे हैं। खारापन, कचड़ेयुक्त और बदबूदार पानी की आपूर्ति होने से मध्यम और निम्न वर्गीय नागरिकों में गुर्दे की खराबी, पथरी और पीलिया, आंत्रशोध जैसी बीमारियां तेजी से फैल रही हैं। चिंताजनक बात यह है कि नगर पालिका, आपूर्ति किए जाने वाले पानी में ब्लीचिंग मिलाने के अलावा उसमें पीपीएम (पार्ट पर मिलियन) की जांच नहीं करा रही है।
गौरतलब है कि शहर में कहीं भूमिगत सीवेज की व्यवस्था न होने से तमाम रिहायशी इलाकों में लोगों ने प्रदूषित जल निकासी के लिए घरों में ही टैंक बनवा रखे हैं जिससे कि घरों का गंदा पानी बाहर निकलने की बजाए भूगर्भ जल में ही समा जाता है। अधिकांश स्थानों पर 45-50 फुट पर भूगर्भ जल इससे प्रदूषित हो जाने की संभावना जताई जा रही है। जबकि जल निगम भी इतने ही स्टेटा पर बोरिंग कर हैंडपंप लगा देता है। घरों में भी 60-70 फुट पर बोरिंग करवाकर लोग सब मर्सिबल पंप लगवा रहे हैं। जिससे पानी बिना उचित तकनीक से शोधन के ही निकल रहा है जिसका इस्तेमाल लोग खाने पीने में कर रहे हैं।
उधर नगर पालिका के द्वारा सरकारी नलों से जो पानी आपूर्ति किया जा रहा है उसमें भी खारापन अधिक है। पानी कचरेयुक्त और बदबूदार होता है। ओवरहेड टैंक के समय पर सफाई न होने के चलते कीटाणु भी पानी के साथ नलों से निकल रहे हैं। जिन्हें देखकर लोगों में घबराहट उत्पन्न होने लगी है। लोगों ने नलों से आने वाला पानी पीना ही छोड़ दिया है। अधिकांश स्थानों पर हैंडपंप या सब मर्सिबल पंप का पानी ही सेवन किया जा रहा है।
नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी आर.डी. वाजपेई ने कहा कि नलकूप जहां-जहां भी हैं उनके बोर तीन से चार सौ फुट तक हैं। इससे प्रदूशित जल आपूर्ति की संभावना ही नहीं है। इसके अलावा पानी में ब्लीचिंग मिलाई जाती है। साथ ही पानी स्टोर करने वाले टैंकों की सफाई हर साल कराई जाती है। पानी में पीपीएम की जांच के संबंध में श्री वाजपेई ने कहा कि इसकी टेस्टिंग के लिए पानी का नमूना लेकर उसे प्रयोगशाला में भिजवाया जाएगा।
शरीर के गुर्दे पर सीधा असर डाल रहा अशुद्ध पानी
फर्रुखाबाद। सरकारी नल और हैंडपंप से आने वाले पानी पर शहर के फिजीशियनों की जानकारी बेहद चिंतित कर देने वाली हैं। फिजीशियनों ने इस पानी को अशुद्ध और सेहत के लिए खतरनाक बताया है।
आईएमए के जिलाध्यक्ष डा.के.एम. द्विवेदी ने कहा कि जो पानी नलों से आपूर्ति हो रहा है उसमें पीपीएम लगभग चार सौ तक है। बताया कि एक मिलियन लीटर में सौ से कम पीपीएम हो तो सामान्य बात होगी। बताया कि पानी की शुद्धता मापने की तकनीक पीपीएम कहलाती है। यह भी कहा कि पानी में खारापन और कचरा है। जिससे शरीर के गुर्दे पर सीधा असर पड़ रहा है। डा.द्विवेदी ने कहा कि फिल्टर मशीने पानी के इस पीपीएम को 40 तक ला देती हैं।
फिजीशियन डा. जे.एम. वर्मा ने बताया कि अशुद्ध पानी के सेवन से पीलिया, टायफायड, आंत्रशोध की बीमारी बढ़ रही है। कहा कि पानी में फ्लोराइड अधिक है जिससे हड्डियों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। डा.वर्मा ने कहा कि शरीर के अधिकांश रोग अशुद्ध पानी से हो रहे हैं।

अफसरों से थानेदार तक पीते हैं मिनरल वॉटर
फर्रुखाबाद। शहरवासी अधूरा पानी पीकर बीमार हो रहे हैं और जनसुविधाएं मुहैया कराने के लिए जिले में बैठे सभी अधिकारी खुद मिनरल वाटर पी रहे हैं। थानेदार से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों को आर.ओ. या बोतलों में सीलबंद आने वाले मिनरल वॉटर के अलावा वह पानी रास नहीं आता जिसका सेवन आम जनता कर रही है। कलेक्ट्रेट सभागार के रसोई घर में वाटर फिल्टर मशीन लगी हुई है। जिससे मीटिंग के समय अधिकारियों को पेयजल दिया जाता है। उसके अलावा अपने दफ्तरों में बैठने के समय अफसर मिनरल वॉटर का ही सेवन करते हैं। गाड़ियों में चलते समय भी मिनरल वॉटर ही पीते हैं।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper