3 डिग्री पर पारा, सात साल का सबसे ठंडा दिन

Faizabad Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
फैजाबाद। पहाड़ों की बर्फबारी को पछुआ हवा मैदानों में पहुंचा रही है। जिससे गुरुवार को अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री लुढ़क कर 12 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा गया, जबकि न्यूनतम सामान्य से चार डिग्री गिरकर 3 डिग्री पर पहुंच गया। अधिकतम तापमान में इतनी गिरावट पिछले सात सालों में कभी नहीं देखी गई। स्थिति यह थी कि धूप निकलने के बाद भी हांड़ कंपकंपा देने वाली ठंड से लोगों को निजात नहीं मिली। इसके चलते लोग दिनभर घरों में दुबके रहे। मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन दिनों तक ऐसा ही मौसम रहेगा।
नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज का मौसम विज्ञान विभाग भी गुरुवार की सर्दी से दंग रह गया। दरअसल, इसके पास वर्ष 2005 तक की ठंड के ही आंकड़े मौजूद हैं। इससे पहले की स्थिति क्या थी? विभागीय को नहीं मालूम है। पता है तो बस इतना कि पिछले सात वर्षों में ऐसी ठंड कभी नहीं पड़ी, जब अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री और न्यूनतम सामान्य से चार डिग्री कम रहा हो। आर्र्दता अधिकतम सौ तो न्यूनतम 86 पहुंच गई है।
मौसम विज्ञान विभाग के पर्यवेक्षक शंख माधव त्रिपाठी कहते हैं सात वर्षों में गुरुवार का दिन सर्वाधिक ठंडा रहा। धूूप के बावजूद ठंड और गलन कम नहीं हो रही है। वजह के सवाल पर कहा, पहाड़ों की बर्फबारी को पछुआ हवा मैदानों में पहुंचा रही है। इससे गलन और सर्दी में इजाफा हो गया है। बच रही कमी को कोहरा और बदली पूरा कर रही है।
ठंड और गलन बढ़ने से लोग दिन भर घरों में दुबके रहे। नौकरी पर बाहर निकले लोग कांपते रहे। पैरों और हाथों में नश्तर लगने जैसा दर्द पूरे दिन बना रहा। शाम हुई तो गलन और बढ़ गई। सबसे बुरा हाल बेजुबान पशुओं का रहा। कहीं अलाव जला मिला तो उसके आसपास जानवर भी मंडराते रहे। नगर पालिका अध्यक्ष विजय कुमार गुप्त ने कहा कि ठंड को देखते हुए हर साल की अपेक्षा इस बार सर्वाधिक 64 स्थलों पर अलाव जल रहे हैं।

Spotlight

Most Read

National

VHP के पदाधिकारी अब भी तोगड़िया के साथ, फरवरी के अंत तक RSS लेगा ठोस फैसला

संघ की कोशिश अब फरवरी के अंत में होने वाली विहिप की कार्यकारी की बैठक से पहले तोगड़िया की संगठन में पकड़ खत्म करने की है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper