शार्ट सर्किट से धधका गारमेंट कारखाना

Farrukhabad Updated Tue, 22 Oct 2013 05:41 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
फर्रुखाबाद। गारमेंट कारखाने में शार्ट सर्किट से आग लग गई। इससे लाखों का माल जलकर राख हो गया। घनी आबादी वाले इलाके में स्थित कारखाने में आग लगने से अफरा-तफरी मच गई। मौके पर पहुंची दमकल ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।
विज्ञापन

शहर कोतवाली के मोहल्ला नारायनदास साहबगंज निवासी निर्दोष साध गारमेंट कारोबारी हैं। उनका कारखाना आवास से थोड़ी दूर पर है। रविवार तड़के करीब 5.30 शार्ट सर्किट से कारखाने में आग लग गई। आग की लपटें देख अफरा-तफरी मच गई। मोहल्ले के लोगों ने निर्दोष को सूचना दी। शटर खोलते ही आग की लपटें विकराल हो गईं। मोहल्ले के लोग सबमर्सिबल चलाकर आग बुझाने में जुट गए। इस दौरान खिड़की और दरवाजे तोड़कर पानी फेंकने की व्यवस्था की गई। मोहल्ले के अभिजीत साध, अमित साध, बबलू, सूरजभान, सुमित साध, संजू आदि आग बुझाने में जुट गए। सूचना पाकर दमकल दस्ता भी मौके पर पहुंचा, लेकिन दमकल गाड़ी का पानी खत्म हो गया। एनएकेपी डिग्री कालेज से पानी की व्यवस्था की गई और दोबारा आग बुझाने की प्रक्रिया शुरू हुई। नखास चौकी प्रभारी श्रीकृष्ण गुप्ता ने कोतवाली पुलिस को जानकारी दी। कुछ ही देर बाद एसएसआई हरिश्चंद्र मौके पर आ गए। पुलिस ने बीच रोड पर गाड़ी खड़ी कर कारखाने वाले रास्ते को बंद कर दिया। करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। गोदाम मालिक निर्दोष साध ने बताया कि तीन लाख से ज्यादा का नुकसान हो गया है।
दमकल विभाग ने सभी नगरपालिका को भेजा पत्र
फर्रुखाबाद। कारखाने में लगी आग बुझाने दमकल प्रभारी जदुनाथ सिंह खुद मौके पर पहुंचे थे। पानी के लिए हुई दिक्कत के बाद उन्होंने बताया कई दिन पहले जिले के सभी पालिका एवं पंचायत के ईओ एवं चेयरमैन को पत्र लिखा गया था। इसमें ट्यूबवेल पर कपलिंग लगाने की मांग की गई थी, ताकि दमकल को पानी के लिए दिक्कत न हो, लेकिन अभी तक ऐसी व्यवस्था नहीं की गई है। अब दोबारा पत्र भेजा जा रहा है। शहर क्षेत्र में मिड रोड पार्किंग से दमकल को काफी दिक्कतें होती है। उनका कहना है कि मिड रोड होने से गाड़ी को काफी समय लग जाता है।

लोगों की तत्परता से बचा लाखों का माल
फर्रुखाबाद। मोहल्लेवासियों की तत्परता से कारखाने में रखा काफी माल बच गया है। निर्दोष साध का परिवार दिल्ली में रहता है। दीवाली पर भारी मात्रा में माल तैयार होता है। इस वजह से निर्दोष खुद यहां आया था। निर्दोष ने बताया कि नीचे के हिस्से में कम माल था। अगर आग ऊपरी मंजिल में पहुंच जाती तो काफी नुकसान होता। मोहल्ले के लोगों ने कारखाने के चोरों तरफ लगे लोहे के दरवाजों को हथौड़ा और सरिया से तोड़ा, जिससे आग पर जल्दी ही काबू पा लिया गया। इसके साथ ही आग की गैस भी आसानी से निकल गई। हालांकि कारखाने में दरार पड़ गई।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us