बाढ़ राहत केंद्र पर सड़ा चार टन आलू

फैजाबाद Updated Fri, 03 Nov 2017 10:59 PM IST
Rotten Potato At Flood Relief Center
फैजाबाद-पूराबाजार में फेंके गये सड़े आलू। - फोटो : अमर उजाला
पूराबाजार। विभागीय लापरवाही के चलते बाढ़ पीड़ितों में बटने वाला चार टन आलू सड़ गया, जिसे सरयू नदी में शुक्रवार को बहाया गया। इसे लेकर बाढ़ पीड़ितों में काफी आक्रोश है। उनका कहना है कि यदि समय से यह आलू बाढ़ पीड़ितों में बंट गया होता, तो आज इसे फेंकना नहीं पड़ता।
मामला सदर तहसील के अंतर्गत ग्राम पंचायत जलालुद्दीन नगर में स्थित दशरथ समाधि स्थल के परिसर में बने अस्थाई बाढ़ राहत केंद्र का है। लगभग 5 माह पूर्व माझा क्षेत्र के दर्जन भर गांव बाढ़ की चपेट में आकर जलमग्न हो गए थे।

इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आकर राहत सामग्री के वितरण की शुरुआत की, इसके बाद 20 किलो आलू और 20 किलो आटा-चावल समेत दाल-मसाला, नमक, माचिस आदि का पीड़ितों में वितरण शुरू हुआ।

तहसील प्रशासन ने बाढ़ पीड़ितों के जख्म पर मरहम लगाने के लिए खाद्य वस्तुओं के साथ-साथ सैकड़ों क्विंटल आलू मंगवाया था, जिसे पूरा वितरित नहीं किया जा सका और लगभग 40 क्विंटल आलू राहत केंद्र में पड़े रहने से सड़ गया।

तेजी से दुर्गंध फैलने पर लोगों ने उसे हटाने की मांग पुलिस चौकी प्रभारी से की तो प्रशासन हरकत में आया और आनन-फानन में शुक्रवार की सुबह मूड़ाडीहा लेखपाल सूरजभान यादव ने नदी में फेंकवाया। प्रकरण में लेखपाल व ग्राम प्रधान कुछ भी बताने से बचते रहे।

बाढ़ पीड़ित पंचलाल यादव ने कहा कि बाढ़ के दिनों में खाद्य वस्तुएं न मिलने पर हम सब भुखमरी के कगार पर थे और आज लगभग 40 क्विंटल आलू नदी में फेंका गया, जिससे जल भी प्रदूषित होगा। जिसकी शिकायत उच्चाधिकारियों के साथ-साथ मुख्यमंत्री से भी किया जाएगी। 

एसडीएम सदर मधुसूदन नागराज हुलगी ने बताया कि बाढ़ पीड़ितों को खाद्य सामान मुहैया कराने का काम बाराबंकी के एक ठेकेदार को दिया गया था। सड़ा हुआ आलू संबंधित ठेकेदार का है, जिसे वह वापस नहीं ले गया और सड़ गया। ग्रामीणों की शिकायत पर अब उसे फेंकवा दिया गया है।

जबकि बाढ़ एवं आपदा राहत के नोडल अधिकारी अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व मदनचंद दुबे ने बताया कि सड़ा हुआ आलू बाढ़ पीड़ितों के वितरण के लिए नहीं रखा हुआ था। मुख्यमंत्री के आने के दिन से सभी बीस-बीस किलो आलू बाढ़ पीड़ितों को अभियान चला कर वितरित किया गया था। मौके पर मिले सड़े आलू का राजस्व विभाग से कोई मतलब नहीं है। राजस्व विभाग की ओर से बाढ़ पीड़ितों के लिए कोई भी आलू वितरित करना शेष नहीं था।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Jhajjar/Bahadurgarh

धनखड़, बराला व कैप्टन की मंशा खराब, नहीं चाहते प्रदेश में बने भाईचारा

धनखड़, बराला व कैप्टन की मंशा खराब, नहीं चाहते प्रदेश में बने भाईचारा

19 फरवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen