बड़ी देवकाली की मूर्तियां रिलीज

Faizabad Updated Thu, 29 Nov 2012 12:00 PM IST
फैजाबाद। बड़ी देवकाली मंदिर से चोरी के बाद बरामद हुई यह पुरातात्विक महत्व की तीन मूर्तियों को बुधवार को सीजेएम कोर्ट ने रिलीज कर दिया। रिलीज आर्डर दियरा रियासत के रियासतदार व राजराजेश्वरी सीताराम जी महाराज ट्रस्ट व महारानी देवकाली मंदिर ट्रस्ट के सरबराहकार के पक्ष मेें हुआ है। इसके साथ शर्त यह है कि बरामदशुदा तीनों मूर्तियों की विभिन्न कोणों से फोटो खिंचवाकर मय निगेटिव विवेचक व सरबराहकार के हस्ताक्षर से अदालत में दाखिल करें और 10 हजार एक रुपये के जमानतनामे व इतनी ही राशि का बंधपत्र भी दाखिल किया जाए। यह आदेश बुधवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुनील कुमार वर्मा की अदालत से हुआ।
ज्ञात हो कि 22 सितंबर की रात चोरों ने शहर के प्रसिद्ध बड़ी देवकाली मंदिर से मां काली, मां लक्ष्मी, मां सरस्वती के विग्रह गायब कर दिया था। सुबह इसकी जानकारी होने पर मंदिर के प्रधान पुजारी गिरजा शंकर पाठक ने कोतवाली नगर में रिपोर्ट अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराई थी। शहर में महीने भर आंदोलन के बाद पुलिस ने 22 अक्तूबर को नवीन मंडी बाईपास से चार लोगों करमजीत मौर्य निवासी खालिसपुर थाना जैतपुर जिला अंबेडकरनगर, विजय नारायण पांडेय उर्फ डब्लू पांडेय निवासी धनुसिंहपुर पांडेय का पुरवा थाना अतरौलिया जिला आजमगढ़, सुभाष कुमार यादव निवासी हरसिया डिहवा थाना सरपतहा जिला जौनपुर व जयपूजन शर्मा निवासी मझगवां सूरजपुर थाना कादीपुर जिला सुल्तानपुर को गिरफ्तार किया था। तलाशी के दौरान इनके पास से बड़ी देवकाली से चोरी मूर्तियों के अलावा एक प्राचीन अष्टधातु की मूर्ति भी बरामद हुई थी। तबसे चाराें आरोपी जेल में हैं। इन मूर्तियों को अवमुक्त करने के लिए दियरा स्टेट के रियासतदार व मंदिर के प्रधान पुजारी गिरजाशंकर पाठक ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में प्रार्थना पत्र दिया था। अधिवक्ता लालजी गुप्त ने मूर्तियों का परीक्षण कराने के लिए प्रार्थना पत्र दिया था। इस मामले में उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में याचिका भी हुई थी, जिसमें सुनवाई के बाद हाई कोर्ट ने मामले में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था। इस रिट याचिका को रामानुजप्रताप शाही ने वापस लेने के लिए बीते 16 नवंबर को अर्जी दी। जिसकी सुनवाई के लिए अगली पेशी 30 नवंबर नियत की गई है। इस आशय का शपथ पत्र भी उन्होंने सीजेएम की अदालत में प्रस्तुत किया है। प्रधान पुजारी गिरजाशंकर पाठक ने अदालत में शपथ पत्र देकर कहा है कि यदि मूर्तियां दियरा रियासत के सरबराहकार के पक्ष में अवमुक्त कर दी जाती हैं तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। सुनवाई के बाद अदालत ने आदेश सुरक्षित कर लिया था। बुधवार को अदालत ने इन मूर्तियों को सशर्त अवमुक्त करने का आदेश दिया। इसके साथ शर्त यह है कि मूर्तियों के स्वरूप में आवेदक कोई परिवर्तन नहीं करेंगे। न्यायालय द्वारा जब भी मूर्तियां तलब की जाएंगी, उन्हें प्रस्तुत किया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली: प्लास्टिक फैक्ट्री में लगी आग, 9 लोगों की मौत, 10 फायर ब्रिगेड मौके पर

देश की राजधानी दिल्ली के औद्योगिक इलाके बवाना में शनिवार देर शाम एक प्लास्टिक फैक्ट्री में भीषण आग लग गई।

20 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper