भीड़ ने घेरा उपकेंद्र, दफ्तर छोड़ भागे कर्मी

अमर उजाला ब्यूरो/फैजाबाद Updated Wed, 09 Mar 2016 11:21 PM IST
विज्ञापन
लाइनमैन की मृत्यु के बाद रोते-बिलखते परिजन।
लाइनमैन की मृत्यु के बाद रोते-बिलखते परिजन। - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बिजली उपकेंद्र बाकरगंज क्षेत्र के गांव बीकापुर में अभियंताओं ने ट्रांसफार्मर का फॉल्ट ठीक करने के लिए एक प्राइवेट लाइनमैन को पोल पर चढ़ाया, मगर अचानक पावर सप्लाई चालू करने वह चिपक गया। आपूर्ति बंद करवा आधे घंटे बाद लाइनमैन को सीएचसी पहुंचाया गया तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
विज्ञापन

इसके बाद परिवारीजनों समेत ग्रामीणों ने आक्रोशित होकर उपकेंद्र का घेराव कर दिया। इस पर बिजली कर्मी दफ्तर छोड़ भाग गए। घंटेभर तक किसी अधिकारी के न आने पर भीड़ ने उपकेंद्र के सामने ही सड़क पर शव रखकर अकबरपुर-फैजाबाद मार्ग जाम कर दिया। प्रदर्शनकारी दोषियों पर कार्रवाई और मुआवजे की मांग पर अड़े रहे।
किसी तरह अधिकारियों ने साढ़े तीन घंटे बाद आश्वासन देकर जाम खुलवाया।  क्षेत्र में बिजली आपूर्ति बाधित होने की शिकायत पर उपकेंद्र बाकरगंज से निजी लाइनमैनों राजकुमार व श्रीकिशन को खराबी दूर करने के लिए भेजा गया था। लाइनमैन राजकुमार पंपारपुर गांव में लाइन की खराबी ठीक करने चला गया तो श्रीकिशन ट्रांसफार्मर में आई खराबी ठीक करने बीकापुर गांव पहुंच गया।
रोस्टिंग कराने के बाद श्रीकिशन ने ट्रांसफार्मर पर चढ़कर काम शुरू किया। वह काम कर ही रहा था कि अचानक उपकेंद्र से आपूर्ति चालू कर दी गई। इससे वह ऊपर से गुजर रही एचटी लाइन की चपेट में आ गया और झुलसने के साथ पोल के एंगल में फंस गया। लगभग आधे घंटे तक वह खंभे पर लटका रहा।

माजरा देख लोगों ने फोन कर आपूर्ति बंद कराई और झुलसे लाइनमैन को सीएचसी भिजवाया। जहां डॉक्टरों ने क्षेत्र के मेदनीपुर जिगिनीपुर निवासी लाइनमैन को मृत घोषित कर दिया। इधर मामले की जानकारी पर मृतक के परिवारीजन तथा क्षेत्र के लोग बिजली उपकेंद्र पहुंच गए और प्रदर्शन शुरू कर दिया।

माजरा देख उपकेंद्र कर्मी भाग खड़े हुए। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेने की कोशिश की लेकिन प्रदर्शनकारी किसी जिम्मेदार अधिकारी के मौके पर आने और मुआवजा दिये जाने की मांग पर अड़े रहे। पुलिस ने हाथ पीछे खींच लिया। आक्रोशित भीड़ शव को लेकर फैजाबाद-अकबरपुर मुख्य मार्ग पर पहुंच गई और लगभग एक बजे रोड जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया।

मौके की नजाकत को देखते हुए आसपास के थानों की पुलिस बुला ली गई। जेई रवि प्रकाश सिंह ने मृतक के उपकेंद्र पर काम करने की पुष्टि की, हालांकि अन्य सवालों का जवाब नहीं दिया। अधिशाषी अभियंता एसपी यादव ने फोन ही नहीं उठाया।

जिला मुख्यालय से एडीएम प्रशासन चतुर्भुजी गुप्ता, एसपी देहात कुलदीप नारायण, एसडीएम सदर दीपा अग्रवाल ने मौके पर पहुंच प्रदर्शनकारियों से वार्ता की और आश्वासन देकर मामला शांत कराया। साथ ही अंतिम संस्कार के लिए पीड़ित परिवार को 10 हजार रुपये नकद दिया गया। तब जाकर शाम करीब चार बजे मार्ग पर यातायात बहाल हो पाया।

इस दौरान करीब तीन घंटे तक मुख्य मार्ग पर आवागमन बाधित रहा। जिसके चलते दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लगी रही। एसपी देहात ने बताया कि उपकेंद्र प्रभारी के खिलाफ रिपोर्ट, पीड़ित परिवार को आर्थिक मुआवजे का आश्वासन देकर भीड़ को शांत कराया गया और यातायात बहाल कराया गया। पुलिस मामले में जांच के बाद विधिक कार्रवाई करेगी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X