विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

होमगार्ड वेतन घोटाले में मंडल कमांडेंट समेत पांच गिरफ्तार, गुजरात फॉरेंसिक टीम ने भी की जांच

होमगार्ड की ड्यूटी का फर्जी मस्टर रोल तैयार कर करोड़ों रुपये के वेतन घोटाले के मामले में नोएडा पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अलीगढ़ के मंडलीय कमांडेंट सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

21 नवंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

फैजाबाद

गुरूवार, 21 नवंबर 2019

राम मंदिर निर्माण से पहले लगेगी श्रीराम की प्रतिमा

अयोध्या। रामनगरी में राम की सबसे ऊंची प्रतिमा लगाने की कवायद शुरू हो चुकी है। राम की सबसे बड़ी प्रतिमा लगाने के लिए जमीन खरीदने की स्वीकृति शासन से मिल गई है। किसानों से जमीन खरीदने के लिए राज्यपाल ने क्षेत्रीय पयर्टन अधिकारी आरपी यादव को नामित किया है।
मीरापुर दोआबा में लगभग 61 हेक्टेयर जमीन भगवान राम प्रतिमा के लिए खरीदी जानी है। एक सप्ताह के भीतर जमीन खरीदने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। प्रतिमा स्थापना के लिए 117 करोड़ की पहली किश्त भी शासन ने जारी कर दिया है। इस प्रोजेक्ट को राममंदिर पर काम शुरू होने के पहले शुरू करने पर ही मंथन चल रहा है।
रामनगरी में राम प्रतिमा स्थापित करने के काम में तेजी आ रही है। विशाल प्रतिमा प्रोजेक्ट की डिजाइन को तैयार कर दिसंबर 2019 तक ऑकिटेक्ट से फाइनल करवाने का लक्ष्य है। शासन से जमीन खरीदने की स्वीकृति भी मिल गई है। जिलाधिकारी ने क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को जमीन खरीदने का पत्र भेज दिया है। कुल 61 हेक्टेयर भूमि क्रय की जानी है।
इसके लिए क्षेत्रीय पयर्टन अधिकारी को नामित किया गया है। इससे पहले 24 हेक्टेयर भूमि के अधिग्रहण के लिए पयर्टन विभाग ने नोटिफिकेशन कर रखा है। तीन सौ से ज्यादा किसानों की रजिस्ट्री पर्यटन विभाग के नाम से कराई जानी है। प्रोजेक्ट को लेकर सभी तकनीकी खामियों को दूर कर, एनजीटी, एनएचआई, सिंचाई व प्रदूषण विभाग से एनओसी हासिल करने की समय सीमा मई 2020 तय कर दी गई है।
इसके अलावा प्रोजेक्ट का सीएसआर खाता खोलवाने व इसकी डिजाइन का समय से आरएफपी, आरएफक्यू करवाने का भी निर्देश शासन से दिया गया है। अयोध्या में स्थापित होने वाली विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा 251 मीटर लंबी होगी। 50 मीटर पेडेस्टेल की ऊंचाई, 178 मीटर लंबी प्रतिमा एवं 23 मीटर मूर्ति की छतरी होगी।
श्रीराम की प्रतिमा के अलावा आस-पास के इलाके को पर्यटन के अनुकूल बनाने की भी योजना है। इस परिसर को अंतरराष्ट्रीय स्वरूप प्रदान करने की योजना है। अधिग्रहीत भूमि पर डिजिटल म्यूजियम और रीवर फ्रंट श्रद्धालुओं के आकर्षण के प्रमुख केंद्र होगा। भगवान श्रीराम पर आधारित डिजिटल म्यूजियम, इंटरप्रटेशन सेंटर, लाइब्रेरी, पार्किंग, फूड प्लाजा, लैंडस्केपिंग समेत पर्यटकों के लिए अन्य आकर्षण होंगे।
क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरपी यादव ने बताया कि जमीन खरीदने के लिए शासन से स्वीकृति मिल गई है। एक सप्ताह में जमीन खरीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। 117 करोड़ की पहली किश्त मूर्ति स्थापना के लिए शासन से जारी की जा चुकी है। मई 2020 से मूर्ति लगाने का काम शुरू कर तीन साल में काम पूरा करने का लक्ष्य है।
... और पढ़ें

भव्य मंदिर और गैर विवादित ट्रस्ट की चहुंओर चर्चा

अयोध्या। अयोध्या मामले में आए फैसले की खुशी रामनगरी में अब नजर आने लगी है। अयोध्या का अमन, चैन, सद्भाव व शांति यह बयां कर रहा है कि हर वर्ग के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सहर्ष स्वीकार किया है। फैसले के दस दिन बीतने को है अयोध्या अब अपनी रौ में लौट चुकी है। बंदिशों में ढील दी जा रही है तो भक्तों का बेरोकटोक आना-जाना जारी है। दूसरी तरफ नगरी के हर नुक्कड़-नाके, पर बस एक ही विमर्श छिड़ा है कि रामलला का बनने वाला मंदिर भव्यतम हो। राममंदिर की भव्यता-दिव्यता संग ट्रस्ट की चर्चा में रामनगरी मशगूल हो चुकी है।
अयोध्या का जनजीवन पटरी पर लौट चुका है। प्रतिदिन हजारों भक्तों का आवागमन अयोध्या के सौहार्द को और गाढ़ा करने का का कर रहा है। अयोध्या में संवेदनशील इलाकों की सुरक्षा सख्त है, मगर अब बंदिशें काफी कम रह गई हैं। भक्तों का बेरोक टोक आना-जाना जारी है। इस बीच अब सिर्फ एक चर्चा है कि कोर्ट के फैसले के राममंदिर की भव्यता-दिव्यता कैसी होगी। अयोध्या के तीर्थ नगर के रूप में विकास का मॉडल कैसा होगा। साथ ही ट्रस्ट में कौन-कौन होंगे और मुखिया कैसे तय होगा।
नयाघाट पर सुबह करीब 9:30 बजे एक दुकान पर चाय पी रहे कैलाश मिश्र कहते हैं सदियों के संघर्ष के बाद यह दिन देखने को मिलेगा हमें तो दिव्य व भव्य मंदिर चाहिए ट्रस्ट भी ऐसा बने जो निर्विवादित हो। यहीं मौजूद महंत हनुमान दास कहते हैं कि ऐसा मंदिर बने जैसा दुनिया में दूसरा न हो। मौका मिला है तो राममंदिर को भव्यता देने में कोई कसर नहीं छोड़ी जानी चाहिए। हम साधु-संत जिस दिन भव्य राममंदिर में हमारे रामलला विराजेंगे उसकी खुशी इस तरह मनाएंगे कि त्रेतायुग रामनगरी में जीवंत प्रतीत होता दिखेगा।
कुछ दूर आगे बढ़ने पर छात्र रवि शर्मा कहते हैं कि ट्रस्ट का स्वरूप अब जल्द तय कर राममंदिर निर्माण की भूमिका सबके सामने रखनी चाहिए। हमें तो राममंदिर बनने के साथ-साथ अयोध्या की तरक्की का भी इंतजार है। रामजन्मभूमि न्यास कार्यशाला में राजस्थान, गुजरात, बिहार के श्रद्धालुओं का जत्था राममंदिर के लिए तराशे गए पत्थर को एक टक से निहार रहा था, मानों उन पत्थरों में उन्हें राम की छवि नजर आ रही थी।
सांता बेन बोलती हैं कि अब इन पत्थरों के भी दिन बहुरने वाले हैं राममंदिर में जो इनका प्रयोग है। राजस्थान के अखिलेश कुमार बोले कि मंदिर ऐसा बनना चाहिए जो कि अतुलनीय एवं अलौकिक हो। बताया कि अयोध्या की धार्मिक आभा तो राममंदिर निर्माण से ही निखरेगी।
रामनगरी भक्तों से गुलजार है तो बंदिशों में भी ढील दी जा रही है। कई स्थानों पर बैरियर हटा दिए गए हैं लेकिन, रामकोट क्षेत्र को अभी भी बंदिशों से मुक्ति नहीं मिली है। हनुमानगढ़ी, कनकभवन, रामजन्मभूमि की ओर जाने वाले मार्गों पर अभी बैरियर लगे हुए हैं। स्थानीय लोगों एवं साधु-संतों का कहना है कि अब अयोध्या सामान्य हो चुका है ऐसे में रामकोट में भी ढील दी जानी चाहिए।
उधर निर्मोही अखाड़ा ने प्रधानमंत्री से मिलने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से समय मांगा है। निर्मोही अखाड़ा ने इसके लिए एक प्रतिवेदन प्रधानमंत्री को भेजा है। निर्मोही अखाड़ा के प्रवक्ता प्रभात सिंह ने बताया कि सोमवार को जिलाधिकारी अनुज कुमार झा से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा गया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ई-मेल भी किया गया है। उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के क्रम में निर्मोही अखाड़ा का पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मिलना चाहता है। निर्मोही अखाड़ा प्रधानमंत्री से मिलकर राममंदिर ट्रस्ट में शामिल होने के लिए अनुरोध करेगा।
... और पढ़ें

आठ मतदाता करेंगे भाजपा महानगर अध्यक्ष का चुनाव

अयोध्या। भाजपा जिलाध्यक्ष व महानगर अध्यक्ष संगठनात्मक चुनाव को लेकर जानकारी देते हुए चुनाव अधिकारी व पूर्व सांसद अष्टभुजा शुक्ला ने बताया कि 20 नवंबर को पार्टी कार्यालय पर चुनाव की प्क्रया संपन्न कराई जाएगी। नामांकन पत्र का वितरण दिन में 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक होगा। 1 बजे से 1:30 बजे तक नामांकन पत्रों की जांच होगी। 1:30 से 2:30 बजे तक नाम वापसी की जा सकेगी। महानगर में आठ मतदाता महानगर अध्यक्ष का चुनाव करेंगे।
बताया कि महानगर अध्यक्ष चुनाव हेतु महानगर के मतदाताओं में रवि सोनकर मंडल अध्यक्ष करियप्पा नगर, आलोक द्विवेदी मंडल अध्यक्ष देवकाली, बालकृष्ण वैश्य मंडल अध्यक्ष अयोध्या, नंद कुमार सिंह मंडल अध्यक्ष पूरा, जिला प्रतिनिधियों में राममिलन निषाद, उमाशंकर सिंह, लक्ष्मण वर्मा, शिव नारायन तिवारी शामिल हैं।
बताया कि जिलाध्यक्ष के नामांकन हेतु कुल निर्वाचित मंडल अध्यक्षों व जिला प्रतिनिधियों में से संयुक्त रूप से 10 प्रतिशत निर्वाचित मंडल अध्यक्ष व जिला प्रतिनिधियों द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाना है। अयोध्या में महानगर में संख्या कम होने के कारण एक प्रस्तावक व एक समर्थक द्वारा प्रस्ताव किया जाएगा। जिलाध्यक्ष नामांकन के लिए प्राथमिक सदस्य 6 वर्ष तथा दो बार सक्रिय सदस्य, एक बार पहले व एक बार अब होना चाहिए। प्रदेश परिषद के लिए अयोध्या महानगर से एक सदस्य का निर्वाचन होगा।
... और पढ़ें

रामनगरी की सांस्कृतिक विरासत से भी रूबरू होंगे पर्यटक

नितिन कुमार मिश्र
अयोध्या। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट से आए फैसले के बाद जहां राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो गया है, वहीं राममंदिर निर्माण से पूर्व अयोध्या की धार्मिक एवं सांस्कृतिक आभा निखारने की भी कवायद तेज कर दी गई है। राममंदिर के बाद सांस्कृतिक केंद्र के रूप में अयोध्या का वैभव निखरेगा, इसकी तैयारी शुरू हो चुकी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मोदी एवं योगी सरकार त्रेतायुग जैसी नई अयोध्या का सपना साकार करने की तैयारी में जुट गई है।
प्रदेश की योगी सरकार की त्रेतायुग जैसी दीपावली ने तीन साल में अयोध्या में पर्यटकों को आकर्षित करने से लेकर सुख-सुविधाएं देने की शुरूआत की थी। अब राममंदिर निर्माण से पहले अयोध्या का सजाने संवारने का काम भी गति पकड़ता नजर आ रहा है। सरकार का ध्यान अयोध्या के धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने पर तो है ही इसके साथ ही साथ ही सांस्कृतिक केंद्र के रूप में भी अयोध्या को विकसित करने की योजना पर काम शुरू हो चुका है।
इसके तहत अयोध्या में जहां भगवान राम की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा स्थापित होने जा रही है। वहीं अयोध्या शोध संस्थान को हाईटेक किए जाने की तैयारी है। यहां लोग कहीं से भी ऑनलाइन रामलीला देख सकेंगे। भजन संध्या स्थल रामनगरी में सांस्कृतिक एवं धार्मिक आयोजन का प्रमुख केंद्र बनेगा। इसी तरह रामलीला एकेडमी खोलने की भी तैयारी है जिससे युवा पीढ़ी को राम की गाथा से जोड़ा जा सके, अन्य कई योजनाएं अयोध्या को सांस्कृतिक केंद्र के रूप में विकसित करेंगी।
ऑनलाइन देख सकेंगे रामलीलाओं का मंचन
अयोध्या शोध संस्थान को भी हाईटेक करने की तैयारी है। अयोध्या शोध संस्थान 17 करोड़ से डुिजिटल होने जा रहा है। इससे यहां रखी कलाकृतियों को अब लोग एक क्लिक से ऑनलाइन देख सकेंगे। साथ ही विदेशों में होने वाली रामलीलाओं का मंचन भी ऑनलाइन देखा जा सकेगा।
सरकार ने 4.50 करोड़ की धनराशि स्वीकृत भी कर दी है। योजना की डिजाईन भी तैयार है, शीघ्र ही डिजिटलीकरण का काम भी शुरू हो जाएगा। यहां इंडोनेशिया, अमेरिका, त्रिनिडाड, श्रीलंका, थाईलैंड, मलेशिया, सूरीनाम, रूस, लाओस, फिजी आदि देशों की रामलीला सामग्री, संग्रह हस्तशिल्प में देश देश के विभिन्न कोने से रामकथा का संकलन, टेरोकोटा के माध्यम से विभिन्न शैलियों में रामकथा अंकन तथा विभिन्न चित्र शैलियों में रामकथा का चित्रांकन आकर्षण का केंद्र है। लोग इन्हें अब आनलाइन देख सकेंगें। पुस्तकालय में अयोध्या के हेंस बेकर, अवध गजेटियर, विभिन्न प्रदेश के गजेटियर तथा तुलसी कृत लगभग 200 ग्रंथ शोधार्थियों हेतु उपलब्ध हैं।
धनुषाकार भजन संध्या स्थल का करीब 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। शीघ्र ही भक्तों एवं श्रद्धालुओं के लिए सुलभ होगा। पांच हजार की क्षमता वाले भजनसंध्या स्थल में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। सपा सरकार की इस योजना को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अनुमोदित करते हुए इसके बजट में 6 करोड़ की वृद्धि की थी। प्रस्तावित योजना मई 2018 तक पूरी होनी थी लकिन बजट बढ़ने के बाद कार्यदाई संस्था रिवाइज स्टीमेट भेजा गया और कार्य में देरी हुई। हालांकि भजन संध्यास्थल का कार्य अब पूर्णता की ओर है। भजन संध्यास्थल स्टेडियम नुमा बना है, बीच में ग्रीनरी विकसित की गई है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए लाईंट साउंड सिस्टम भी लगाए जाने की योजना तैयार की जा चुकी है।
अयोध्या। रामनगरी के सरयू नदी के तट पर बने भारत और कोरिया के ऐतिहासिक संबंधों का साक्षी कोरियाई पार्क अब पर्यटन कर केंद्र बनेगा। इसके विस्तारीकरण का काम चल रहा है। ढ़ाई एकड़ में 24.66 करोड़ खर्च कर कोरियाई पार्क का स्वरूप निखरेगा।
विस्तारित कोरिया पार्क का स्वरूप अब न सिर्फ भव्य होगा, बल्कि यह भारत-कोरिया संबंधों की गौरव गाथा बयां करेगा साथ ही अयोध्या आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बनेगा। नया पार्क प्लाजा, मेडिटेशन सेंटर सहित अन्य आधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। ढ़ाई एकड़ में बनने वाले पार्क में दोनों देशों की वास्तुकलाओं का संगम दिखेगा, यह पार्क देशी एवं विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र हो, ऐसा प्रयास है।
कोरियाई पार्क अब किंग पवेलियन, क्वीन पवेलियन, मेडिटेशन सेंटर, पाथवे, पार्किंग सहित अन्य सुविधाओं से युक्त होगा। वास्तुकारों ने किंग सूरो के ईश्वरीय प्रतिनिधि होने की परिकल्पना को साकार करते हुए गोल्डेन एग के साथ महारानी हौ की अयोध्या से कोरिया के बीज जलयात्रा के वृतांत का दृश्यांकन किया है।
अयोध्या में स्थापित होने जा रही विश्व की सबसे ऊंची 251 मीटर की श्रीराम प्रतिमा रामनगरी की धार्मिक आभा बढ़ाने का काम करेगी। इसके लिए जमीन खरीदने का प्रस्ताव हो चुका है पहली किश्त में 117 करोड़ का बजट भी स्वीकृत हो चुका है। राममंदिर के साथ-साथ विशाल श्रीराममूर्ति भी अयोध्या का गौरव बढ़ाएगी।
श्रीराम की प्रतिमा के अलावा आस-पास के इलाके को पर्यटन के अनुकूल बनाने की भी योजना है। इस परिसर को अंतरराष्ट्रीय स्वरूप प्रदान करने की तैयारी चल रही है। अधिग्रहीत भूमि पर डिजिटल म्यूजियम और रीवर फ्रंट श्रद्धालुओं के आकर्षण के प्रमुख केंद्र होगा। भगवान श्रीराम पर आधारित डिजिटल म्यूजियम, इंटरप्रटेशन सेंटर, लाइब्रेरी, पार्किंग, फूड प्लाजा, लैंडस्केपिंग समेत पर्यटकों के लिए अन्य आकर्षण होंगे। इस योजना को 2022 तक पूर्ण करने की तैयारी है।
अयोध्या अब रामलीला एकेडमी खोलने की भी तैयारी हो चुकी है। रामलीला एकेडमी की स्थापना के लिए रामनगरी में जमीन देखी जा रही है। इस योजना को 2022 तक मूर्त रूप देने की तैयारी है। रामनगरी में रामलीला एकेडमी की स्थापना से रामलीला के वैश्विक स्वरूप पर शोध करने में सहायता मिलेगी।
राम की संस्कृति के अध्ययन के लिए कोर्सेज भी चलाए जाएंगे। साथ ही रामलीला आधारित म्यूजियम भी विकसित करने की योजना है। अयोध्या शोध संस्थान के व्यवस्थापक रामतीरथ बताते हैं कि प्रदेश सरकार ने इसके लिए 10 करोड़ का बजट भी निर्धारित कर दिया है। जमीन देखी जा रही है जमीन चिन्हित होेते ही उसका अधिग्रहण कर काम शुरू कर दिया जाएगा। एकेडमी में एक म्यूजियम भी स्थापित किया जाएगा जिसमें रामलीला के अलग-अलग संदर्भों को विभिन्न शैलियों में प्रस्तुत किया जाएगा।
अयोध्या में रामायण सर्किट योजना के अंतर्गत राम, रामायण और अयोध्या की डिजिटल प्रस्तुति साकार होने जा रही है। इसके लिए रामकथा संग्रहालय में नया आडीटोरियम बनेगा। संस्कृति विभाग ने इसकी डिजाइन तैयार कर ली है। जल्द ही डिजीटल रामायण गैलरी में राम की गाथा जीवंत प्रतीत होती दिखेगी। रामकथा संग्रहालय में ही इसके लिए आडिटोरियम बनाने का निर्णय लिया गया है, यह रामायण की थीम पर आधारित होगा।
जहां आडियो, वीडियो वजिुुअल के माध्यम से रामायण के चरित्रों का प्रदर्शन किया जाएगा। इस योजना के तहत अभी तक जो श्रद्धालु रामायण को किताबों में और टीवी सीरियल के माध्यम से देखा करते थे, वह सारे प्रसंग नए अंदाज में यहां देख सकेंगे। बड़ी-बड़ी एलईडी स्क्रीन पर राम की गाथा का विविध माध्यमों से प्रदर्शन पर्यटकों को भी लुभाएगा।
... और पढ़ें
अयोध्या स्थित रामनगरी का विहंगम दृश्य। अयोध्या स्थित रामनगरी का विहंगम दृश्य।

भाजपा जिलाध्यक्ष पर 6 तो महानगर अध्यक्ष पद पर 12 नामांकन

अयोध्या। भाजपा संगठनात्मक चुनाव में जिलाध्यक्ष पद को लेकर पार्टी कार्यालय पर व महानगर अध्यक्ष का चुनाव की प्रक्रिया अयोध्या स्थित कनक महल में संपन्न हुई। इस दौरान जिलाध्यक्ष पद के लिए छह व महानगर अध्यक्ष पद पर 12 प्रत्याशियों ने नामांकन किया।
नामांकन के दौरान दोनों चुनाव स्थल पर नेताओं व समर्थकों की भारी भीड़ जमा रही। दोनों जगहों पर पुलिस बल तैनात किया गया था, पार्टी कार्यालय पर बैरीकेडिंग की गई थी। ध्यान रहे कि जिलाध्यक्ष पद पर 40 व महानगर अध्यक्ष पद पर मात्र आठ मतदाता हैं।
भाजपा मीडिया प्रभारी दिवाकर सिंह ने बताया कि महानगर अध्यक्ष पद पर नामांकन करने वालों में वर्तमान महानगर अध्यक्ष कमलेश श्रीवास्तव, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अभिषेक मिश्रा, मनोज श्रीवास्तव, मनमोहन जायसवाल, शैलेंदर कोरी, परमानंद मिश्रा, दिनेश मिश्रा, कमलाकांत सुंदरम, रणधीर सिंह डब्लू, प्रमोद मौर्या, स्मृता तिवारी, अरविंद सिंह शामिल रहे।
वहीं जिलाध्यक्ष पद पर नामांकन करने वालों में वर्तमान जिलाध्यक्ष अवधेश पांडेय बादल, कृष्ण कुमार पांडेय खुन्नू, मगन लाल वर्मा, राधेश्याम त्यागी, संजीव सिंह, इं. रणवीर सिंह शामिल रहे। प्रांतीय परिषद सदस्य में अयोध्या विधानसभा से शैलेंद्र मोहन मिश्रा, अभय श्रीवास्तव, जिले में बीकापुर से इंद्रभान सिंह, मिल्कीपुर से चन्द्रबली सिंह, गोसाईगंज से कमलाशंकर पांडेय, रुदौली से अशोक कसौधन व धर्मेंद्र सिंह शामिल रहे।
महानगर में नामांकन के दौरान अयोध्या स्थित कनक महल में महंत मनमोहन दास, डा. बांके बिहारी मणि त्रिपाठी, ओम प्रकाश सिंह, डा. चन्द्र प्रकाश त्रिपाठी, रमेश दास, क्षेत्रीय उपाध्यक्ष किसान मोर्चा मुन्ना सिंह, शैलेन्द्र मोहन मिश्रा छोटे, दिवाकर सिंह, अनुज दास, गिरीश पांडेय डिप्पुल, रीना द्विवेदी, शकुंतला गौतम, राजेश सिंह, टीपू सिंह, आकाश मणि त्रिपाठी मौजूद रहे।
पार्टी कार्यालय में जिलाध्यक्ष के नामांकन के दौरान मवई ब्लाक प्रमुख राजीव तिवारी, पूर्व प्रमुख इंद्रभान सिंह, रमेश सिंह, पूर्व चेयरमैन अशोक कसौधन, ब्रहमानंद शुक्ला, अभय सिंह, चन्द्रबली सिंह, शेखर जायसवाल, गोरकन द्विवेदी, अखण्ड प्रताप सिंह डिप्पल, अशोक मिश्रा, विकास सिंह, दिव्य प्रकाश तिवारी, अमर बहादुर सिंह, राजेश सिंह, आकाश मणि त्रिपाठी मौजूद रहे।
अयोध्या। भाजपा जिला व महानगर अध्यक्ष के चुनाव में सत्ताधारी नेताओं व जनप्रतिनिधियों ने जमकर अपने रसूख का प्रयोग किया। अपने-अपने समर्थकों को इन पद पर काबिज कराने के लिए जनप्रतिनिधियों द्वारा मंडल अध्यक्ष व जिला प्रतिनिधियों को प्रस्तावक न बनने का दबाव तो डाला ही गया तो वहीं सत्ता का प्रयोग कर कुछ पर अनैतिक दबाव भी डाला गया।
सूत्रों के अनुसार जिलाध्यक्ष पद पर हुए कुल 6 नामांकन में से 4 नामांकन बिना प्रस्तावक के हुए है, तो वहीं महानगर अध्यक्ष के लिए किए 12 नामांकन में मात्र तीन को ही प्रस्तावक नसीब हो सके। फिलहाल अब गेंद प्रदेश नेतृत्व के पाले में है, इन दोनों पदों पर 30 नवंबर तक परिणाम आने की संभावना है।
भाजपा जिलाध्यक्ष का चुनाव पार्टी के जिला कार्यालय व महानगर अध्यक्ष का चुनाव अयोध्या के कनक महल में हुआ। इसको लेकर सुबह से दोनों स्थानों पर पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं की गहमा गहमी बनी रही। वहीं, इस चुनाव में अपने-अपने समर्थकों को पद पर काबिज कराने के लिए रसूखदार नेता व जनप्रनिधियों ने जमकर सत्ता व अपने रसूख का प्रदर्शन भी किया।
दोनों पदों पर निर्विरोध चयन न होने के कारण मंडल अध्यक्ष व जिला प्रतिनिधियों को किसी अन्य का प्रस्तावक बनने से भी रोका गया तो वहीं एक प्रत्याशी को सत्ता के हनक से भी डराया धमकाया भी गया। वहीं, इसकी शिकायत लखनऊ होने पर चुनाव प्रभारियों द्वारा सभी प्रत्याशियों का नामांकन पत्र ले लिया गया।
सूत्रों के अनुसार दोनों पदों पर दाखिल किए गए नामांकन में अधिकांश प्रत्याशियों ने बिना प्रस्तावक के ही नामांकन दाखिल किया है। इनमें से जिलाध्यक्ष पद पर दो व महानगर अध्यक्ष पद पर तीन नामांकन में प्रस्तावक होने की सूचना है। फिलहाल चुनाव प्रभारी दोनों पदों पर हुए नामांकन पत्र को लेकर लखनऊ रवाना हो गए हैं, अब प्रदेश कार्यालय से ही दोनों पदों पर सामंजस्य बैठाने का प्रयास किया जाएगा।
अयोध्या में हुए महानगर अध्यक्ष के चुनाव के नामांकन के दौरान महानगर के एक पदाधिकारी व एक जनप्रतिनिधि के पुत्र के बीच जमकर नोकझोंक हुई। वहीं एक जनप्रतिनिधि के करीबी प्रत्याशी ने प्रस्तावक एक मंडल अध्यक्ष व प्रत्याशी को नामांकन दाखिल करने से रोके जाने पर जमकर वाद विवाद हुआ। इस दौरान मौजूद पुलिस बल व चुनाव अधिकारियों द्वारा बीचबचाव किया गया।
चुनाव प्रभारियों के अनुसार निर्विरोध चुनाव न हो पाने की दशा में अब इसका फैसला प्रदेश नेतृत्व पर छोड़ दिया गया। महानगर चुनाव की सह प्रभारी सरोज कुमारी ने बताया कि बिना प्रस्तावक के हुए नामांकन को वैध नहीं माना जाएगा। बाकी इस पर प्रदेश नेतृत्व का निर्णय ही मान्य होगा।
बताया कि 30 नवंबर तक दोनों पदों पर नाम तय कर दिए जाएंगे। जिला चुनाव अधिकारी डा. राकेश त्रिपाठी ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया सकुशल संपन्न हो गई है। नामांकन करने वालों प्रत्याशियों की सूची व सभी मंडल अध्यक्ष, जिला प्रतिनिधियों, सांसद, विधायक की राय की रिपोर्ट प्रदेश नेतृत्व को सौंप दी गई है।
... और पढ़ें

हिंदू नेता की बाइक को कार ने मारी टक्कर, साथी घायल

अयोध्या। हिंदू नेता व बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के आरोपी संतोष दूबे की बाइक को अज्ञात कार सवार ने टक्कर मार दी। हिंदू नेता ने आरोप लगाया कि कार सवार ने उन्हें व उनके साथी को दो बार कुचलने की कोशिश की। हादसे में वो बाल-बाल बच गए लेकिन, उनका एक साथी गंभीर रूप से घायल हो गया। मामले की तहरीर पुलिस को दी गई है।
पुलिस को दी तहरीर में संतोष दूबे ने बताया कि बुधवार दोपहर करीब दो बजे वह अपने साथी बृजेश दूबे के साथ बाइक से अपने गांव बीकापुर जा रहे थे। इस दौरान पूराकलंदर थाना क्षेत्र के मसौधा के आगे एक कार सवार ने उन्हें टक्कर मार दी। आरोप है कि टक्कर मारने के बाद उन्हें कार सवार ने दोबारा कुचलने का प्रयास किया। बाद में भीड़ एकत्र होने के बाद वो मौके से फरार हो गए। बताया कि हादसे में उनके साथी बृजेश दूबे को गंभीर चोटें आई हैं, उनका इलाज चल रहा है। इस संदर्भ में थाना प्रभारी पूराकलंदर मारकंडेय सिंह ने बताया घटना की तहरीर मिली है, जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

1.20 लाख कुंतल गन्ना पेराई का लक्ष्य, कल से शुरू होगी पेराई

अयोध्या। केएम शुगर मिल में पेराई सत्र का प्रारंभ 22 नवंबर से होगा। पेराई सत्र प्रारंभ की तैयारियां पूरी कर चीनी मिल प्रबंधन ने हवन पूजन के साथ शुभ मुहूर्त पर शुभारंभ के लिए जिला अधिकारी अनुज कुमार झा आमंत्रित किया है। वहीं चीनी मिल ने इस बार एक करोड़ 20 लाख कुंतल गन्ना खरीद व पेराई का लक्ष्य रखा है। जिसके लिए मिल प्रबंधन ने पहली खेप में गन्ना आपूर्ति के लिए गन्ना विकास समिति मसौधा को 2 लाख 10 हजार कुंतल गन्ना आपूर्ति इंडेंट भेज दिया है।
मिल के अधिशासी निदेशक एससी अग्रवाल ने बताया कि चीनी मिल में गन्ना पेराई का कार्य शुरू करने की तैयारियां पूरी हैं। इसके लिए सभी गन्ना समितियों को समय से गन्ना आपूर्ति कराने के लिए अनुरोध किया गया है। साथ ही यह भी कहा गया है कि समिति के जिम्मेदार अधिकारी समय से गन्ना आपूर्ति कराने में सहयोग करें। जिससे किसान समस्याओं से बच सकें और चीनी मिल को भी गन्ना खरीद मे दिक्कत न हो।
समितियों को कहा गया है कि किसान कई दिनों पूर्व कांटा और छीला गया गन्ना आपूर्ति ना करें। बताया कि चीनी मिल प्रबंधन द्वारा गन्ना समितियों के सचिवों और जेष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों से इस बात भी अपेक्षा जताई गई है कि सभी समिति प्रभारी गन्ना किसानों के हित को देखते हुए समय से गन्ना आपूर्ति कराने में पारदर्शिता बरतने के साथ-साथ किसानों में गन्ना आपूर्ति पर्चियों का वितरण समय से कराएं। जिससे गन्ना किसान समय से गन्ने की आपूर्ति कर सकें।
यही वजह रही कि चीनी मिल प्रबंधन ने इस बार सत्र प्रारंभ होने के सप्ताह भर पूर्व ही से सभी गन्ना समितियों को गन्ना खरीद इंडेंट भेज दिया और गन्ना आपूर्ति पर्ची समितियों को उपलब्ध करा दी गई। जिसमें गन्ना समिति मसौधा को 2 लाख 10 हजार कुंतल गन्ना आपूर्ति इंडेंट भेज दिया है।
... और पढ़ें

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर विश्व हिंदू परिषद के ट्रस्ट का दावा मजबूत, सरकार भी थी समर्थन में

राममंदिर निर्माण का हक हासिल करने की लड़ाई में विश्व हिंदू परिषद के ट्रस्ट का दावा मजबूत दिख रहा है। फैसला आने से पहले भी सरकार इस ट्रस्ट के साथ न सिर्फ खड़ी थी बल्कि, सुप्रीम कोर्ट में न्यास को आवंटित भूमि लौटाने की पैरवी भी कर चुकी है। अब बदले परिदृश्य में सरकार के समक्ष अयोध्या एक्ट के प्रावधानों के तहत भी विहिप ने रामजन्मभूमि न्यास का दावा प्रस्तुत कर दिया है। यह काम रामालय ट्रस्ट के दावे से पहले का बताया जा रहा है। पूरे अभियान की अगुवाई अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय कर रहे हैं, उनके साथ कानूनी सलाहकारों की एक टीम भी है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद विराजमान रामलला के भव्य मंदिर निर्माण की कवायद अयोध्या एक्ट के प्रावधानों के तहत होनी है। इसे लेकर केंद्र सरकार को अपनी भूमिका स्पष्ट करते हुए न्यास के चयन से लेकर संपत्ति के प्रबंध व प्रशासन की योजना बनानी है। सूत्र बताते हैं कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सक्रिय हैं, भव्य और दिव्य राममंदिर से लेकर अयोध्या को पर्यटन हब बनाने की योजना पर मंथन चल रहा है।
... और पढ़ें

मशीन में फंसकर युवक की मौत

खामियों के बावजूद 406 कॉलेजों के पाठ्यक्रमों को दी मान्यता

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विवि प्रशासन की ओर से खामियों के बावजूद 406 महाविद्यालयों के पाठ्यक्रमों को स्थायी मान्यता दे दी है।
एक ही दिन में 300 महाविद्यालयों के पाठ्यक्रमों की मान्यता पर भी प्रश्न चिन्ह खड़े हो रहे हैं। साथ ही महाविद्यालयों की जांच के लिए गठित एकल पैनल की टीमों पर भी अगुलिंया उठनी शुरू हो गई हैं।
बिना स्थाई प्राचार्य नियुक्त हुए किसी भी महाविद्यालय को स्थाई मान्यता नहीं देने का नियम होते हुए भी 198 प्राचार्यविहीन कॉलेजों को स्थाई मान्यता दे दी गई। कई कोर्सों के शिक्षक तक नहीं है। मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से लेकर राज्यपाल तक की गई है।
अवध विवि का कार्यक्षेत्र बाराबंकी, अयोध्या, गोंडा, बहराइच, सुल्तानपुर, अमेठी व अंबेडकरनगर जनपद है। मौजूदा समय में इन जनपदों के 730 से अधिक महाविद्यालय संबद्ध है।
विवि प्रशासन पिछले सत्र तक अस्थाई, स्थाई व विस्तारण की मान्यताएं प्रदान करता था लेकिन मौजूदा सत्र से सिर्फ स्थाई मान्यता ही दिए जाने का नियम बना लिया गया।
इसी नियम से अब तक 406 महाविद्यालयों के पाठ्यक्रमों को स्थाई मान्यता दे दी गई है। इसमें गोलमाल किए जाने की बात सामने आने लगी हैं। विवि प्रशासन के इस कृत्य पर कोर्ट सदस्य ओम प्रकाश ने सवाल खड़ा करते हुए शिकायत की है।
कोर्ट सदस्य ने कुलपति से लेकर मुख्यमंत्री तक से जांच के लिए पत्र लिखा है। उनके पत्र में बताया गया है कि 198 प्राचार्य विहीन महाविद्यालयों को स्थाई मान्यता दे दी है जोकि नियमों की अनदेखी है।
कोर्ट सदस्य के अनुसार किसी भी दशा में प्राचार्य विहीन महाविद्यालयों को स्थाई मान्यता नहीं दी जानी चाहिए। उनका आरोप है कि स्थाई मान्यता के एकल समिति गठित किया जाना भ्रष्टाचार को बढ़ावा देता है। आरोप यह भी है कि स्थाई मान्यता में छात्र संख्या के अनुरूप अध्यापकों की नियुक्ति, विषयवार अध्यापकों की नियुक्ति, मानक के अनुरूप बिल्डिंग न होने के बावजूद भी स्थाई मान्यता दे दी गई है। इस सब के पीछे बड़ा खेल है, जो भ्रष्टाचार को बढ़ावा देता है।
... और पढ़ें

नौनिहालों को शीघ्र मिलेगा स्वेटर

अयोध्या। जिले के करीब 2096 परिषदी स्कूलों में पढ़ रहे करीब 1.91 लाख नौनिहालों को शीघ्र ही स्वेटर मिलेगा। अब इसके वितरण का रास्ता साफ हो गया है।
मंगलवार को करीब पंद्रह हजार स्वेटर की पहली खेप जिला मुख्यालय पर पहुंच चुकी है। एक-एक दिन के अंतराल पर इसी तरह स्वेटर आपूर्ति किया जाएगा। जिसे तीस नवंबर तक प्रत्येक दशा में वितरित कर दिया जाएगा।
परिषदीय स्कूलों से बच्चों व अभिभावकों को मोहभंग न होने पाए, साथ ही समय से उन्हें ठंडी से बचाया जाए, इसके लिए शासन की ओर से लगातार विभिन्न योजनाओं का संचालन किया जा रहा है।
इस बार भी अक्तूबर माह तक स्वेटर वितरण कराने की रूपरेखा तय की गई थी, लेकिन समय से टेंडर न होने के कारण यह कार्य तय समय तक नहीं हो सका।
विलंब से टेंडरिंग कराने के उपरांत लुधियाना की एक फर्म को कार्य आवंटित किया गया है जिसने कार्य आवंटन के पश्चात शीघ्रता से आपूर्ति कार्य प्रारंभ किया है।
जिला समन्वयक सुनील श्रीवास्तव ने बताया कि मंगलवार को पंद्रह हजार स्वेटर की पहली खेप जिला मुख्यालय पर पहुंची है। जिसका वितरण बुधवार से नगर क्षेत्र के किसी विद्यालय से समारोहपूर्वक कराने की तैयारी की जा रही है।
बताया कि इसी तरह जैसे-जैसे स्वेटर आपूर्ति होता रहेगा, वितरण कराया जाता रहेगा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी एसके देव पांडेय ने बताया कि स्वेटर आपूर्ति प्रारंभ हो चुकी है, इसी माह के अंत तक सभी स्कूलों में वितरित कर दिया जाएगा।
... और पढ़ें

गुमराह करने वाले लेखपाल को डीएम ने दी प्रतिकूल प्रविष्टि

अयोध्या। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने गलत तथ्य प्रस्तुत किए जाने पर लेखपाल को प्रतिकूल प्रविष्टि दे दी। उन्होंने तहसीलदार को यह निर्देश दिया है। साथ ही रजिस्ट्रार कानूनगो को आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिया। जिले में कुल 482 शिकायतें आई इनमें से 16 का मौके पर निस्तारण किया गया।
बीकापुर प्रतिनिधि के मुताबिक, लेखपाल किशोरी लाल के खिलाफ यह कार्रवाई डीएम ने बलराम पुत्र भगवत प्रसाद निवासी ग्राम बसंतपुर से प्रस्तुत शिकायती प्रार्थना-पत्र बाबत गाटा सं. 168 चकमार्ग व गाटा सं. 96 खलिहान भूमि पर विपक्षीगण के कब्जे की शिकायत पर की।
इसके संदर्भ में लेखपाल किशोरी लाल ने डीएम को गलत तथ्य प्रस्तुत किया गया। बताया गया कि मौके पर कोई कब्जा नहीं है, जबकि जांच में मौके पर राजस्व टीम ने 10 फीट लंबाई व 1.50 फीट चौड़ाई के पक्के दीवार के रूप में अवैध कब्जा पाया गया। लेखपाल ने उच्चाधिकारियों को गुमराह किया।
डीएम ने राजस्व के मामलों का निस्तारण गंभीरता के साथ करने और निस्तारित मामलों की गुणवत्ता नियमित चेक करने का निर्देश दिया। कहा कि जिन शिकायतों के निस्तारण के लिए संयुक्त टीमों द्वारा स्थलीय निरीक्षण कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए है। उन प्रकरणों के निस्तारण के लिए टीमें आज सायं तक गठित कर ली जाए।
दो दिनों के अंदर टीमें कार्रवाई कर समय से आख्या प्रस्तुत करें। उन्होंने वरासत के प्रकरणों को समय से निस्तारित करने के निर्देश दिया। कहा कि निर्धारित समय सीमा के अंदर वरासत दर्ज किया जाना सुनिश्चित किया जाए। समाधान दिवस में 165 मामले आए इनमें से पांच का मौके पर निस्तारण किया गया।
मिल्कीपुर प्रतिनिधि के मुताबिक, समाधान दिवस में अपर जिलाधिकारी प्रशासन संतोष कुमार सिंह ने फरियादियों की शिकायतें सुनी। प्राप्त 98 शिकायतों में तीन शिकायतों का मौके पर किया निस्तारण।
सोहावल प्रतिनिधि के मुताबिक, उप जिलाधिकारी ज्योति सिंह, सीओ सदर निपुण अग्रवाल की मौजूदगी में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस पर कुल 67 मामले आए। इनमें से एक शिकायत का मौके पर निस्तारण कर दिया गया। सदर तहसील में उपजिलाधिकारी आयुष चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित तहसील दिवस में कुल 67 शिकायतें आई। इसमें से तीन का मौके पर निस्तारण कर दिया गया।
रुदौली प्रतिनिधि के मुताबिक, मुख्य राजस्व अधिकारी पुरुषोत्तम दास गुप्ता की अध्यक्षता में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में 85 शिकायतें आई इनमें सेे चार शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election