निर्माण कार्यों में ताक पर रखे नियम

Faizabad Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
फैजाबाद। डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय की सत्र 2010-11 की ऑडिट रिपोर्ट में अनियमित कृत्यों का भंडाफोड़ हुआ है। उत्तर पुस्तिकाओं की खरीद, सुरक्षा फर्म के चयन के साथ ही निर्माण कार्यों में गड़बड़ी भी उजागर हुई है। विवि प्रशासन ने वित्तीय दिशा निर्देशों को ताक पर रखकर ठेकेदार को तकरीबन पांच लाख रुपये नकद दे दिए। भवन में उपकरण भी कम लगाए गए। ऑडिट टीम ने महिला छात्रावास व दीक्षा भवन के निर्माण से संबंधित फाइलों की पड़ताल की। इसमें पाया गया कि छात्रावास का बगैर विस्तार किए ही इसकी लागत डेढ़ करोड़ कर दी गई। पहले यह एक करोड़ रुपये थी। बगैर टेंडर के ही यूपीसीएल को कार्य दिया गया। इससे विवि को प्रतिस्पर्धात्मक दर से वंचित कर दिया गया। पीडब्लूडी शेड्यूल रेट के विपरीत 20 लाख का अधिक भुगतान कर दिया गया। मानकाें की अनदेखी कर फर्म को 1.25 करोड़ का अग्रिम भुगतान किया गया। पंखा, ट्यूब लाइट, लैम्प होल्डर, स्ट्रीट लाइट समेत दर्जन भर उपकरणों की आपूर्ति के बगैर ही इस मद में 1.43 लाख रुपये का भुगतान करने का मामला ऑडिट में सामने आया है। रिपोर्ट में उल्लेख है कि बाह्य उपकरण लगाने में बड़े पैमाने पर अनियमितता बरती गई है। भवन की गुणवत्ता पर भी संदेह जताया गया। जांच टीम ने भवन में सेक्सन कटिंग कर तकनीकी समिति से गुणवत्ता की जांच कराने की जरूरत बताई गई है। दीक्षा भवन में 43.20 लाख रुपये का अधिक भुगतान कर दिया गया है। कुलसचिव व भवन समिति भी निर्माण की कच्छप गति पर नाराजगी जता चुके हैं। निर्माण कार्य इस्टीमेट के विपरीत कराया गया है। विवि के अनुदेशों की उपेक्षा भी की गई। दूसरी ओर विवि प्रशासन ने कार्य संतोषजनक पाते हुए 90 लाख रुपये की अंतिम किस्त भी अवमुक्त कर दी। मानचित्र के विपरीत निर्माण पर दंडात्मक कार्रवाई की संस्तुति आडिट टीम ने की है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

आप विधायक के इस बयान से मुश्किल में पड़ सकते हैं केजरीवाल, कहा- '...ऐसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए'

केजरीवाल के आवास पर मुख्य सचिव से हाथापाई मामले में फजीहत झेल रही आम आदमी पार्टी अपने एक विधायक के विवादित बयान से बड़ी मुश्किल में फंस सकती है।

23 फरवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen