हिंदुत्ववादी संसद लाकर करेंगे मंदिर का निर्माण

Faizabad Updated Tue, 27 Nov 2012 12:00 PM IST
अयोध्या। रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का विषय कोर्ट के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता। यह निर्णय कोर्ट नहीं देश की संसद करेगी और यदि मौजूदा संसद ऐसा नहीं करेगी तो हिंदुत्ववादी संसद लाएंगे। यह चेतावनी दी विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संरक्षक अशोक सिंहल ने।
वे कारसेवकपुरम में संत सम्मेलन के मौके पर मुख्य वक्ता की हैसियत से विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने इस मौके पर मौजूद संतों और राम भक्तों से रामजन्मभूमि पर देश के विशालतम मंदिर निर्माण के संकल्प का आह्वान किया। साथ ही कहा कि न केवल रामजन्मभूमि बल्कि संपूर्ण अयोध्या को उसका पूर्व गौरव वापस दिलाएंगे। हिंदुत्ववादी संसद लाने के विषय पर उन्होंने कहा कि यदि पूर्व की रामलहर में अपने 180 लोगों को संसद में पहुंचाया था तो इस बार 300 से अधिक लोगों को पहुंचाएंगे। विहिप सुप्रीमो ने विश्वास जताया कि यदि संत आश्रम छोड़कर निकल पड़ेंगे तो यह लक्ष्य प्राप्त करना आसानी से संभव है। श्री सिंहल ने रामजन्मभूमि आंदोलन का एजेंडा भी दोहराया। बताया कि यह आंदोलन मात्र ईंट-गारे के मंदिर के लिए नहीं है बल्कि इस देश की धर्म, संस्कृति और दर्शन की रक्षा का आंदोलन है। राम राज्य की प्रतिष्ठा का आंदोलन है। इस बीच उन्होंने जहां गो, गंगा, मंदिर आदि हिंदुत्व के प्रतीकों की उपेक्षा पर आक्रोश जताया। वहीं रामजन्मभूमि-बाबरी मसजिद विवाद हल कराने का प्रयास कर रहे अवकाश प्राप्त न्यायमूर्ति पलोक बसु का नाम लेते हुए कहा कि कुछ लोग हिंदू समाज में फूट पैदा करना चाहते हैं। विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संगठन महामंत्री दिनेश ने बताया कि मंदिर-मसजिद विवाद का सद्भावपूर्ण हल निकालने के नाम पर साजिश हो रही है। अध्यक्षता महंत सियाकिशोरी शरण ने की व संचालन विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने किया। रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास, मंत्रार्थ मंडपम के महंत हरिदास, बड़ा भक्तमाल के महंत कौशल किशोर दास, दंतधावन कुंड के महंत नारायणाचारी, रामबल्लभाकुंज के अधिकारी राजकुमारदास, महंत अवध किशोरशरण, अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैयादास रामायणी, विहिप के महानगर अध्यक्ष महंत बृजमोहनदास समेत खासी संख्या में संत मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls